Home /News /dharm /

apara ekadashi 2022 date sarvartha siddhi yog and lord vishnu mantra kar

Apara Ekadashi 2022: सर्वार्थ सिद्धि योग में है अपरा एकादशी, इस दिन करें इन मंत्रों का जाप

ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को अपरा एकादशी कहते हैं.

ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को अपरा एकादशी कहते हैं.

अपरा एकादशी (Apara Ekadashi) व्रत 26 मई दिन गुरुवार को है. इस साल अपरा एकादशी के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है, आइए जानते हैं अपरा एकादशी पर बनने वाले सर्वार्थ सिद्धि योग और विष्णु मंत्रों के बारे में.

अपार धन और यश देने वाली अपरा एकादशी (Apara Ekadashi) व्रत 26 मई दिन गुरुवार को है. ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी को अपरा एकादशी कहते हैं. इस साल अपरा एकादशी के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है, जो कार्यों मे सफलता प्रदान करने वाला योग है. इस योग में किए गए पूजा पाठ या अन्य मांगलिक कार्यों का उत्तम फल प्राप्त होता है. पुरी के ज्योतिषाचार्य डॉ. गणेश मिश्र से जानते हैं अपरा एकादशी पर बनने वाले सर्वार्थ सिद्धि योग और प्रभावी विष्णु मंत्रों के बारे में.

यह भी पढ़ें: कब है अपरा एकादशी व्रत? जानें तिथि, पूजा मुहूर्त, पारण समय एवं महत्व

अपरा एकादशी 2022
ज्येष्ठ कृष्ण एकादशी तिथि की शुरुआत: 25 मई, दिन बुधवार, सुबह 10 बजकर 32 मिनट से
ज्येष्ठ कृष्ण एकादशी तिथि की समाप्ति: 26 मई, दिन गुरुवार, सुबह 10 बजकर 54 मिनट पर
सर्वार्थ सिद्धि योग: पूरे दिन
आयुष्मान योग: प्रात:काल से रात 10 बजकर 15 मिनट तक, फिर सौभाग्य योग
व्रत का पारण समय: 27 मई, शुक्रवार, सुबह 05 बजकर 25 मिनट से सुबह 08 बजकर 10 मिनट तक

यह भी पढ़ें: कब है अखंड सौभाग्य वाला वट सावित्री व्रत? जानें तिथि, पूजा मुहूर्त एवं महत्व

सर्वार्थ सिद्धि योग में अपरा एकादशी
अपरा एकादशी के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग पूरे दिन है. इस दिन आप व्रत रखते हैं तो प्रात:काल किसी भी समय में पूजा पाठ कर सकते हैं. सर्वार्थ सिद्धि योग में किए गए सद्कर्मों के अच्छे फल प्राप्त होते हैं. वहीं आयुष्मान और सौभाग्य योग भी पूजा पाठ के लिए शुभ होते हैं.

भगवान विष्णु के प्रभावशाली मंत्र
अपरा एकादशी के दिन आपको भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए और अपरा एकादशी व्रत कथा सुननी चाहिए. इस दिन भगवान विष्णु के प्रभावशाली मंत्रों का जाप करके अपनी मनोकामनाएं पूरी कर सकते हैं. आइए जानते हैं भगवान विष्णु के प्रभावशाली मंत्रों के बारे में.

1. विष्णु गायत्री मंत्र:
ओम श्री विष्णवे च विद्महे वासुदेवाय धीमहि। तन्नो विष्णुः प्रचोदयात्॥

2. ओम नमोः भगवते वासुदेवाय॥

3. शान्ताकारं भुजंगशयनं पद्मनाभं सुरेशं, विश्वाधारं गगन सदृशं मेघवर्ण शुभांगम्।
लक्ष्मीकांत कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यं, वन्दे विष्णु भवभयहरं सर्व लौकेक नाथम्॥

4. श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे। हे नाथ नारायण वासुदेवाय।।

5. विष्णु पंचरूप मंत्र
ओम ह्रीं कार्तविर्यार्जुनो नाम राजा बाहु सहस्त्रवान। यस्य स्मरेण मात्रेण ह्रतं नष्‍टं च लभ्यते।।

Tags: Dharma Aastha, Lord vishnu

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर