Home /News /dharm /

Dev Deepawali 2020 Date: देव दिवाली में काशी होगी दीपदान से जगमग, जानें शुभ मुहूर्त, धार्मिक महत्व

Dev Deepawali 2020 Date: देव दिवाली में काशी होगी दीपदान से जगमग, जानें शुभ मुहूर्त, धार्मिक महत्व

धर्म शास्त्रों में कार्तिक पूर्णिमा के दिन देव दिवाली का विशेष महत्व है.

धर्म शास्त्रों में कार्तिक पूर्णिमा के दिन देव दिवाली का विशेष महत्व है.

Dev Deepawali 2020 Date: मान्यता है कि कार्तिक पूर्णिमा (Kartik Purnima) के दिन काशी के घाटों पर सबसे पहले देवताओं ने दिवाली मनायी थी. उस दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर नामक दानव का वध किया था...

    Dev Diwali 2020: देव दिवाली कुछ जगहों पर आज 29 नवंबर और कुछ जगहों पर 30 नवंबर को मनाई जाएगी. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, देव दिवाली के दिन स्वर्ग से सभी देवी-देवता पृथ्वी पर काशी में दिवाली मनाने आते हैं. हर साल कार्तिक पूर्णिमा के दिन देव दिवाली मनाई जाती है. आज 29 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा मनाई जा रही है. धर्म शास्त्रों में कार्तिक पूर्णिमा के दिन देव दिवाली का विशेष महत्व है. आइए जानते हैं देव दिवाली का शुभ मुहूर्त और धार्मिक महत्त्व...

    देव दिवाली का शुभ मुहूर्त:
    हिन्दू पंचांग के अनुसार, देव दिवाली कुछ जगहों पर आज 29 नवंबर और कुछ जगहों पर 30 नवंबर को मनाई जाएगी.
    कार्तिक पूर्णिमा आज 29 नवंबर को दोपहर 12:47 बजे से लग जाएगी और 30 नवंबर को दोपहर 2:59 बजे इसका समापन होगा.

    देव दिवाली का धार्मिक महत्व:

    धार्मिक मान्यता के अनुसार, देव दिवाली के दिन स्वर्गलोक (Heaven) से देवता भी काशी के घाटों पर उतर आते हैं, दीपावली मनाने. दुनिया अब उस पर्व को देव दीपावली (Dev Deepawali) के नाम से जानती-पहचानती है. मान्यता है कि कार्तिक पूर्णिमा (Kartik Purnima) के दिन काशी के घाटों पर सबसे पहले देवताओं ने दिवाली मनायी थी. उस दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर नामक दानव का वध किया था. देवता उसके अत्याचार से त्राहिमाम कर रहे थे.

    देवताओं की प्रार्थना पर ही भूतनाथ भगवान शंकर ने उस राक्षस को मारकर देवलोक पहुंचा दिया, इसी कारण भोले शंकर का नाम त्रिपुरारी पड़ा. जब यह खबर देवताओं को लगी तो वे खुशी से झूम उठे और भगवान शिव को खुश करने के लिए उनकी नगरी में आकर दीए जलाए गए. देवताओं की इस दिवाली को देव दीपावली कहा जाने लगा. ये परंपरा आज भी बदस्तूर चली आ रही है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    Tags: Religion

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर