लाइव टीवी

Annapurna Jayanti 2019: आज है अन्नपूर्णा जयंती, ये है सटीक पूजा विधि और महत्व

News18Hindi
Updated: December 12, 2019, 11:25 AM IST
Annapurna Jayanti 2019: आज है अन्नपूर्णा जयंती, ये है सटीक पूजा विधि और महत्व
कब है अन्नपूर्णा जयंती, क्या है व्रत की पूजा विधि और महत्व

अन्नपूर्णा जयंती (Annapurna Jayanti Date): इस दिन जो भक्त सच्चे दिल से मां अन्नपूर्णा की पूजा अर्चना करते हुए पूरे विधि विधान के साथ व्रत करता है मां उसके घर में अन्न के भंडार हमेशा भरे रखती हैं. ऐसे जातकों के घर में दरिद्रता फटकती तक नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 12, 2019, 11:25 AM IST
  • Share this:
अन्नपूर्णा जयंती (Annapurna Jayanti Date): हिंदू पंचांग के अनुसार, अन्नपूर्णा जयंती (Annapurna Jayanti) आज 12 दिसंबर, गुरुवार को मनाई जा रही है. यह साल अन्नपूर्णा जयंती (Annapurna Jayanti ) मार्गशीष माह यानी कि अगहन के महीने में पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है. माना जाता है कि इस दिन जो भक्त सच्चे दिल से मां अन्नपूर्णा की पूजा अर्चना करते हुए पूरे विधि विधान के साथ व्रत करता है मां उसके घर में अन्न के भंडार हमेशा भरे रखती हैं. ऐसे जातकों के घर में दरिद्रता फटकती तक नहीं है. आइए जानते हैं कि किस विधि से करनी चाहिए मां अन्नपूर्णा (Annapurna Devi) की पूजा...

मां अन्नपूर्णा (Annapurna Devi) की पूजा विधि
1. अन्नपूर्णा जयंती के दिन सुबह जल्दी बिस्तर त्यागने के बाद नित्यकर्म और स्नान निपटा लें. पवित्र होकर रसोईघर (किचन) में प्रवेश करें.

इसे भी पढ़ेंः ये है गायत्री मंत्र के जाप का सटीक तरीका, जान लें मंत्र का अर्थ

2. किचन का पवित्रीकरण संस्कार करने के लिए गुलाबजल और गंगाजल का प्रयोग करें.

3. इसके बाद पूजा घर में जाकर भगवान शिव, माता पार्वती और देवी अन्नपूर्णा की पूजा अर्चना करें.

4. अन्नपूर्णा जयंती का मुख्य उद्देश्य है कि अन्न की अहमियत को समझते हुए उसका आदर करना और खाना ना बर्बाद करना.इसे भी पढ़ें: December 2019 Calender: दिसंबर में सूर्य ग्रहण से लेकर क्रिसमस तक, जानें इस माह पड़ेंगे कौन से व्रत त्यौहार

5. मान्यता के अनुसार, अन्नपूर्णा जयंती के दिन रसोईघर में बने चूल्हे की पूजा करने का भी प्रचलन है. ऐसा कहा जाता है कि जब मृत्युंजय भगवान शिव काशी में लोगों की आत्मा को सद्गति यानी कि मोक्ष प्रदान कर रहे थे तब माता पार्वती नेअन्नपूर्णा का रूप धारण कर मृतकों के साथ आए जीवित लोगों के खानपान की व्यवस्था देखी थी.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मथुरा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 12, 2019, 6:52 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर