Home /News /dharm /

Bhai Dooj Shubh Muhurat: भाईदूज पर इस शुभ मुहूर्त में लगाएं तिलक, जानें पूजा विधि एवं पौराणिक कथा

Bhai Dooj Shubh Muhurat: भाईदूज पर इस शुभ मुहूर्त में लगाएं तिलक, जानें पूजा विधि एवं पौराणिक कथा

भाईदूज के दिन शुभ मुहूर्त में विधि-विधान से तिलक लगाने की परंपरा है.

भाईदूज के दिन शुभ मुहूर्त में विधि-विधान से तिलक लगाने की परंपरा है.

Bhai Dooj Shubh Muhurat: पांच दिन चलने वाले दिवाली महापर्व (Diwali Festival) का समापन भाईदूज (Bhai Dooj) के साथ होता है. भाईदूज के दिन बहने अपने भाई की सुरक्षा की कामना करते हुए उन्हें तिलक लगाती हैं. धार्मिक मान्यता है कि इस दिन बहनों द्वारा भाईयों को तिलक करने से यम का भय खत्म हो जाता है. भाईदूज मनाने को लेकर पौराणिक कथाएं भी प्रचलित हैं. इस दिन बहनें भाईयों को घर बुलाकर उन्हें भोजन भी कराती हैं. यह त्यौहार मुख्य तौर पर भाई और बहनों का ही त्यौहार माना जाता है.

अधिक पढ़ें ...

    Bhai Dooj Shubh Muhurat: भाईदूज (Bhai Dooj) का त्यौहार भाई और बहन के स्नेह का प्रतीक है. दिवाली महापर्व के पांचवे एवं अंतिम दिन यह त्यौहार मनाया जाता है. इस त्यौहार को मनाने को लेकर मान्यता है कि इस दिन बहनें अपने भाई को तिलक लगाकर उनकी लंबी उम्र की कामना करती हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार शुभ मुहूर्त में विधि-विधान से बहनों द्वारा अपने भाईका तिलक (Tilak) किया जाना श्रेष्ठ होता है. भाईदूज पर पूजन की सामग्री के साथ ही पूजा की सही विधि अपनाना भी जरूरी होता है. आज के दिन शुभ मुहूर्त (Shubh Muhurat) को ध्यान में रख सही पूजा विधि अपनाकर भाई को तिलक लगाना चाहिए.

    भाईदूज की पूजा विधि
    भाईदूज का दिन भाईओं और बहनों के लिए बेहद खास होता है. इस दिन बहनों को सूर्योदय से पहले उठकर अपने ईस्ट और भगवान विष्णु का पूजन करना चाहिए. इसके बाद पिसे चावल से चौक बनाकर उस चौक पर भाई को बैठाना चाहिए. भाई की हथेली पर चावल का घोल लगाने के बाद उस पर थोड़ा सा सिंदूर लगाना चाहिए, फिर फूल, पैसा, सुपारी हाथों में रखकर उस पर पानी छोड़ना चाहिए. इसक बाद भाई के माथे पर तिलक करना चाहिए. तिलक लगाने के बाद भाई की आरती उतारकर कलावा बांधना चाहिए. इसके बाद भाई का मुंह मीठा कराना चाहिए. इसके बाद भाई को भोजन कराएं और उसे भोजन के बाद पान खिलाएं. वहीं भाईयों को इस दिन अपनी बहनों को गिफ्ट देना चाहिए.

    भाईदूज का शुभ मुहूर्त

    प्रात: 07:59 से 09:23 बजे तक
    दोपहर 12:10 से 4:23 बजे तक

    इसे भी पढ़ें: भाई दूज पर पूजा करते समय थाली में जरूर रखें ये चीजें, जानें भाई को तिलक करने का मंत्र

    भाईदूज की पौराणिक कथा
    भाईदूज मनाने को लेकर कुछ पौराणिक कथाएं भी प्रचलित हैं. एक कथा के अनुसार सूर्यदेव की पत्नी संज्ञा की दो संतानें थीं. एक पु्त्र यम और पुत्री यमुना. संज्ञा जब सूर्यदेव का तेज सहन नहीं कर सकीं तो अपने पुत्र एवं पुत्री को उन्हें सौंपकर अपनी छायामूर्ति का निर्माण कर चली गईं. युमना का अपने भाई यमराज से काफी स्नेह था. इसी वजह से वे अपने भाई के यहां प्राय: जाती थीं और उनका सुख-दुख पूछा करती थीं. वे यम को अपने घर आने का आमंत्रण दिया करती थी लेकिन यम व्यस्तता के चलते बहन के घर नहीं जा पाते थे.

    इसे भी पढ़ें: यम द्वितीया के दिन क्यों मनाया जाता है भाई दूज का त्योहार? ये है कहानी

    एक बार कार्तिक शुक्ल द्वितीय को यम अपनी बहन यमुना के घर अचानक पहुंच गए. बहन यमुना अपने भाई को देखकर काफी खुश हुई और उनका खूब आदर सत्कार किया. उन्हें भोजन कराया और उनके माथे पर तिलक लगाया. यमराज ने प्रसन्न होकर यमुना से कुछ वर मांगने को कहा. इस पर यमुना ने कहा कि वर के तौर पर आप हर साल मेरे घर आएं और मेरा आतिथ्य स्वीकार करें. इसी तरह जो भाई अपनी बहन के घर जाकर उसका आतिथ्य स्वीकार करे और बहन अपने भाई को टीका लगाकर भोजन कराए उसे यम का कभी भय न रहे. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    Tags: Religion

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर