होम /न्यूज /धर्म /आज का पंचांग, 01 अक्टूबर 2022: आज करें मां कात्यायनी की पूजा, जानें शुभ-अशुभ समय और रा​हुकाल

आज का पंचांग, 01 अक्टूबर 2022: आज करें मां कात्यायनी की पूजा, जानें शुभ-अशुभ समय और रा​हुकाल

आज का पंचांग, 01 अक्टूबर 2022

आज का पंचांग, 01 अक्टूबर 2022

आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang): आज 01 अक्टूबर दिन शनिवार है. आज शारदीय नवरात्रि का छठा दिन है. आज मां कात्यायनी की पूजा ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

आज आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि है.
आज शारदीय नवरात्रि का छठा दिन है.
आज शनिवार का दिन संकटमोचन ​हनुमान जी की आराधना का भी है.

आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang): आज 01 अक्टूबर दिन शनिवार है. आज आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि है. आज शारदीय नवरात्रि का छठा दिन है. आज मां कात्यायनी की पूजा करने का विधान है. कहा जाता है कि मां कात्यायनी कात्यायनी ऋषि की कन्या के रूप में प्रकट हुई थीं, इसलिए इनका नाम कात्यायनी पड़ा. इनकी पूजा करने से व्यक्ति को यश और सफलता मिलता है. जब असुरों ने ऋषि मुनियों को परेशान कर रखा था तो उनके अत्याचारों से मुक्ति दिलाने के लिए मां दुर्गा के छठे स्वरूप का प्रकाट्य हुआ. मां कात्यायनी के मंत्रों का जाप करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

आज शनिवार का दिन न्याय के देवता शनि देव की पूजा अर्चना के लिए है. आज शनि देव को नीले फूल, सरसों के तेल, काला तिल, अक्षत् आदि से पूजन करना चाहिए. इस दिन शनि देव को शमी के पत्तों को भी चढ़ाना चाहिए. यह शनि देव को प्रिय है. यदि आप शनि दोष या फिर शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या के दुष्प्रभाव से पीड़ित हैं तो हर शनिवार को शमी के पेड़ की सेवा करें. शाम के समय में उसके नीचे सरसों के तेल या फिर तिल के तेल का दीपक जलाएं. ऐसा करने से आपको लाभ होगा.

आज शनिवार का दिन संकटमोचन ​हनुमान जी की आराधना का भी है. आज आप बजरंगबली की पूजा करते हैं तो उनको लड्डू का भोग लगाएं और सिंदूर अर्पित करें. आपकी मनोकामनाएं पूरी होंगी. आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी होगी आज ग्रहों की स्थिति.

01 अक्टूबर 2022 का पंचांग
आज की तिथि – आश्विन शुक्ल षष्ठी
आज का करण – कौलव
आज का नक्षत्र – ज्येष्ठा
आज का योग – आयुष्यमान
आज का पक्ष – शुक्ल
आज का वार – शनिवार

सूर्योदय-सूर्यास्त और चंद्रोदय-चंद्रास्त का समय
सूर्योदय – 06:30:00 AM
सूर्यास्त – 06:27:00 PM
चन्द्रोदय – 11:35:00
चन्द्रास्त – 21:56:00
चन्द्र राशि– वृश्चिक

हिन्दू मास एवं वर्ष
शक सम्वत – 1944 शुभकृत
विक्रम सम्वत – 2079
काली सम्वत – 5123
दिन काल – 11:53:58
मास अमांत – आश्विन
मास पूर्णिमांत – आश्विन
शुभ समय – 11:47:10 से 12:34:53 तक

अशुभ समय (अशुभ मुहूर्त)
दुष्टमुहूर्त– 06:13:44 से 07:01:19 तक, 07:01:19 से 07:48:55 तक
कुलिक– 07:01:19 से 07:48:55 तक
कंटक– 11:46:55 से 12:34:30 तक
राहु काल– 09:30 से 10:59 तक
कालवेला/अर्द्धयाम– 13:22:06 से 14:09:42 तक
यमघण्ट– 14:57:18 से 15:44:54 तक
यमगण्ड– 13:39:57 से 15:09:12 तक
गुलिक काल– 06:30 से 08:00 तक

Tags: Astrology, Dharma Aastha, Navaratri

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें