Chanakya Niti: प्रसन्नता से भरा रहेगा जीवन यदि करेंगे ये काम

चाणक्य नीति को रखें ध्यान प्रसन्नता से भरा रहेगा जीवन
चाणक्य नीति को रखें ध्यान प्रसन्नता से भरा रहेगा जीवन

चाणक्य नीति (Chanakya Niti/Second Chapter):चाणक्य नीति (Chanakya Niti) में आचार्य चाणक्य द्वारा वर्णित नीतियां आज भी प्रासंगिक हैं. . आचार्य चाणक्य के अनुसार मनुष्य को अपने जीवन में इन बातों का ध्यान रखना चाहिए .

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 10:37 AM IST
  • Share this:
चाणक्य नीति (Chanakya Niti): आचार्य चाणक्य राजनीति के प्रकाण्ड विद्वान थे. आचार्य चाणक्य ने चन्द्रगुप्त जोकि एक चरवाहा था को एक महान सम्राट बनाया. आचार्य चाणक्य ने उसकी प्रतिभा को परखा और उसे चाणक्य नीति की शिक्षा दी. चाणक्य की नीतियों पर चल कर कई साम्राज्य स्थापित हुए. उसकी बनाई नीतियां आज के समय में भी बेहद प्रासंगिक हैं. आचार्य चाणक्य ने अपने इस ज्ञान को चाणक्य नीति में (Chanakya Niti) में संकलित किया है. चाणक्य नीति (Chanakya Niti) में आचार्य चाणक्य द्वारा वर्णित नीतियां आज भी प्रासंगिक हैं. आज हम आपके लिए हिंदी साहित्य मार्गदर्शन के साभार से लेकर आए हैं आचार्य चाणक्य की कुछ नीतियां. आचार्य चाणक्य के अनुसार मनुष्य को अपने जीवन में इन बातों का ध्यान रखना चाहिए .

चाणक्य नीति के अनुसार, पत्नी की जुदाई से दुखी व्यक्ति, अपनों से अपमानित हुआ व्यक्ति, जिस व्यक्ति पर कर्ज हो, जो व्यक्ति दुष्ट राजा की सेवा कर रहा हो और जो दरिद्र लोगों का संग करता ही- ऐसे व्यक्ति का शरीर बिना किसी आग के ही जलने लगता है यानी कि नाश की ओर बढ़ने लगता है.

इसे भी पढ़ें: Chanakya Niti: चाणक्य के अनुसार, धनवान बनना चाहते हैं तो भूलकर भी न करें ये काम



चाणक्य नीति के अनुसार, सज्जन व्यक्ति हमेशा और हर जगह नहीं होते हैं. जिस तरह कि हर पहाड़ पर माणिक्य नहीं पाया जाता है और हर हाथी के सिर पर मणि नहीं होती है, हर जंगल में चन्दन के पेड़ नहीं होते उसी जगह हर जगह अच्छे और सच्चे लोग नहीं मिलते हैं.
चाणक्य नीति के अनुसार, एक बुद्धिमान पिता वही है जो अपने बच्चों को अच्छी और सच्ची शिक्षा देता है और उन्हें गुणी बनने के लिए प्रेरित करता है. पिता जानता है कि संतान यदि ज्ञानी और नीति में निपुण होंगे तो ही समाज और कुल में उनका मान बढ़ेगा.

चाणक्य नीति के अनुसार, हर दिन कुछ अच्छे कार्य करने चाहिए. प्रतिदिन नियमानुसार, कोई नया श्लोक, कोई नया अक्षर या कोई नया ज्ञान सीखना चाहिए. अथवा कोई अभ्यास, दान या पवित्र कार्य करना चाहिए. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज