लाइव टीवी

DELHI: 'आप' का दावा, रिपोर्ट में जिनके नाम हैं, उनके घर से नहीं लिया गया पानी का सैंपल, BJP ने किया पलटवार

News18Hindi
Updated: November 20, 2019, 9:42 PM IST
DELHI: 'आप' का दावा, रिपोर्ट में जिनके नाम हैं, उनके घर से नहीं लिया गया पानी का सैंपल, BJP ने किया पलटवार
अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान पर सवाल खड़े किए.

दिल्ली (Delhi) में प्रदूषित पानी पर सियासी रार लगातार जारी है. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal) और केंद्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन (Dr. Harsvardhan) में एक बार फिर से ट्वीटर वार शुरु हो गया. केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने दिल्ली सरकार की मुफ्त पानी बांटने वाली योजना पर फिर सवाल खड़े किए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 20, 2019, 9:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) में पानी (Water) की गुणवत्ता पर आई केंद्र सरकार (Central Government) की रिपोर्ट के बाद दिल्ली की राजनीति में आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है. बुधवार को आम आदमी पार्टी (AAP) ने दावा किया कि दिल्ली में पानी की गुणवत्ता पर राजनीति करने के लिए जमकर फर्जीवाड़ा किया गया है. 'आप' ने आरोप लगाया, 'केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान (Ram Vilas Paswan) की ओर से जारी सूची में जिनके नाम हैं, उनके घर से सैंपल लिया ही नहीं गया.' वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने भी आम आदमी पार्टी के दावे पर पलटवार किया. हर्षवर्धन ने ट्वीट करते हुए कहा, 'स्वास्थ्य मंत्री होने के नाते मैं कह सकता हूं कि इस समय दिल्ली के अस्पतालों में बड़ी संख्या में बीमार बच्चों को लाया जा रहा है. ये अधिकतर बच्चे गंदे पानी के कारण बीमार पड़े हैं, जो इस बात का सबूत है कि अरविंद केजरावील जी ने दिल्ली के पानी और वायु प्रदूषण पर ध्यान नहीं दिया.'

बता दें कि केंद्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन के ट्वीट से पहले दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) ने ट्वीट करते हुए कहा था, ‘सत्ता का ऐसा दुरुपयोग देख कर बहुत दुख होता है. अपने ही पार्टी के पदाधिकारी के घर से पानी का सैम्पल ले कर आपने पूरी दिल्ली की जनता में डर फैला कर बहुत गलत किया है रामविलास पासवान जी. इस तरह की हरकत एक संवैधानिक पद पर बैठे मंत्री को शोभा नहीं देता.’

बता दें, दिल्ली में पानी की गुणवत्ता पर आई भारतीय मानक ब्यूरो (Bureau of Indian Standards) की रिपोर्ट को बीते शनिवार को ही केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने जारी किया था. बुधवार को आम आदमी पार्टी ने एक प्रेस रिलीज जारी करते हुए कहा है कि केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान की ओर से जारी सूची की जांच में मीडिया ने पाया कि लिस्ट में जिनके नाम हैं, उनके घर से सैंपल लिया ही नहीं गया. साथ ही जिनके घर से सैंपल लिए गए उन्होंने पानी की कभी शिकायत ही नहीं की है.

इससे पहले पानी की गुणवत्ता को लेकर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि बीते 26 सितंबर 2019 को ही केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh Shekhawat) ने कहा था कि दिल्ली का पानी यूरोप स्टैंडर्ड का है. उनके जल मंत्रालय ने दिल्ली के 20 जगहों से सैंपल लिए थे. 6 अक्टूबर को दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी से भी इस बारे में पूछा गया था और उन्होंने भी जल मंत्रालय की रिपोर्ट पर सहमति जताई थी. अब इस पर राजनीति शुरू हो रही है, जो अच्छी बात नहीं है.

अरविंद केजरीवाल ने ये भी कहा था कि डब्ल्यूएचओ (WHO) के स्टैंडर्ड के हिसाब प्रति 10 हजार की आबादी पर सैंपल लेने चाहिए. इस हिसाब से दिल्ली से 2000 सैंपल उठाने चाहिए थे. दिल्ली जलबोर्ड ने कुछ महीने पहले 1.55 लाख सैंपल उठाये थे, उसमें लगभग 2200 सैंपल फेल हुए. एक लाख 53 हजार पास हुए. आने वाले दिनों में हम हर वार्ड से 5-5 सैंपल उठाएंगे. उनकी चेकिंग कराएंगे और उनका डेटा सामने रखेंगे.

ये भी पढ़ें: 

BJP सांसद सुधांशु त्रिवेदी के भाषण पर राज्यसभा में क्यों नहीं हुई टोका-टाकी?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 9:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर