लाइव टीवी

550वां प्रकाश पर्व: जानें कब है गुरुनानक जयंती और कैसे मनाई जाती है

News18Hindi
Updated: November 11, 2019, 1:58 PM IST
550वां प्रकाश पर्व: जानें कब है गुरुनानक जयंती और कैसे मनाई जाती है
550वां प्रकाश पर्व

550वां प्रकाश पर्व: आइए जानते हैं कि कैसे मनाया जाता है प्रकाश पर्व यानी कि गुरुनानक का जन्मदिन और कैसा था गुरुनानक का जीवन...

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2019, 1:58 PM IST
  • Share this:
550वां प्रकाश पर्व: सिख धर्म के महान गुरु गुरुनानक देव का 550वां प्रकाश पर्व 12 नवंबर को है. गुरु नानक देव सिख धर्म के संस्थापक और सिखों के पहले गुरु थे. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उनका जन्म रावी नदी के तट पर बसे एक गांव तलवंडी (अब पाकिस्तान) में कार्तिक पूर्णिमा के दिन हुआ था. नानक बचपन से ही धार्मिक प्रवृति के थे. सिख धर्म में गुरु नानक के जन्मदिन को प्रकाश पर्व के रूप में मनाते हैं. इनके जन्मदिन को लेकर कई विद्वानों में मतभेद भी हैं. दरअसल, लूनर कैलेंडर में ग्रहों की दशा और चाल परिवर्तित होती है. आइए जानते हैं कि कैसे मनाया जाता है प्रकाश पर्व यानी कि गुरुनानक का जन्मदिन और कैसा था गुरुनानक का जीवन...

इसे भी पढ़ेंः  550वां प्रकाश पर्व: पढ़ें गुरुनानक देव जी के ये दोहे

गुरुनानक का जीवन:
सिख धर्म के मुताबिक, गुरु नानक देव ने अपने समय में समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने के लिए काफी काम किया. उपदेशों के लिए उन्होंने देश-दुनिया की कई जगहों की यात्रा की. उनका विवाह महज 16 साल की उम्र में ही हो गया था. 32 साल की उम्र में उनके बेटे का जन्म हुआ. चार साल के अंतराल के बाद इनके दूसरे बेटे लखमीदास का जन्म हुआ. इसके बावजूद इनका मन घर-गृहस्थी में नहीं रमा और सन् 1507 में वह अपने सहयोगी और शिष्यों मरदाना, बाला, लहना, और रामदास सहित तीर्थस्थलों की यात्रा पर निकल गए. उन्होंने भारत सहित कई अन्य देशों की यात्रा की और वहां पर धार्मिक उपदेश भी दिए.

इसे भी पढ़ेंः ये 5 एंटी पॉल्यूशन मास्क जानलेवा वायु प्रदूषण से बचा सकते हैं आपकी जान

ऐसे मनाते हैं गुरुनानक जयंती:
गुरुनानक जयंती पर सिख धर्म के लोग कई आयोजन और सभाएं करते हैं. इनमें गुरु नानक देव की शिक्षाओं और समाज के प्रति उनके योगदान को याद किया जाता है. कई सिख इस अवसर पर अखंड पाठ का आयोजन भी करवाते हैं. यह अखंड पाठ लगातार 48 घंटों तक चलता है. इसमें सिख धर्मगुरु पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब के महत्वपूर्ण अध्यायों का पाठ करते हैं. गुरु नानक की जयंती से ठीक एक दिन पहले सिख लोग भजन-कीर्तन करते हुए प्रभात फेरी भी निकालते हैं.
Loading...

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 5:25 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...