होम /न्यूज /धर्म /

मंदिर में खाली लोटा लेकर क्यों नहीं जाना चाहिए? जानिए क्या कहते हैं नियम

मंदिर में खाली लोटा लेकर क्यों नहीं जाना चाहिए? जानिए क्या कहते हैं नियम

खाली लोटा मंदिर लेकर जाना और आना माना जाता है अशुभ.

खाली लोटा मंदिर लेकर जाना और आना माना जाता है अशुभ.

हिंदू धर्म में पूजा-पाठ से जुड़े कुछ नियम होते हैं, जिनका पालन करना ज़रूरी होता है. इन नियमों का पालन करने पर ही पूजा का फल प्राप्त होता है. शास्त्रों के अनुसार, मंदिर जाते समय कभी भी खाली लोटा नहीं ले जाना चाहिए.

हाइलाइट्स

खाली लोटा मंदिर लेकर जाना होता है अशुभ.
मंदिर से वापस लौटते समय कलश में ज़रूर लाएं थोड़ा जल.
पूजा-पाठ से जुड़े नियमों का ज़रूर करें पालन.

Puja Rules In Temple: हिंदू धर्म में पूजा-पाठ का विशेष महत्व होता है. लोग घर और मंदिर जाकर भगवान की आराधना करते हैं. मान्यता है कि मंदिर जाकर पूजा करने से आत्मिक शांति प्राप्त होती है और भगवान का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है. लेकिन, मंदिर जाकर पूजा करने के कुछ नियम होते हैं. पूजा का फल प्राप्त करने और जीवन में शुभता बनाए रखने के लिए इन नियमों का पालन करना ज़रूरी होता है. यदि आप मंदिर में पूजा करने के दौरान गलतियां करते हैं तो इसे अशुभ माना जाता है, इसलिए आपको पूजा से जुड़े नियमों के बारे में ज़रूर जानना चाहिए. मंदिर में पूजा करने से जुड़े कई नियमों में एक है लोटा का नियम.

देवी-देवताओं की पूजा के लिए मंदिर जाते समय पूजा सामग्रियों के साथ हर व्यक्ति अपने साथ एक लोटा या कलश ज़रूर लेकर जाता है, लेकिन कभी भी खाली लोटा मंदिर लेकर नहीं जाना चाहिए. दिल्ली के आचार्य गुरमीत सिंह जी से जानते हैं आखिर क्यों खाली लोटा मंदिर लेकर जाना माना जाता है अशुभ.

क्यों खाली लोटा लेकर नहीं जाना चाहिए मंदिर
पूजा के लिए आप जब भी मंदिर जाएं तो अपने साथ एक लोटा अवश्य लेकर जाएं, लेकिन इस बात का खास ख्याल रखें कि लोटे में जल भरा हुआ हो. कई बार लोग ये सोचते हैं लोटे से पानी छलक जाएगा या फिर वे मंदिर जाकर ही लोटे में जल भर लेंगे. इस कारण वे घर से खाली लोटा ही लेकर मंदिर चले जाते हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, ये गलत नियम होता है. माना जाता है कि मंदिर में खाली लोटा लेकर जाने से व्यक्ति की आर्थिक स्थिति पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है. साथ ही व्यक्ति को पूजा का संपूर्ण फल भी प्राप्त नहीं होता.

ये भी पढ़ें:किस वृक्ष की पूजा करने से कौन सा फल प्राप्त होता है? जानें
Aja Ekadashi 2022: कब है अजा एकादशी, जानें पूजा मुहूर्त, पारण समय और महत्व

मंदिर से घर न लाएं खाली लोटा
मंदिर जाते समय ही नहीं बल्कि मंदिर से घर लौटते समय भी खाली लोटा लेकर नहीं आना चाहिए. पूजा के बाद थोड़ा जल लोटे में बचाकर रखना चाहिए और घर आने के बाद इस जल से पूरे घर पर छिड़काव करना चाहिए. इससे घर पर सकारात्मकता का संचार होता है और आर्थिक स्थिति को मजबूती मिलती है.

Tags: Astrology, Dharma Aastha

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर