Home /News /dharm /

aaj ka panchang 25 may 2022 subh muhurat ganesh yam puja and rahu kaal kar

आज का पंचांग, 25 मई 2022: आज करें गणपति और यम की पूजा, जानें शुभ-अशुभ समय एवं राहुकाल

आज का पंचांग

आज का पंचांग

आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang): आज 25 मई है. आज ज्येष्ठ कृष्ण दशमी है. दशमी तिथि के देवता यमराज हैं. यमराज की पूजा करने से मृत्यु का भय नहीं र​हता है.

आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang): आज 25 मई दिन बुधवार है. आज ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि है. दशमी तिथि के देवता यमराज हैं, जिनको यम या मृत्यु का देवता कहते हैं. दशमी तिथि को यमराज की पूजा करने से मृत्यु का भय नहीं र​हता है. यमराज शनि देव के भाई हैं, उनके पिता सूर्य देव और माता संज्ञा हैं. बुधवार का दिन गणेश जी की पूजा के लिए समर्पित है. इस दिन के अधिपति देव विघ्नहर्ता गणपति हैं. उनकी पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और संकट दूर होते हैं. गजानन की कृपा से बिगड़े काम भी बन जाते हैं और उसमें सफलता प्राप्त होती है. गणेश जी के आशीर्वाद से सुख, सौभाग्य, धन, समृद्धि, बल, बुद्धि, विवेक सबमें वृद्धि होती है. बुधवार को गणेश जी को मोदक और दूर्वा जरूर चढ़ाना चाहिए. ये दोनों ही वस्तुएं गणपति बप्पा को बहुत ही प्रिय हैं.

जो लोग बुधवार का व्रत रखते हैं, उनको गणेश जी की कृपा तो प्राप्त होती है, साथ ही बुध दोष भी दूर हो जाता है. बुधवार व्रत रखने से कुंडली में बुध ग्रह की स्थिति मजबूत होती है. बुध के प्रबल होने से बिजनेस में तरक्की मिलती है, निर्णय क्षमता और विवेक अच्छा होता है. इसकी वजह से आप सही फैसले करके उन्नति प्राप्त कर सकते हैं. बुध के खराब होने से बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है. आज आप किसी गरीब ब्राह्मण को कांसे का बर्तन, हरा वस्त्र, हरी सब्जियां, हरे पेड़-पौधे आदि का दान कर सकते हैं. इस दिन गाय को हरा चारा खिलाना भी ब​हुत ही फायदेमंद होता है. आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी होगी आज ग्रहों की चाल.

25 मई 2022 का पंचांग
आज की तिथि – ज्येष्ठ कृष्णपक्ष दशमी
आज का करण – विष्टि
आज का नक्षत्र – उत्तराभाद्रपदा
आज का योग – प्रीति
आज का पक्ष – कृष्ण
आज का वार – बुधवार

सूर्योदय-सूर्यास्त और चंद्रोदय-चंद्रास्त का समय
सूर्योदय – 05:55:00 AM
सूर्यास्त – 07:17:00 PM
चन्द्रोदय – 26:55:00
चन्द्रास्त – 14:33:59
चन्द्र राशि– मीन

हिन्दू मास एवं वर्ष
शक सम्वत – 1944 शुभकृत
विक्रम सम्वत – 2079
काली सम्वत – 5123
दिन काल – 13:44:39
मास अमांत – वैशाख
मास पूर्णिमांत – ज्येष्ठ
शुभ समय – कोई नहीं

अशुभ समय (अशुभ मुहूर्त)
दुष्टमुहूर्त– 11:50:35 से 12:45:34 तक
कुलिक– 11:50:35 से 12:45:34 तक
कंटक– 17:20:27 से 18:15:26 तक
राहु काल– 12:36 से 14:16 तक
कालवेला/अर्द्धयाम– 06:20:43 से 07:15:42 तक
यमघण्ट– 08:10:41 से 09:05:39 तक
यमगण्ड– 07:08:49 से 08:51:54 तक
गुलिक काल– 14:16 से 15:57 तक

Tags: Astrology, Dharma Aastha

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर