Home /News /dharm /

bhanu saptami 2022 date tithi puja muhurat vrat vidhi and importance kar

Bhanu Saptami 2022: 22 मई को है भानु सप्तमी, सूर्य देव की पूजा से बढ़ेगा धन, वंश और सुख

भानु सप्तमी व्रत रखने और सूर्य देव की पूजा करने से दुख, रोग, पाप आदि नष्ट हो जाते हैं. (Photo: Pixabay)

भानु सप्तमी व्रत रखने और सूर्य देव की पूजा करने से दुख, रोग, पाप आदि नष्ट हो जाते हैं. (Photo: Pixabay)

जब किसी भी माह की सप्तमी तिथि रविवार को होती है, तो उस दिन भानु सप्तमी व्रत (Bhanu Saptami) रखते हैं. भानु सप्तमी व्रत रखने और सूर्य पूजा करने से दुख, रोग, पाप आदि दूर होते हैं.

जब किसी भी माह की सप्तमी तिथि रविवार के दिन होती है, तो उस दिन भानु सप्तमी (Bhanu Saptami) होती है. सप्तमी तिथि के स्वामी या अधिप​ति देव स्वयं भगवान सूर्य हैं. ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी ति​थि 22 मई दिन रविवार को है, इस​लिए भानु सप्तमी व्रत इस दिन रखा जाएगा. वैसे भी ज्येष्ठ माह में सूर्य देव की उपासना और रविवार व्रत रखने का महत्व है. इस माह में सूर्य देव के भानु स्वरूप की पूजा करते हैं. पुरी के ज्योतिषाचार्य डॉ. गणेश मिश्र के अनुसार, भानु सप्तमी का व्रत रखने और सूर्य देव की पूजा करने से दुख, रोग, पाप आदि नष्ट हो जाते हैं. सूर्य देव की कृपा से धन, धान्य, वंश और सुख में वृद्धि होती है. इस दिन सूर्य को जल देने से बुद्धि विवेक बढ़ता है, दान करने से माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है. भानु सप्तमी के पुण्य प्रभाव से पिता के साथ रिश्ता मजबूत होता है. आइए जानते हैं भानु सप्तमी की तिथि, पूजा मुहूर्त और इस दिन क्या करें.

यह भी पढ़ें: करें आदित्य हृदय स्तोत्र पाठ, विजय के लिए श्रीराम ने भी किया था

भानु सप्तमी 2022 ति​थि
पंचांग के अनुसार, ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि का प्रारंभ 21 मई दिन शनिवार को दोपहर 02 बजकर 59 मिनट पर हो रहा है. इस तिथि का समापन अगले दिन 22 मई रविवार को दोपहर 12 बजकर 59 मिनट पर होगा. ऐसे में भानु सप्तमी व्रत 22 मई को रखा जाएगा.

यह भी पढ़ें: कुंडली में सूर्य को मजबूत करने के लिए रविवार को करें ये उपाय

भानु सप्तमी 2022 पूजा मुहूर्त
भानु सप्तमी व्रत के दिन इंद्र योग सुबह से लेकर अगले दिन प्रात: 03:00 बजे तक है और धनिष्ठा नक्षत्र रात 10:47 बजे तक है. द्विपुष्कर योग प्रात: 05:27 बजे से लेकर दोपहर 12:59 बजे तक है. इंद्र योग, द्विपुष्कर योग और धनिष्ठा नक्षत्र शुभ एवं मांगलिक कार्यों के लिए उत्तम माने गए हैं. इस दिन राहुकाल शाम 05:26 बजे से शाम 07:09 बजे तक है.

ऐसे में आप 22 मई को प्रात: स्नान के बाद सूर्य देव को जल अर्पित करें और सूर्य देव के भानु स्वरूप की पूजा करें. इस दिन आप चाहें तो भानु सप्तमी व्रत भी रख सकते हैं.

भानु सप्तमी व्रत एवं पूजा विधि
यदि आपको 22 मई को भानु सप्तमी का व्रत रखना है तो उस दिन नमक का सेवन नहीं करना है. इस दिन प्रात: स्नान के बाद तांबे के पात्र में जल भर लें. फिर उसमें लाल चंदन या रोली, अक्षत्, लाल पुष्प और शक्कर डाल लें. फिर सूर्य देव को जल अर्पित करें.

उसके बाद एक लाल आसन पर बैठकर सूर्य मंत्र का जाप करें. फिर सूर्य चालीसा, आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ करें. उसके पश्चात घी के दीपक या कपूर से सूर्य देव की आरती करें. किसी ब्राह्मण को जल कलश, पंखा, गेहूं, गुड़, घी, तांबे के बर्तन, लाल वस्त्र, मसूर की दाल आदि का दान कर सकते हैं.

पूजा के बाद दिनभर ब्रह्मचर्य का पालन करें और भगवत भजन करें. फलाहार करें, लेकिन नमक न खाएं. रात्रि के समय में जागरण करें. फिर मीठा भोजन करके व्रत का पारण करें. इस प्रकार से व्रत करने पर सूर्य देव प्रसन्न होते हैं और मनोकामनाओं की पूर्ति करते हैं.

Tags: Dharma Aastha, धर्म

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर