राम मंदिर पर VHP की धर्मसभा: भैयाजी बोले- हम भीख नहीं मांग रहे, देश रामराज्‍य चाहता है

वीएचपी के महासचिव सुरेंद्र जैन ने कहा कि अगर किसी स्थिति में संसद के शीतकालीन सत्र में विधेयक नहीं लाया गया तो अगली ‘धर्म संसद’ में आगे के कदम पर फैसला होगा.

News18Hindi
Updated: December 9, 2018, 2:48 PM IST
News18Hindi
Updated: December 9, 2018, 2:48 PM IST
संसद के शीतकालीन सत्र के शुरू होने के पहले अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए विधेयक पेश करने की मांग तेज हो गई है. लोकसभा चुनाव नज़दीक आते-आते राम मंदिर का मुद्दा और ज़ोर पकड़ रहा है. अयोध्या के बाद अब दिल्ली में भी विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की ओर से रविवार को धर्मसभा आयोजित होने जा रही है. इसके लिए देशभर से संत-साधु रामलीला मैदान में जुटे हैं.

धर्मसभा में आएसएस के सर कार्यवाह भैयाजी जोशी भी शामिल हुए. उन्‍होंने अपने भाषण में कहा- 'राम मंदिर निर्माण से ही भविष्‍य का राम राज्‍य तय होगा. अदालत को भी देश की भावनाएं समझनी चाहिए. देश राम राज्‍य चाहता है, भावनाओं का सम्‍मान हो. हम भीख नहीं मांग रहे हैं. लोगों की भावनाओं का सवाल है. कोर्ट का सम्‍मान करते हुए इंतजार किया. कोर्ट की प्रतिष्‍ठा बनी रहनी चाहिए.'

विश्व हिंदू परिषद की 'विराट धर्मसभा' में पांच लाख लोगों के रामलीला मैदान पहुंचने का दावा किया गया है. धर्मसभा सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक चलेगी.


इस धर्म सभा को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरकार्यवाह सुरेश (भैया जी) जोशी के बाद जूना अखाड़ा पीठाधीश्वर महा-मंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरी महाराज, श्रीजगन्नाथ पीठाधीश्वर जगद्गुरु रामानंदाचार्य स्वामी हंसदेवाचार्य, गीता मनीषी महा-मंडलेश्वर स्वामी ज्ञानानंद, युग पुरुष परमानंद, वात्सल्य ग्राम संस्थापक दीदी मां साध्वी ऋतंभरा,  विश्व हिंदू परिषद् के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष जस्टिस (रिटायर्ड) विष्णु सदाशिव कोकजे और कार्याध्यक्ष एडवोकेट आलोक कुमार सहित कई संत और जाने-माने लोग संबोधित करेंगे.

वीएचपी ने इस बाबत कहा है कि वह आश्वस्त है कि संसद के आगामी सत्र के दौरान विधेयक पेश किया जाएगा, जिससे अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का रास्ता प्रशस्त होगा. वीएचपी प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा, ‘रामलीला मैदान में धर्म संसद को आरएसएस के कार्यकारी प्रमुख सुरेश भैय्याजी जोशी संबोधित करेंगे. यह विशाल रैली होगी जो अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए विधेयक लाने का समर्थन नहीं करने वाले सारे लोगों का हृदय परिवर्तन कर देगी.’

यह भी पढ़ें: अयोध्या में राम लला के एक नहीं, अनेकों मंदिर हैं, जानिए उनकी कहानी

वीएचपी के महासचिव सुरेंद्र जैन ने कहा कि अगर किसी स्थिति में संसद के शीतकालीन सत्र में विधेयक नहीं लाया गया तो अगली ‘धर्म संसद’ में आगे के कदम पर फैसला होगा. इसका आयोजन अगले साल 31 जनवरी और एक फरवरी को महाकुंभ के इतर इलाहाबाद में होगा .
Loading...

बंसल ने कहा कि वीएचपी अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे और इसके अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार भी रैली को संबोधित करेंगे.

यह भी पढ़ें: 6 दिसंबर : जब अब्बास की मां ने हिन्दू पड़ोसियों के लिए बनाया था खाना
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर