Adhik maas 2020: भगवान विष्‍णु की पूजा में रखें इन बातों का ध्‍यान, मनोकामनाएं होंगी पूरी

अधिकमास में भगवान विष्णु की पूजा करने से मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं.
अधिकमास में भगवान विष्णु की पूजा करने से मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं.

अधिक मास (Adhik maas) में भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की पूजा का विशेष महत्व होता है. इस महीने में भगवान विष्णु के साथ माता लक्ष्मी (Mata Lakshmi) की भी पूजा करें. इससे आप पर कृपा बनी रहेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2020, 5:17 PM IST
  • Share this:
अधिक मास में भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की पूजा का विशेष महत्व होता है. इस दौरान अन्य किसी प्रकार के शुभ कार्य तो वर्जित होते हैं, लेकिन मान्‍यता है कि सत्यनारायण की कथा (Satyanarayan Katha) से विशेष लाभ होता है. साथ ही अधिक मास में महामृत्युजंय का जाप करना भी अच्‍छा माना जाता है. इससे घर के वास्तु दोष दूर होते हैं और सुख-समृद्धि आती है. माना यह भी जाता है कि भगवान विष्णु की पूजा से लक्ष्मी जी प्रसन्न होती हैं और घर में खुशहाली बनी रहती है.

इसे भी पढ़ें - अधिकमास, मलमास, खरमास और चतुर्मास में क्‍या है फर्क, जानें

भक्‍तों के कष्ट होते हैं दूर
हिंदू धर्म में अधिक मास का खास महत्व होता है. इस महीने में भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना की जाती है. मंत्रों का जाप किया जाता है. इस समय पूजा, अनुष्ठान करने से विशेष फल की प्राप्ति होती है. साथ ही भक्‍तों के कष्ट दूर हो जाते हैं. अधिकमास में भगवान विष्णु की पूजा करने से सभी प्रकार की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. लोग इस पूरे मास में पूजा-पाठ, भगवतभक्ति, व्रत-उपवास, जप और योग जैसे धार्मिक कार्यों में संलग्न रहते है.
इसे भी पढ़ें - सप्‍ताह के सातों दिन करें इन देवी देवताओं की पूजा, बदल जाएगी किस्मत



इन बातों का रखें ख्याल
मान्‍यता है कि इस महीने में नई चीज नहीं खरीदनी चाहिए. इस दौरान सभी तरह के शुभ कर्म वर्जित माने जाते हैं. इसीलिए पुरुषोत्तम मास में कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता. इस महीने में कपड़े गहनें, घर, कार की खरीदारी करना अच्‍छा नहीं माना जाता. वहीं विवाह आदि जैसे शुभ कार्य भी नहीं होते हैं. यहां तक कि यज्ञोपवीत संस्कार, नामकरण समेत अन्य धार्मिक संस्कार भी नहीं किए जाते. मान्यता है इस महीने में कुछ खास उपाय किए जाएं तो मनोकामना पूरी होती हैं-

मान्‍यता है कि इस मास में भगवान विष्णु को खीर, पीले फल और पीले रंग की मिठाई का भोग लगाएं.

इस महीने में भगवान विष्णु के साथ माता लक्ष्मी की भी पूजा करें. इससे आपको धन की प्राप्ति होगी और कृपा बनी रहेगी.

शाम के समय तुलसी के सामने गाय के शुद्ध घी का दीपक लगाएं और प्रणाम करें.

पुरुषोत्तम मास में पीपल के पेड़ पर मीठा जल चढ़ाएं. मान्‍यता है कि पीपल के वृक्ष पर भगवान विष्णु का वास होता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज