सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इसलिए तोड़ा गया संत रविदासजी का मंदिर

पंजाब के जालंधर सहित कई शहरों में सड़कों को जाम कर प्रदर्शन किया जा रहा है. दिल्ली-हरियाणा में भी विरोध-प्रदर्शन जारी है. समाज के एक तबके में संत रविदास को मानने वाले लोगों की तादाद काफी ज्‍यादा है.

News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 9:27 AM IST
सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इसलिए तोड़ा गया संत रविदासजी का मंदिर
फाइल फोटो- सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर डीडीए ने संत रविदास जी का मंदिर ढहा दिया है.
News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 9:27 AM IST
तुगलकाबाद, दिल्ली में संत रविदासजी का मंदिर तोड़े जाने के बाद से चारों ओर विरोध हो रहा है. पंजाब के जालंधर सहित कई शहरों में सड़कों को जाम कर प्रदर्शन किया जा रहा है. दिल्ली-हरियाणा में भी विरोध-प्रदर्शन जारी है. गौरतलब रहे कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली विकास प्रधिकरण (डीडीए ) ने मंदिर के ढांचे को ढहा दिया था.

इसलिए मंदिर को ढहाने का लिया गया फैसला

तुगलकाबाद में संत रविदासजी का भव्य मंदिर बना है. एक खास वर्ग के साथ-साथ सिख समाज भी संत रविदासजी में आस्था रखता है. डीडीए (DDA) का आरोप है कि मंदिर का निर्माण जंगल की ज़मीन पर किया गया था. इस बारे में कई बार इसे हटाने के लिए कहा गया, लेकिन संत रविदासजी जयंती समारोह समिति ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया. सुप्रीम कोर्ट (supreme court) का आदेश आने के बाद भी मंदिर को जंगल की ज़मीन से नहीं हटाया गया, तब जाकर 9 अगस्त को एक बार फिर से सुप्रीम कोर्ट ने मंदिर को ढहाए जाने का आदेश जारी किया और डीडीए के दस्ते ने उस मंदिर को हटा दिया.

ज़मीन के बारे में क्या कहती है मंदिर समिति

संत रविदासजी जयंती समारोह समिति का दावा है यह मंदिर संत रविदास की याद में बनवाया गया था. संत रविदास बनारस से पंजाब की ओर जा रहे थे, तब उन्होंने करीब 500 साल पहले इस स्थान पर आराम किया था. एक जाति विशेष के लिए यहां पर एक बावड़ी भी बनवाई थी जो आज भी मौजूद है. उस वक्त खुद सिकंदर लोदी ने संत रविदास जी को यह जमीन दान की थी. लेकिन, मंदिर का निर्माण हुआ करीब 1954 में. एक जाति विशेष के लोग इस मंदिर को बहुत मानते हैं. यही कारण है कि मंदिर के टूटने के बाद से उनका समाज नाराज़ है. मंदिर से सिखों की आस्था इसलिए जुड़ी हुई है, क्योंकि सिखों का मानना है कि संत रविदासजी की उच्चारण की हुई वाणी गुरु ग्रंथ साहिब में मौजूद है.

ये भी पढ़ें-तिहाड़ जेल के इन 12 बंदियों की वजह से 370 हटने पर भी शांत है कश्मीर

देशभर में अपराधों की बाल की खाल निकालेंगे ये 3221 अफसर, दी गई खास ट्रेनिंग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 14, 2019, 8:28 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...