होम /न्यूज /धर्म /आज का पंचांग, 27 नवंबर 2022: विनायक चतुर्थी व्रत आज, जानें शुभ-अशुभ समय और राहुकाल

आज का पंचांग, 27 नवंबर 2022: विनायक चतुर्थी व्रत आज, जानें शुभ-अशुभ समय और राहुकाल

आज का पंचांग, 27 नवंबर 2022

आज का पंचांग, 27 नवंबर 2022

आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang): आज 27 नवंबर दिन रविवार है. आज विनायक चतुर्थी व्रत है. आज गणेश जी की पूजा विधिपूर्वक करे ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

आज मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है.
इस दिन गणेश जी को मोदक या मोतीचूर के लड्डू का भोग लगाया जाता है.

आज का पंचांग (Aaj Ka Panchang): आज 27 नवंबर दिन रविवार है. आज मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि है. आज विनायक चतुर्थी व्रत है. आज गणेश जी की पूजा विधिपूर्वक करें. विनायक चतुर्थी के दिन गणपति बप्पा को सिंदूर और दूर्वा चढ़ाना चाहिए. इससे भाग्य प्रबल होगा और कार्यों में सफलता प्राप्त होती है. इस दिन गणेश जी को मोदक या मोतीचूर के लड्डू का भोग लगाया जाता है. इससे वे प्रसन्न होते हैं. पूजा में पान का पत्ता और सुपारी अर्पित करने ये अमंगल दूर होगा और शुभता बढ़ेगी. इतना ही नहीं, विनायक चतुर्थी के दिन गणेश जी को हल्दी भी अर्पित करते हैं. जो लोग व्रत रखते हैं, उनको विनायक चतुर्थी व्रत कथा सुननी चाहिए. इससे व्रत का पूर्ण फल प्राप्त होता है और मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

गणेश जी के मंत्रों का जाप करने से दुख दूर होंगे, विघ्न-बाधा भी हट जाएगी. सुख और सौभाग्य बढ़ेगा. आज प्रात: विनायक चतुर्थी व्रत का पूजन करने से पूर्व आप सूर्य देव को जल अर्पित करें. पानी में फूल, चंदन और अक्षत् डालकर अर्घ्य देना चाहिए. इस दौरान सूर्य मंत्र का जाप उत्तम होता है. इस दिन गायत्री मंत्र का जाप करने से मन एकाग्र और शांत होता है. मानसिक तनाव दूर होता है. आज आप किसी ब्राह्मण को गेहूं, लाल फूल, लाल या नारंगी वस्त्र, पीले या लाल फल, तांबा आदि का दान कर सकते हैं. इससे सूर्य मजबूत होगा. आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी होगी आज ग्रहों की स्थिति.

27 नवंबर 2022 का पंचांग
आज की तिथि – मार्गशीर्ष शुक्ल चतुर्थी
आज का करण – वणिज
आज का नक्षत्र – पूर्वाषाढ़ा
आज का योग – गंड
आज का पक्ष – शुक्ल
आज का वार – रविवार

सूर्योदय-सूर्यास्त और चंद्रोदय-चंद्रास्त का समय
सूर्योदय – 07:00:00 AM
सूर्यास्त – 05:53:00 PM
चन्द्रोदय – 10:28:00
चन्द्रास्त – 20:47:00
चन्द्र राशि– धनु

हिन्दू मास एवं वर्ष
शक सम्वत – 1944 शुभकृत
विक्रम सम्वत – 2079
काली सम्वत – 5123
दिन काल – 10:31:16
मास अमांत – मार्गशीर्ष
मास पूर्णिमांत – मार्गशीर्ष
शुभ समय – 11:47:26 से 12:29:32 तक

अशुभ समय (अशुभ मुहूर्त)
दुष्टमुहूर्त– 11:46:06 से 12:28:27 तक
कुलिक– 11:46:06 से 12:28:27 तक
कंटक– 16:00:12 से 16:42:33 तक
राहु काल– 16:31 से 17:53 तक
कालवेला/अर्द्धयाम– 07:32:00 से 08:14:21 तक
यमघण्ट– 08:56:42 से 09:39:03 तक
यमगण्ड– 08:09:04 से 09:28:28 तक
गुलिक काल– 15:10 से 16:31 तक

Tags: Astrology, Dharma Aastha

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें