• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • CHANAKYA NITI EGO AND LUST ARE THE ENEMIES OF HUMANS LEARN THESE 5 THINGS OF ACHARYA CHANAKYA DLNK

Chanakya Niti: अहंकार और वासना हैं मनुष्‍य के शत्रु, जानें आचार्य चाणक्‍य की ये 5 बातें

Chanakya Niti: विद्वान व्‍यक्ति को सच बोलकर संतुष्ट करें.

चाणक्य नीति (Chanakya Niti): आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) कहते हैं कि जो लोग वासना के अधीन है, वे देख नहीं सकते. वहीं अहंकारी व्यक्ति को कभी ऐसा नहीं लगता कि वह कुछ बुरा कर रहा है.

  • Share this:
    चाणक्य नीति (Chanakya Niti): आचार्य चाणक्य (Acharya Chanakya) एक कुशल राजनीतिज्ञ, चतुर कूटनीतिज्ञ, प्रकांड अर्थशास्त्री के रूप में विख्‍यात हुए. उनकी कुशाग्र बुद्धि और तार्किकता से सभी प्रभावित थे. यही वजह है कि वह कौटिल्य (Kautilya) कहे जाने लगे. उन्‍होंने चाणक्य नीति के माध्‍यम से जीवन की कुछ समस्‍याओं के समाधन की ओर ध्‍यान दिलाया है. वहीं उन्‍होंने दुष्‍ट लोगों की पहचान और जीवन में सुखी रहने के लिए कई बातों के साथ कई समस्याओं के हल भी बताए हैं. चाणक्‍य नीति (Chanakya Niti) कहती है कि जो लोग वासना के अधीन है, वे देख नहीं सकते. वहीं अहंकारी व्यक्ति को कभी ऐसा नहीं लगता कि वह कुछ बुरा कर रहा है. जीवन में सफल होने और शांतिपूर्ण जीवन के लिए आचार्य चाणक्‍य ने कुछ महत्‍वपूर्ण बातें कही हैं. आप भी जानें चाणक्‍य नीति की ये खास बातें-

    अहंकार में कुछ दिखाई नहीं देता
    चाणक्‍य नीति कहती है कि जो लोग वासना के अधीन है, वे देख नहीं सकते. अहंकारी व्यक्ति को कभी ऐसा नहीं लगता की वह कुछ बुरा कर रहा है और जो पैसे के पीछे पड़े है, उनको उनके कर्मो में कोई पाप दिखाई नहीं देता.

    इसे भी पढ़ें - Chanakya Niti: आचार्य चाणक्‍य ने क्रोध को बताया अग्नि और वासना को बताया रोग

    इन्द्रियों को वश में करें
    चाणक्‍य नीति के अनुसार बुद्धिमान व्यक्ति अपनी इन्द्रियों को बगुले की तरह वश में करते हुए अपने लक्ष्य को जगह, समय और अपनी योग्यता का पूरा ध्यान रखते हुए पूर्ण करते हैं.

    विद्वान व्‍यक्ति के साथ ऐसा व्‍यवहार
    आचार्य चाणक्‍य के अनुसार एक लालची व्‍यक्ति को भेंट वस्तु देकर संतुष्ट करें. एक कठोर आदमी को हाथ जोड़कर संतुष्ट करें. इसी तरह मूर्ख को सम्मान देकर संतुष्ट करें. वहीं विद्वान व्‍यक्ति को सच बोलकर संतुष्ट करें.

    सदा संतुष्‍ट रहना सीखें
    चाणक्‍य नीति कहती है कि हमें पशुओं से भी कुछ बातें सीखनी चाहिए. गधे से ये तीन बातें सीखें- अपना बोझ ढोना न छोड़ें, सर्दी गर्मी की चिंता न करते हुए अपने लक्ष्‍य में लगे रहें और सदा संतुष्ट रहे.

    इसे भी पढ़ें - Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य ने कहा नफरत करने वालों से बनाएं दूरी

    कौवे से सीखें ये बातें
    आचार्य चाणक्‍य के अनुसार कौवे से ये बातें सीखी जा सकती हैं. नीडरता, उपयोगी वस्तुओ का संचय करना, सभी ओर दृष्टी रखना और दूसरों पर आसानी से विश्वास न करना. साभार/हिंदी साहित्‍य दर्पण (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)