Home /News /dharm /

Basant Panchami 2022: कब है वसंत पंचमी? जानें तिथि, मुहूर्त एवं कैसे मनाते हैं यह पर्व

Basant Panchami 2022: कब है वसंत पंचमी? जानें तिथि, मुहूर्त एवं कैसे मनाते हैं यह पर्व

वसंत पंचमी 2022

वसंत पंचमी 2022

Basant Panchami 2022: Basant Panchami 2022: भारत में 6 ऋतुएं होती हैं, जिसमें वसंत को ऋतुराज कहा जाता है. माघ मास (Magh Month) के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को वसंत पंचमी का उत्सव मनाया जाता है.

Basant Panchami 2022: भारत में 6 ऋतुएं होती हैं, जिसमें वसंत को ऋतुराज कहा जाता है. माघ मास (Magh Month) के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को वसंत पंचमी का उत्सव मनाया जाता है. वसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा (Saraswati Puja) होती है. इस दिन कामदेव (Kaamdev) की भी पूजा की जाती है. वसंत पंचमी के दिन कई स्थानों पर पतंगबाजी का भी आयोजन किया जाता है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, वसंत पंचमी को पीले वस्त्र पहनने चाहिए. बालकों के शिक्षा का प्रारंभ आज से कराना चाहिए. इस दिन ही ज्ञान की देवी मां सरस्वती का उद्भव हुआ था, इसलिए इस दिन सरस्वती पूजा करने की परंपरा है. आइए जानते हैं कि इस वर्ष वसंत पंचमी कब है? तिथि एवं मुहूर्त क्या है?

वसंत पंचमी 2022 तिथि एवं मुहूर्त

हिन्दू कैलेंडर के आधार पर माघ माह के शुक्ल पंचमी की शुरुआत 05 फरवरी को सुबह 03 बजकर 47 मिनट पर हो रहा है. इसका समापन 06 फरवरी को प्रात: 03 बजकर 46 मिनट पर होगा. हिन्दू धर्म में ति​थियों की मान्यता सूर्योदय से होती है, ऐसे में वसंत पंचमी 05 फरवरी दिन शनिवार को मनाई जाएगी.

यह भी पढ़ें: कब है सरस्वती पूजा? जानें तिथि, पूजा मुहूर्त एवं महत्व

वसंत पंचमी पर जिन लोगों को सरस्वती पूजा करनी है, उनको सुबह 07 बजकर 07 मिनट से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट के मध्य कर लेनी चाहिए. यह पूजा के लिए अच्छा समय है. वसंत पंचमी के दिन का शुभ मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 13 मिनट से दोपहर 12 बजकर 57 मिनट तक है. इस दिन राहुकाल सुबह 09 बजकर 51 मिनट से दिन में 11 बजकर 13 मिनट तक है.

कैसे मनाते हैं वसंत पंचमी?
वसंत पंचमी के दिन लोग मां सरस्वती की मूर्ति स्थापना करते हैं. शुभ मुहूर्त में उनकी पूजा करते हैं. स्कूलों में इस दिन सांस्कृतिक कार्यक्रमों और प्रतियोगिताओं का आयोजन होता है. सरस्वती पूजा के दिन लोग एक दूसरे को लाल और पीले गुलाल लगाते हैं.

यह भी पढ़ें: सकट चौथ पर जानें चंद्रोदय का समय, करें इन गणेश मंत्रों का जाप

यह प्रकृति के उत्सव का भी पर्व होता है क्योंकि इस समय सर्दी और गर्मी का संतुलन होता है, चारों ओर खेतों में सरसों के फूल खिले होते हैं, लगता है कि धरती पीले रंग की चादर ओढ़ रखी हो.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Dharma Aastha, धर्म

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर