लाइव टीवी

Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति के दिन भूल से भी न करें ये काम, हो सकता है बड़ा नुकसान!

News18Hindi
Updated: January 15, 2020, 10:34 AM IST
Makar Sankranti 2020: मकर संक्रांति के दिन भूल से भी न करें ये काम, हो सकता है बड़ा नुकसान!
मकर संक्रांति के दिन सूर्य अपने पुत्र शनि से मिलने के लिए जाते हैं.

हिंदू धर्म में मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन किए गए जाप और दान का फल दोगुणा होता है. पौराणिक कथाओं के अनुसार मकर संक्रांति के दिन सूर्य अपने पुत्र शनि से मिलने के लिए जाते हैं. मकर संक्रांति के दिन कुछ कार्यों को करना शुभ माना गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 15, 2020, 10:34 AM IST
  • Share this:
मकर संक्रांति हिंदू धर्म के सबसे बड़े त्योहारों में से एक माना जाता है. उत्तर से लेकर दक्षिण भारत तक यह त्योहार कई रूपों में मनाया जाता है. देश के किसी हिस्से में इस दिन को पोंगल के रूप में मनाया जाता है, कहीं इसे उत्तरायण भी कहा जाता है. मकर संक्राति के दिन गंगा स्नान, व्रत, कथा, दान और भगवान सूर्यदेव की उपासना करने का विशेष महत्त्व है.

हिंदू धर्म में मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन किए गए जाप और दान का फल दोगुणा प्राप्त होता है. पौराणिक कथाओं के अनुसार मकर संक्रांति के दिन सूर्य अपने पुत्र शनि से मिलने के लिए जाते हैं. मकर संक्रांति के दिन कुछ कार्यों को करना शुभ माना गया है. वहीं, इस दिन कुछ कामों को करने की पूणतः मनाही होती है. मकर संक्रांति के इस अवसर पर आइए जानते हैं वो काम जिन्हें भूलकर भी नहीं करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : धार्मिक ही नहीं बल्कि वैज्ञानिक दृष्टि से भी खास होती है मकर संक्रांति, जानिए इसका महत्व

 

सुबह उठते ही मुंह का झूठ करना
कुछ लोगों की आदत होती है कि वह बिना स्नान किए चाय, नाश्ता या कुछ हल्के स्नैक्स को खा लेते हैं. मकर संक्रांति के दिन ऐसा बिल्कुल भी न करें. मान्यताओं के अनुसार, मकर संक्रांति के दिन स्नान करने के पश्चात पूजा-पाठ और दान करना चाहिए. इसके बाद ही किसी तरह का कोई द्रव, फल या अन्य सामान ग्रहण करना चाहिए.

नशे से करें परहेजमकर संक्रांति के दिन किसी भी तरह के नशे से परहेज करना चाहिए. इस दिन किसी भी प्रकार के नशे जैसे शराब, सिगरेट, गुटका आदि नहीं खाना चाहिए. इस दिन तिल, मूंग दाल की खिचड़ी का सेवन करना चाहिए.

किसी ना लौटाएं खाली हाथ
मकर संक्रांति का दिन धार्मिक लिहाज से काफी खास होता है, इसलिए इस दिन घर पर आने वाले भिखारी साधु या बुजुर्ग को खाली हाथ नहीं लौटाना चाहिए. अपनी श्रद्धा और सामर्थ्य के अनुसार दान जरूर करना चाहिए. मान्यताओं के अनुसार मकर संक्रांति के दिन दान करने से दोगुणा फल की प्राप्ति होती है.

 

मकर संक्रांति के दिन सात्विक भोजन करना चाहिए.
मकर संक्रांति के दिन सात्विक भोजन करना चाहिए.


तामसी भोजन को कहें न
मकर संक्रांति के दिन लहसुन, प्यार, मांस और मसालों का सेवन नहीं करना चाहिए. ऐसा कहा जाता है कि यह सब चीजें खाने से इंसान को ज्यादा गुस्सा आता है, इसलिए मकर संक्रांति के दिन हमेशा ही सादगी वाला भोजन करना चाहिए.

मकर संक्रांति के दिन सूर्य को लोहे के पात्र से जल अर्पित करना चाहिए.
मकर संक्रांति के दिन सूर्य को लोहे के पात्र से जल अर्पित करना चाहिए.


सूर्य को जल अर्पण
मकर संक्रांति के दिन प्रातः काल स्नान करने के बाद सूर्य को लोहे के पात्र से जल अर्पण करना शुभ माना जाता है. लोहे के पात्र के स्थान पर चांदी, पीतल के पात्र का इस्तेमाल भी किया जा सकता है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्म से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 10:06 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर