लाइव टीवी

कामदेव के तीर से देवता भी नहीं रहते हैं वंचिंत, बंसत पंचमी के दिन होती है विशेष पूजा

News18Hindi
Updated: January 28, 2020, 6:11 PM IST
कामदेव के तीर से देवता भी नहीं रहते हैं वंचिंत, बंसत पंचमी के दिन होती है विशेष पूजा
कथाओं के अनुसार, बसंत और कामदेव एक दूसरे के घनिष्ठ मित्र हैं.

पौराणिक कथाओं के अनुसार, कामदेव का धनुष और तीर फूलों से बना हुआ है. वे जब भी तीर छोड़ते हैं तो देवता भी इससे बच नहीं पाते हैं. देवताओं पर भी कामदेव के तीर का असर होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 28, 2020, 6:11 PM IST
  • Share this:
माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी के दिन बसंत पंचमी का त्योहार बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है. बसंत पंचमी के दिन विद्या, संगीत की देवी माता सरस्वती की पूजा की जाती है. ऐसा कहा जाता है कि इन दिन से कड़ाके की ठंड खत्म होती है और बसंत ऋतु की शुरुआत होती है.

बसंत पंचमी के दिन माता सरस्वती के अलावा कामदेव की पूजा भी की जाती है. ऐसा कहा जाता है कि कामदेव न हो तों दुनिया की उन्नति में रूक जाएगी. साथ ही मनुष्यों में प्रेम की भावना खत्म हो जाएगी. इसलिए हिंदू धर्म में कामदेव का विशेष स्थान दिया गया है.

इस दिन से मौसम का रंग बदलता है और प्रकृति सौंदर्य से लबरेज हो जाती है.
इस दिन से मौसम का रंग बदलता है और प्रकृति सौंदर्य से लबरेज हो जाती है.


क्या है कामदेव की आराधना के पीछे की कहानी

पौराणिक मान्यताओं और कथाओं के अनुसार, बसंत और कामदेव एक दूसरे के घनिष्ठ मित्र हैं. इस दिन से मौसम का रंग बदलता है और प्रकृति सौंदर्य से लबरेज हो जाती है. वातावरण अनुकूल होने के कारण, मनुष्य के मन में हर्ष और उल्लास होता है.

 

इसे भी पढ़ें: Basant Panchami 2020: 29 जनवरी को मनाई जाएगी बसंत पंचमी, जानिए शुभ मुहूर्त 

प्रेम के लिए खास दिन...
पौराणिक कथाओं के अनुसार, कामदेव का धनुष और तीर फूलों से बना हुआ है. वे जब भी तीर छोड़ते हैं तो देवता भी इससे बच नहीं पाते हैं. देवताओं पर भी कामदेव के तीर का असर होता है. कामदेव का तीर सीधा दिल पर वार करता है. इससे मनुष्य में प्रेम का भाव जागृत होता है. पौराणिक कथाओं के अनुसार, मनुष्यों में प्रेम का भाव जागृत करने में कामदेव की पत्नी रति भी उनका साथ देती है. इसलिए बसंत पंचमी के दिन कामदेव के साथ माता रति की पूजा भी होती है.

 

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्म से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 28, 2020, 6:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर