लाइव टीवी

Phulera Dooj: फुलैरा दूज की पूजा है अधूरी अगर नहीं पढ़ी ये आरती

News18Hindi
Updated: February 25, 2020, 6:01 AM IST
Phulera Dooj: फुलैरा दूज की पूजा है अधूरी अगर नहीं पढ़ी ये आरती
फुलैरा दूज पर पढ़ें कुञ्ज बिहारी की आरती

फुलैरा दूज (Phulera Dooj): फुलैरा दूज भगवान कृष्ण को समर्पित मानी जाती है. इस दिन कुछ भक्त भगवान कृष्ण को प्रसन्न करने के लिए लिए उनकी पूजा अर्चना करते हैं...

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 25, 2020, 6:01 AM IST
  • Share this:
फुलैरा दूज (Phulera Dooj): आज उत्तर भारत के कई इलाकों में बड़ी धूमधाम से फुलैरा दूज मनाई जा रही है. फुलैरा दूज भगवान कृष्ण को समर्पित मानी जाती है. इस दिन कुछ भक्त भगवान कृष्ण को प्रसन्न करने के लिए लिए उनकी पूजा अर्चना करते हैं. कोई भी पूजा बिना आरती के अधूरी मानी जाती है. अगर आप कुंजबिहारी यानी कि भगवान कृष्ण की आरती की किताब खरीदना भूल गए हैं तो यहां पढ़ें उनकी आरती....

कुंजबिहारी की आरती:

आरती कुंजबिहारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥



आरती कुंजबिहारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

गले में बैजंती माला,
बजावै मुरली मधुर बाला ।
श्रवण में कुण्डल झलकाला,
नंद के आनंद नंदलाला ।
गगन सम अंग कांति काली,
राधिका चमक रही आली ।
लतन में ठाढ़े बनमाली
भ्रमर सी अलक,
कस्तूरी तिलक,
चंद्र सी झलक,
ललित छवि श्यामा प्यारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

कनकमय मोर मुकुट बिलसै,
देवता दरसन को तरसैं ।
गगन सों सुमन रासि बरसै ।
बजे मुरचंग,
मधुर मिरदंग,
ग्वालिन संग,
अतुल रति गोप कुमारी की,
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

जहां ते प्रकट भई गंगा,
सकल मन हारिणि श्री गंगा ।
स्मरन ते होत मोह भंगा
बसी शिव सीस,
जटा के बीच,
हरै अघ कीच,
चरन छवि श्रीबनवारी की,
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

चमकती उज्ज्वल तट रेनू,
बज रही वृंदावन बेनू ।
चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू
हंसत मृदु मंद,
चांदनी चंद,
कटत भव फंद,
टेर सुन दीन दुखारी की,
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की...॥

आरती कुंजबिहारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥
आरती कुंजबिहारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मथुरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 25, 2020, 6:01 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर