होम /न्यूज /धर्म /वसंत पंचमी पर करें कामदेव की पूजा, लव लाइफ में बढ़ेगा रोमांस, वैवाहिक जीवन भी होगा सुखमय

वसंत पंचमी पर करें कामदेव की पूजा, लव लाइफ में बढ़ेगा रोमांस, वैवाहिक जीवन भी होगा सुखमय

वसंत पंचमी पर कामदेव और रति की पूजा करने से लव लाइफ और वैवाहिक जीवन मधुर होगा.

वसंत पंचमी पर कामदेव और रति की पूजा करने से लव लाइफ और वैवाहिक जीवन मधुर होगा.

आज वसंत पंचमी के दिन कामदेव की पूजा की जाती है. कामदेव और रति की पूजा करने से लव लाइफ में रोमांस बढ़ता है और वैवाहिक जी ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

वसंत पंचमी के दिन कामदेव अपनी पत्नी रति के साथ पृथ्वी पर आते हैं.
एक बार भगवान शिव ने क्रोध में आकर कामदेव को भस्म कर दिया था.

आज 26 जनवरी को वसंत पंचमी है. यह ज्ञान की देवी सरस्वती की पूजा का दिन है, लेकिन यह प्रेम और उमंग के देवता कामदेव को भी समर्पित है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, वसंत पंचमी के दिन कामदेव अपनी पत्नी रति के साथ पृथ्वी पर आते हैं. इस दिन वसंत ऋतु का आगमन होता है. कामदेव लोगों में प्रेम और उमंग का संचार करते हैं. वसंत पंचमी का अवसर कामदेव और रति के पूजन का भी है. जिन लोगों के विवाह में देरी हो रही है, लव लाइफ या दांपत्य जीवन में खटपट रहती है तो इस दिन कामदेव और रति की पूजा करनी चाहिए. इनके प्रभाव से आपकी लव लाइफ या वैवाहिक जीवन मधुर होगा.

कामदेव को भगवान शिव ने कर दिया था भस्म
तिरुपति के ज्योतिषाचार्य डॉ. कृष्ण कृमार भार्गव बताते हैं कि एक बार भगवान शिव ने क्रोध में आकर कामदेव को भस्म कर दिया था. तब ​रति ने उनसे कामदेव को फिर से सशरीर वापस लाने की गुहार लगाई, तब भगवान शिव ने कहा कि कामदेव अनंग रहेंगे. वे भाव रूप में विद्यमान रहेंगे, द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण के पुत्र प्रद्युम्न के रूप में उनको फिर से शरीर प्राप्त होगा.

यह भी पढ़ें: वसंत पंचमी पर सरस्वती वंदना से करें मां शारदा को प्रसन्न, जानें आरती

वसंत पंचमी 2023 कामदेव पूजा विधि
वसंत पंचमी के अवसर पर आप स्नान के बाद कामदेव और रति की पूजा करें. विवाहित जोड़े या प्रेमी युगल साथ में कामदेव और रति का पीले फूल, गुलाब, अक्षत्, पान, सुपारी, इत्र, चंदन, माला, फल, मिठाई, सौंदर्य सामग्री आदि से पूजन करें. जिनके विवाह में देरी हो रही है, वे रति को 16 श्रृंगार सामग्री चढ़ाएं.

यह भी पढ़ें: वसंत पंचमी पर बन रहे हैं 4 शुभ योग, पंचक के साथ शिववास, मां सरस्वती के साथ पाएं शिव आशीर्वाद

कामदेव का मंत्र
उसके बाद ओम कामदेवाय विद्महे, रति प्रियायै धीमहि, तन्नो अनंग प्रचोदयात्. मंत्र का जाप करें. चाहें तो कामदेव के साबर मंत्र ओम नमो भगवते कामदेवाय यस्य यस्य दृश्यो भवामि यस्य यस्य मम मुखं पश्यति तं तं मोहयतु स्वाहा का जाप भी कर सकते हैं. इससे कामदेव प्रसन्न होते हैं. प्रेम संबंध मधुर होते हैं. दांपत्य जीवन खुशहाल होता है.

वसंत पंचमी मुहूर्त 2023
माघ शुक्ल पंचमी तिथि की शुरूआत: 25 जनवरी, दोपहर 12:34 बजे से
माघ शुक्ल पंचमी तिथि की समाप्ति: 26 जनवरी, सुबह 10:28 बजे पर

Tags: Basant Panchami, Dharma Aastha

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें