Chanakya Niti: चाणक्य नीति की ये 5 बातें, जो आपको जरूर पता होनी चाहिए

चाणक्य नीति में जीवन से जुड़ी कई महत्वपूर्ण बातें बतायी गई हैं
चाणक्य नीति में जीवन से जुड़ी कई महत्वपूर्ण बातें बतायी गई हैं

चाणक्य नीति (Chanakya Niti): आचार्य चाणक्य के अनुसार बुद्धिमान व्यक्ति को किसी ऐसे स्‍थान पर नहीं रहना चाहिए जहां लोगो में किसी बात की लज्जा न हो...

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 28, 2020, 10:08 AM IST
  • Share this:
चाणक्य नीति (Chanakya Niti): आचार्य चाणक्य बहुत विद्वान व्यक्ति थे. जहां उनकी बुद्धि बहुत कुशाग्र थी, वहीं उन्हें विभिन्न विषयों की गहरी समझ भी थी. अपनी कुशाग्र बुद्धि और नीतियों के  बल पर ही उन्होंने चंद्रगुप्‍त मौर्य को शासक के रूप में स्थापित करने में अहम भूमिका निभाई. चाणक्य ने अर्थशास्त्र की रचना की. आचार्य चाणक्य द्वारा वर्णित नीतियां आज भी प्रासंगिक हैं, जो जीवन में सफलता प्राप्‍त करने की प्रेरणा देती हैं. आज हम आपके लिए 'हिंदी साहित्य दर्पण' के साभार से लेकर आए हैं आचार्य चाणक्य की कुछ नीतियां. आचार्य चाणक्य के अनुसार बुद्धिमान व्यक्ति को नीचे दी गई इन बातों का अनुसरण जरूर करना चाहिए. उनके अनुसार बुद्धिमान व्यक्ति किसी ऐसे देश में कभी न जाए जहां ये चीजें न हों-

जहां रोजगार कमाने का साधन न हो
आचार्य चाणक्य के अनुसार बुद्धिमान व्यक्ति किसी ऐसे देश में रहने का निश्‍चय कभी न करें, जहां रोजगार न हो. क्‍योंकि रोजगार न होने पर उसका जीवन दुश्‍सार हो जाएगा. परिवार के भरण पोषण के लिए रोजगार बहुत जरूरी है. इसलिए जहां रोजगार का माध्‍यम और साधन हो वहीं रहें.

इसे भी पढ़ें- इसलिए महिलाओं से हार मान लेते हैं पुरुष: चाणक्य नीति
जहां लोगों को किसी बात का भय न हो


बुद्धिमान व्यक्ति को ऐसे स्‍थान पर रहने का निश्‍चय नहीं करना चाहिए, जहां लोग किसी भी बात से डरते न हों. उनके अंदर बुरे काम करके उसके परिणामों को भुगतने का भय न हो.

जहां लोगो में किसी बात की लज्जा न हो
आचार्य चाणक्य के अनुसार व्यक्ति में लज्‍जा का होना बहुत जरूरी है, क्‍योंकि निर्लज व्‍यक्ति किसी का सम्‍मान नहीं कर सकता. इसलिए ऐसे स्‍थान पर रहने का चुनाव कदापि न करें, जहां लोगों में किसी बात की लज्‍जा न हो.

जहां लोग बुद्धिमान न हों
ऐसी जगह और ऐसे लोगों के बीच कभी न रहें जो बुद्धिमान न हों. किसी बुद्धिमान व्‍यक्ति का जीवन मूर्ख लोगों के बीच व्‍यतीत होना सरल सरल नहीं है. इसलिए ऐसी जगह और ऐसे लोगों के बीच रहें जो बुद्धिमान हों.

इसे भी पढ़ें- Chanakya Niti: चाणक्य के अनुसार, धनवान बनना चाहते हैं तो न करें ये

दान-धरम करने वाले लोगों के बीच रहें
जीवन में दान धरम करना बहुत जरूरी है. इसलिए किसी बुद्धिमान व्‍यक्ति को ऐसे लोगों के बीच नहीं रहना चाहिए, जिनकी वृत्ति दान धरम करने की न हो. उन्‍हीं लोगों के बीच रहें, जो दान धरम जरूर करते हों. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज