भाद्रपद: कृष्ण भक्ति को समर्पित है भादो, लेकिन नहीं करने चाहिए ये काम

इस माह में भक्‍तों की मनोकामनाएं भी पूर्ण होती हैं.
इस माह में भक्‍तों की मनोकामनाएं भी पूर्ण होती हैं.

मान्‍यता है कि भाद्रपद के महीने में भगवान विष्‍णु (Lord Vishnu) नींद से जाग जाते हैं. वहीं यह भगवान श्री कृष्‍ण (Lord Shri Krishna) का महीना माना जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 4, 2020, 10:32 AM IST
  • Share this:
हिंदू धर्म में सावन माह (Sawan Month) की तरह भादो महीने (Bhado Month) का भी विशेष महत्‍व है. श्रावण का महीना समाप्‍त होते ही भादो यानी भाद्रपद का महीना शुरू हो जाता है. हिंदू पचांग के अनुसार यह छठा महीना होता है. जिस तरह सावन महीने में सोमवार का महत्‍व होता है, उसी तरह इस महीने में रविवार का भी बहुत महत्‍व होता है. मान्‍यता है कि इस माह में भगवान विष्‍णु (Lord Vishnu) नींद से जाग जाते हैं. वहीं यह भगवान श्री कृष्‍ण (Lord Shri Krishna) का महीना माना जाता है. इस महीने में कुछ चीजों को खाया जाना उचित नहीं समझा जाता है. यह महीना अपनी गलतियों का प्रायश्चित करने के लिए बहुत अच्‍छा माना जाता है. यानी इस माह में मन शुद्ध होता है.

भाद्रपद मास में कुछ नियम बनाए गए हैं और कुछ सावधानियां भी रखनी जरूरी बताई गई हैं.

इन्‍हीं में से एक है दही का सेवन न किया जाना. मान्‍यता है कि भादों के महीने में दही और इससे बनी चीजें नहीं खाई जानी चाहिए. यानी इस माह में दही खाया जाना पूरी तरह वर्जित है.



इस महीने में कच्ची चीजें भी नहीं खाई जानी चाहिए.
भादो के महीने में रविवार के दिन चावल नहीं खाए जाने चाहिए.

इस माह में दिन में दो बार शीतल जल से स्नान करना अच्‍छा बताया गया है. इससे आलस्य दूर हो जाता है.

इस महीने में रक्तचाप बढ़ने की सम्भावना होती है. इसका भी विशेष ध्यान रखना चाहिए.

इसके अलावा इस महीने में भगवान श्री कृष्ण को तुलसी दल अर्पित करना और तुलसी दल को चाय या दूध में उबालकर पीना अच्छा माना गया है.

इस माह में भक्‍तों की मनोकामनाएं भी पूर्ण होती हैं. इस महीने में किसी भी दिन अगर भगवान श्री कृष्ण को पंचामृत से स्नान कराया जाए, तो वे अपने भक्‍तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं.

मान्‍यता है कि जिन लोगों को संतान नहीं हुई है, ऐसे लोगों को इस माह में भगवान श्री कृष्ण का जन्म कराना चाहिए. साथ ही श्री कृष्ण के जन्मोत्सव में शामिल होना भी अच्‍छा होता है.

इस महीने में श्रीमदभगवदगीता का पाठ करना चाहिए. इससे शुभ परिणाम प्राप्‍त होता है.

इसके अलावा अगर इस महीने में लड्डू गोपाल और शंख की स्थापना की जाए तो घर में धन और सम्पन्नता आने लगती है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज