लाइव टीवी

Utpanna Ekadashi: उत्पन्ना एकादशी पर आज इस आरती के बिना अधूरी है भगवान विष्णु की पूजा

News18Hindi
Updated: November 22, 2019, 5:47 AM IST
Utpanna Ekadashi: उत्पन्ना एकादशी पर आज इस आरती के बिना अधूरी है भगवान विष्णु की पूजा
भगवान विष्णु की आरती

धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक उत्पन्ना एकादशी (Utpanna Ekadashi) के दिन भगवान विष्णु की पूजा करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 22, 2019, 5:47 AM IST
  • Share this:
Utpanna Ekadashi: उत्पन्ना एकादशी आज (22 नवंबर) मनाई जा रही है. मान्यता है कि दिन पूरे विधि विधान के साथ भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है. माना जाता है कि एकादशी एक देवी थीं जिनकी उत्पत्ति मार्गशीष मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को भगवान विष्णु से हुई थी. यही वजह है कि इसे उत्पन्न एकादशी कहा जाता है. आरती के बिना कोई भी पूजा अधूरी मानी जाती है. आइए पढ़ते हैं भगवान विष्णु की आरती...

भगवान विष्णु जी की आरती...
ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे।
भक्तजनों के संकट क्षण में दूर करे॥

जो ध्यावै फल पावै, दुख बिनसे मन का।
सुख-संपत्ति घर आवै, कष्ट मिटे तन का॥ ॐ जय...॥

मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूं किसकी।
Loading...

तुम बिन और न दूजा, आस करूं जिसकी॥ ॐ जय...॥

तुम पूरन परमात्मा, तुम अंतरयामी॥
पारब्रह्म परेमश्वर, तुम सबके स्वामी॥ ॐ जय...॥

तुम करुणा के सागर तुम पालनकर्ता।
मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥ ॐ जय...॥

तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति।
किस विधि मिलूं दयामय! तुमको मैं कुमति॥ ॐ जय...॥

दीनबंधु दुखहर्ता, तुम ठाकुर मेरे।
अपने हाथ उठाओ, द्वार पड़ा तेरे॥ ॐ जय...॥

विषय विकार मिटाओ, पाप हरो देवा।
श्रद्धा-भक्ति बढ़ाओ, संतन की सेवा॥ ॐ जय...॥

तन-मन-धन और संपत्ति, सब कुछ है तेरा।
तेरा तुझको अर्पण क्या लागे मेरा॥ ॐ जय...॥

जगदीश्वरजी की आरती जो कोई नर गावे।
कहत शिवानंद स्वामी, मनवांछित फल पावे॥ ॐ जय...॥

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्म से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2019, 5:47 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...