कैदी ने मेट्रिमोनियल साइट पर बनाया प्रोफाइल, बॉयफ्रेंड से मिलने तिहाड़ जेल पहुंची युवती

दिल्ली की हाई सिक्योरिटी वाली तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में एक कैदी (Prisinor) ने इंटरनेट (Internet) का इस्तेमाल कर मैट्रिमोनियल साइट (Matrimonial site) पर अपना प्रोफाइल बना लिया.

News18Hindi
Updated: August 12, 2019, 5:17 PM IST
कैदी ने मेट्रिमोनियल साइट पर बनाया प्रोफाइल, बॉयफ्रेंड से मिलने तिहाड़ जेल पहुंची युवती
कैदी ने जेल परिसर में स्थित एक बैंक में खाता खुलवाया था, जिसमें उसने युवती को नॉमिनी बनाया है. (File Photo)
News18Hindi
Updated: August 12, 2019, 5:17 PM IST
दिल्ली की हाई सिक्योरिटी वाली तिहाड़ जेल (Tihar Jail) से एक हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है. यहां आजीवन कारावास की सजा काट रहे एक कैदी (Prisinor) ने इंटरनेट (Internet) का इस्तेमाल कर मैट्रिमोनियल साइट (Matrimonial site) पर अपना प्रोफाइल बना लिया. उसके बाद कैदी ने साइट पर युवती से दोस्ती कर ली. कैदी ने युवती को बताया कि वो तिहाड़ जेल में कार्यरत है. इसके बाद कैदी ने युवती को मिलने के लिए बुलाया. युवती उससे मिलने भी पहुंच गई. जेल अधिकारियों की लापरवाही के चलते युवती जुलाई महीने में चार दिन तक कैदी से कई-कई घंटों तक मिलती रही. इस बात का खुलासा होने के बाद जेल मुख्यालय ने विभागीय जांच के आदेश दे दिए हैं. जेल अधिकारियों का कहना है कि जांच रिपोर्ट में जिसकी लापरवाही सामने आएगी, उसके खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी.

मिली जानकारी के मुताबिक, जेल संख्या दो में बंद एक कैदी ने वहां लगे कंप्यूटर और इंटरनेट का इस्तेमाल किया. वहीं से उसने मैट्रिमोनियल साइट से एक युवती से दोस्ती की. एक कैदी कुछ महीनों से युवती के संपर्क में था. कैदी ने जुलाई में 26 दिन की पैरोल ली थी. इसी दौरान उसने युवती से बाहर मुलाकात की थी. पैरोल खत्म होने के बाद कैदी जिस दिन वापस जेल में पहुंचा. उसी दिन युवती भी कैदी से मिलने जेल में पहुंच गई. युवती हर रोज आकर कैदी से घटों तक मुलाकात करने लगी.

युवती ने खुद को बताया एनजीओ की कार्यकर्ता
कुछ दिन पहले एक अधिकारी की नजर युवती पर पड़ी तो उसने पूछताछ की. कर्मचारियों ने बताया कि युवती को अंदर आने की इजाजत दी गई है. जांच करने पर पता चला कि जेल अधीक्षक की ओर से युवती को दिए गए पास में उसे एक स्वयंसेवी संस्था से जुड़ी कार्यकर्ता बताया गया था. इस पर कुछ शक हुआ तो पुलिस ने एनजीओ के अधिकारियों को महिला का नाम बताया तो धोखाधड़ी सामने आई.

कैदी ने जेल परिसर में स्थित बैंक में खाता खोल युवती को बनाया नॉमिनी
जेल के कैदियों को कपड़े बांटने के बहाने युवती ने जेल परिसर में प्रवेश किया था. इस दौरान युवती अपने साथ कैदी से मिलने के लिए एक बच्चे को भी लेकर आई थी. शुरुआती जांच में पता चला कि कैदी ने जेल परिसर में स्थित एक बैंक में खाता खुलवाया था, जिसमें उसने युवती को नॉमिनी बनाया है.

इस मामले पर तिहाड़ जेल के प्रवक्ता एआईजी राज कुमार ने कहा कि उन्होंने इस संबंध में शिकायत दर्ज होने के बाद मामले में जांच का आदेश दिया था. पुलिस जांच कर रही है कि क्या वास्तव में युवती का एनजीओ से कोई लेना-देना था या नहीं. मामले में अभी जांच चल रही है.
Loading...

ये भी पढ़ें-

दिल्‍ली: मेट्रो कर्मचारी ने फेसबुक LIVE कर की खुदकुशी
First published: August 12, 2019, 5:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...