लाइव टीवी

बैकुंठ चतुर्दशी आज, भगवान शिव विष्णु जी को सौंपेंगे सृष्टि का कार्यभार

News18Hindi
Updated: November 11, 2019, 8:07 AM IST
बैकुंठ चतुर्दशी आज, भगवान शिव विष्णु जी को सौंपेंगे सृष्टि का कार्यभार
बैकुंठ चतुर्दशी पर इस तरह करें भगवान शिव और विष्णु जी की पूजा

बैकुंठ चतुर्दशी (Baikuntha Chaturdashi 2019): माना जाता है कि भगवान विष्णु चातुर्मास (आषाढ़ शुक्ल एकादशी से प्रारंभ होकर कार्तिक शुक्ल एकादशी तक) तक सृष्टि का सम्पूर्ण कार्यभार भगवान शिव को देकर विश्राम करते हैं...

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2019, 8:07 AM IST
  • Share this:
बैकुंठ चतुर्दशी (Baikuntha Chaturdashi 2019): आज बैकुंठ चतुर्दशी (Baikuntha Chaturdashi) है. हर साल कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को बैकुंठ चतुर्दशी (Baikuntha Chaturdashi 2018) मनाई जाती है. माना जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु और भगवान शिव की पूजा करने से उनकी कृपा प्राप्त होती है. यह भी माना जाता है कि भगवान विष्णु चातुर्मास (आषाढ़ शुक्ल एकादशी से प्रारंभ होकर कार्तिक शुक्ल एकादशी तक) तक सृष्टि का सम्पूर्ण कार्यभार भगवान शिव को देकर विश्राम करते हैं. जब देवउठनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु जागते हैं तो सभी देवी-देवता इसकी ख़ुशी में देव दिवाली मनाते हैं. भगवान शिव बैकुंठ चतुर्दशी के दिन ही भगवान विष्णु को सृष्टि का कार्यभाग दोबारा सौंपते हैं.

इसे भी पढ़ेंः देवउठनी एकादशी: आज 4 महीने की योगनिद्रा के बाद इस शुभ मुहूर्त में जागे भगवान विष्णु, मांगलिक कार्य शुरू

बैकुंठ चतुर्दशी पर भगवान की कृपा पानी के लिए भक्त दिन भर उपवास रखते हैं और भगवान शिव और भगवान विष्णु की आराधना करते हैं. पूअज करते समय भगवान विष्णु को जल (पवित्र पानी) में केसर और चंदन मिलाकर स्नान कराएं. इसके बाद चंदन, पीले वस्त्र, पीले फूल उनपर अर्पित करें.
पूजा के लिए पढ़ें ये मंत्र:

शिव भगवान को प्रसन्न करने के लिए मंत्र:
वन्दे महेशं सुरसिद्धसेवितं भक्तै: सदा पूजितपादपद्ममम्।
ब्रह्मेन्द्रविष्णुप्रमुखैश्च वन्दितं ध्यायेत्सदा कामदुधं प्रसन्नम्।।
Loading...

इसे भी पढ़ेंः 550वां प्रकाश पर्व: जानें कब है गुरुनानक जयंती और कैसे मनाई जाती है

विष्णु भगवान को प्रसन्न करने के लिए मंत्र:
1. पद्मनाभोरविन्दाक्ष: पद्मगर्भ: शरीरभूत्। महर्द्धिऋद्धो वृद्धात्मा महाक्षो गरुडध्वज:।।
अतुल: शरभो भीम: समयज्ञो हविर्हरि:। सर्वलक्षणलक्षण्यो लक्ष्मीवान् समितिञ्जय:।।

2.ॐ हूं विष्णवे नम:, ॐ विष्णवे नम:।

3.ॐ नारायणाय विद्महे वासुदेवाय धीमहि तन्नो विष्णु प्रचोदयात्।

4.श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारे, हे नाथ नारायण वासुदेवाय।

5.ॐ नमो भगवते वासुदेवाय, ॐ नमो नारायण। श्री मन नारायण नारायण हरि हरि।

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 7:49 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...