Home /News /dharm /

Akshaya Tritiya 2020 Puja: देखें अक्षय तृतीया का सटीक मुहूर्त, पढ़ें व्रत कथा

Akshaya Tritiya 2020 Puja: देखें अक्षय तृतीया का सटीक मुहूर्त, पढ़ें व्रत कथा

अक्षय तृतीया 2020

अक्षय तृतीया 2020

अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya 2020): राजा पुण्‍य के कामों में लगे रहे और उन्‍हें हमेशा अक्षय तृतीया का फल म‍िलता रहा.

    अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya 2020): हिंदू धर्म में अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya 2020) की विशेष महिमा है. अक्षय तृतीया कल यानी कि 26 अप्रैल के दिन मनाई जाएगी. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, अक्षय तृतीया के दिन दान-पुण्य का ख़ास महत्व है. यह भी माना जाता है कि अक्षय तृतीया के दिन मां लक्ष्मी की पूजा अर्चना जाती है. ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं. इस दिन विशेष मुहूर्त पर पूजा करना बेहद मंगलकारी होता है. आइए जानते हैं शुभ मुहूर्त और व्रत कथा..

    अक्षय तृतीया की तारीख- 26 अप्रैल 2020
    तृतीया तिथि की शुरुआत- 25 अप्रैल 2020 को सुबह 11 बजकर 51 मिनट से तृतीया लग जाएगी.
    तृतीया तिथि समाप्‍त- 26 अप्रैल 2020 को दोपहर 1 बजकर 22 मिनट तक
    अक्षय तृतीया पूजा मुहूर्त- 26 अप्रैल 2020 को सुबह 5 बजकर 45 मिनट से दोपहर 12 बजकर 19 मिनट तक

    अक्षय तृतीया की कथा
    पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार बहुत पुरानी बात है धर्मदास नाम का एक व्‍यक्ति अपने परिवार के साथ एक गांव में रहता था. वह बहुत गरीब था. एक बार उसने अक्षय तृतीया का व्रत करने की सोची. स्‍नान करने के बाद उसने व‍िध‍िपूर्वक भगवान विष्‍णु की पूजा-अर्चना की. इसके बाद उसने पंखा, जौ, सत्तू, चावल, नमक, गेहूं, गुड़, घी, दही सोना और कपड़े ब्राह्मण को अर्पित कर दिए. यह सब देखकर उसकी पत्‍नी ने उसे रोकने की कोश‍िश की. लेकिन धर्मदास विचलित नहीं हुआ और उसने ब्राह्मण को दान दिया. यही नहीं उसने हर साल पूरे व‍िध‍ि-व‍िधान से अक्षय तृतीया का व्रत किया और अपनी सामर्थ्‍य के अनुसार ब्राहम्ण को दान भी दिया. बुढ़ापे और दुख बीमारी में भी उसने यही सब किया.

    इस जन्‍म के पुण्‍य प्रभाव से धर्मदास ने अगले जन्‍म में राजा कुशावती के रूप में जन्‍म लिया. उनके राज्‍य में सभी प्रकार का सुख-वैभव और धन-संपदा थी. अक्षय तृतीया के प्रभाव से राजा को यश की प्राप्ति हुई, लेकिन उन्‍होंने कभी लालच नहीं किया. राजा पुण्‍य के कामों में लगे रहे और उन्‍हें हमेशा अक्षय तृतीया का फल म‍िलता रहा.

    Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

    Tags: Religion

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर