होम /न्यूज /धर्म /02 अक्टूबर से 08 अक्टूबर तक के व्रत-त्योहार, जानें कब है महानवमी, विजयादशमी, पापांकुशा एकादशी

02 अक्टूबर से 08 अक्टूबर तक के व्रत-त्योहार, जानें कब है महानवमी, विजयादशमी, पापांकुशा एकादशी

इस साल शारदीय नवरात्रि की महानवमी 04 अक्टूबर को है.

इस साल शारदीय नवरात्रि की महानवमी 04 अक्टूबर को है.

अक्टूबर 2022 के पहले सप्ताह में कई महत्वपूर्ण व्रत और त्योहार आने वाले हैं. इस सप्ताह में ही दुर्गा अष्टमी, महानवमी, वि ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

शारदीय नवरात्रि की दुर्गा अष्टमी 03 अक्टूबर को है.
इस साल दशहरा या विजयादशमी 05 अक्टूबर को है.

अंग्रेजी कैलेंडर के 10वें मा​ह अक्टूबर के पहले सप्ताह में कई महत्वपूर्ण व्रत और त्योहार आने वाले हैं. यह सप्ताह 02 अक्टूबर रविवार से 08 अक्टूबर शनिवार तक है. इस सप्ताह में ही दुर्गा अष्टमी, महानवमी, विजयादशमी या दशहरा, दुर्गा विसर्जन, पापांकुशा एकादशी और शुक्र प्रदोष व्रत हैं. इस साल 05 अक्टूबर को दशहरा मनाया जाएगा. काशी के ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट से जानते हैं कि ये व्रत और त्योहार कब और किस दिन हैं.

02 अक्टूबर से 08 अक्टूबर तक के व्रत और त्योहार

02 अक्टूबरः दिनः रविवार, गांधी जयंती, महासप्तमी, मां कालरात्रि की पूजा
महासप्तमी 2022: शारदीय नवरात्रि की सप्तमी तिथि को महासप्तमी कहते हैं, जो 02 अक्टूबर को है. इस दिन मां कालरात्रि की पूजा करते हैं. इनकी पूजा से भय, दुर्घटना की अशंका, अकाल मृत्यु आदि जैसी नकारात्मकता दूर होती हैं. ये उत्तम फल प्रदान करने वाली देवी हैं, हालांकि इनका स्वरूप बहुत ही भयानक है.

03 अक्टूबरः दिनः सोमवार, महा अष्टमी पूजा, दुर्गा अष्टमी, कन्या पूजन और नवरात्रि हवन
दुर्गा अष्टमी 2022: शारदीय नवरात्रि की दुर्गा अष्टमी 03 अक्टूबर को है. इस दिन मां महागौरी की पूजा करते हैं. इस दिन हवन और कन्या पूजन करने का भी विधान है. वैसे कन्या पूजन महानवमी के दिन भी किया जाता है.

ये भी पढ़ेंः शारदीय नवरात्रि में पाएं नवदुर्गा से 09 वरदान, जानें यहां

कन्या पूजा 2022: शारदीय नवरात्रि में कन्या पूजन 03 अक्टूबर को महा अष्टमी से शुरु हो रहा है. इस दिन 2 से 10 वर्ष तक की कन्याओं को भोजन, उपहार और दक्षिणा देकर विधिपूर्वक पूजन करते हैं. कन्याएं मां दुर्गा का स्वरूप मानी जाती हैं.

नवरात्रि हवन 2022: शारदीय नवरात्रि का हवन दुर्गा अष्टमी या फिर महानवमी के दिन होता है. कई स्थानों पर दशहरा को भी करते हैं. हवन करने से वातावरण शुद्ध होता है और घर से नकारात्मकता दूर होती हैं. इस दिन सभी देवी और देवताओं को हवन का अंश देते हैं. ग्रह दोष भी शांत होते हैं.

04 अक्टूबरः दिनः मंगलवार, महानवमी, नवरात्रि पारण, हवन
महानवमी 2022: इस साल महानवमी 04 अक्टूबर को है. इस दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा करते हैं. इनकी पूजा करने से सभी 8 सिद्धियां प्राप्त होती हैं. जो लोग नवरात्रि में 09 दिन का व्रत रखते हैं, वे आज हवन के बाद पारण करते हैं.

ये भी पढ़ेंः कब है दुर्गा अष्टमी? जानें शारदीय नवरात्रि में क्यों है यह महत्वपूर्ण

05 अक्टूबरः दिनः बुधवार, दशहरा, दुर्गा प्रतिमा विसर्जन, विजयादशमी, रावण पुतला दहन
विजयादशमी 2022: इस साल दशहरा या विजयादशमी 05 अक्टूबर को है. इस दिन शाम के समय रावण का पुतला दहन किया जाता है. आज के दिन ही दुर्गा पूजा का समापन भी मां दुर्गा की मूर्तियों के विसर्जन से होता है.

06 अक्टूबर, दिनः गुरुवार, पापांकुशा एकादशी व्रत
पापांकुशा एकादशी 2022: सभी प्रकार के पापों को नष्ट करने वाली पापांकुशा एकादशी व्रत 06 अक्टूबर को है. यह व्रत आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को रखा जाता है. इस दिन भगवान पद्मनाभ की पूजा करते हैं और पापांकुशा एकादशी व्रत कथा सुनते हैं.

07 अक्टूबर, दिनः शुक्रवार, प्रदोष व्रत
शुक्र प्रदोष व्रत 2022: आश्विन माह या अक्टूबर का शुक्र प्रदोष व्रत 07 तारीख को है. यह शुकवार को होने के कारण शुक्र प्रदोष व्रत है. इस दिन व्रत रखते हैं और शिव पूजा करते हैं, जिससे सुख और समृद्धि की प्राप्ति होती है.

Tags: Dharma Aastha, Durga Pooja, Navaratri, Navratri

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें