Diwali 2020: दिवाली पर अपनाएं ये वास्तु टिप्स, मां लक्ष्मी की कृपा से होगी धन की वर्षा

दिवाली पर पूजा-अर्चना के अलावा कुछ सरल वास्तु के प्रयोग भी अपनाए जाते हैं जिनसे मां लक्ष्मी की कृपा हमेशा लोगों के घर पर बनी रहती है.
दिवाली पर पूजा-अर्चना के अलावा कुछ सरल वास्तु के प्रयोग भी अपनाए जाते हैं जिनसे मां लक्ष्मी की कृपा हमेशा लोगों के घर पर बनी रहती है.

पुराणों के अनुसार दीपावली (Deepawali 2020) के दिन ही श्रीराम (Lord Rama) अयोध्या लौटे थे. भगवान राम के आने की खुशी में अयोध्यावासियों ने उनका दीप जलाकर स्वागत किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 11:44 AM IST
  • Share this:
दिवाली या दीपावली (Diwali 2020) हिन्दू धर्म का प्रमुख त्योहार है. यह 5 दिवसीय पर्व है, जो धनतेरस से भाई दूज 5 दिनों तक चलता है. दिवाली अंधकार पर प्रकाश की विजय को दर्शाता पर्व है. हर साल कार्तिक मास की अमावस्या के दिन दीपावली पर मां लक्ष्मी (Maa Lakshmi) और श्रीगणेश (Lord Ganesha) की पूजा करने का विधान है. इस बार दिवाली का पर्व 14 नबंवर 2020 (शनिवार) को मनाया जाएगा. पुराणों के अनुसार, दीपावली के दिन ही श्रीराम (Lord Rama) अयोध्या लौटे थे. भगवान राम के आने की खुशी में अयोध्यावासियों ने उनका दीप जलाकर स्वागत किया था. सुख-समृद्धि की कामना के लिए दिवाली से बढ़कर कोई त्योहार नहीं होता इसलिए इस अवसर पर मां लक्ष्मी की पूजा भी की जाती है.

दीपदान, धनतेरस, गोवर्धन पूजा, भैया दूज जैसे त्योहार दिवाली के साथ-साथ ही मनाए जाते हैं. दीपावली पर हर किसी की कामना होती है कि मां लक्ष्मी का उनके घर में आगमन हो और वह सर्वसमृद्धि का आशीर्वाद दें. दिवाली पर पूजा-अर्चना के अलावा कुछ सरल वास्तु के प्रयोग भी अपनाए जाते हैं जिनसे मां लक्ष्मी की कृपा हमेशा लोगों के घर पर बनी रहती है. माना जाता है कि इन दिनों किए गए उपाय से घर-परिवार में सुख-समृद्धि आती है. आइए जानते हैं दिवाली पर किए जाने वाले वास्तु के उपाय के बारे में.

इसे भी पढ़ेंः Diwali 2020: जानें कब मनाई जाएगी दिवाली, क्या है दीपावली का महत्व और शुभ मुहूर्त



होती है आर्थिक समृद्धि
वास्तु शास्त्र के अनुसार दिवाली के दिन अपने घर के ईशान कोण और उत्तर दिशा को साफ, स्वच्छ, खुला और हल्का रखें. ऐसा करने से आर्थिक समृद्धि की प्राप्ति होती है. आपको बता दें कि उत्तर-पूर्व की दिशा को ईशान कोण कहा जाता है.

सुख-शांति का होता है वास
अगर घर के ईशान कोण और उत्तर दिशा में कूड़ा-कचरा या फिर अनावश्यक सामान रखा है तो दिवाली से पहले उसको हटा दें. कहते हैं कि ऐसा करने से धन का मार्ग खुलता है और घर में सुख व शांति का भी वास होता है.

धन-धान्य की नहीं होती कमी
दिवाली से पहले ही घर के पूर्व या फिर उत्तर दिशा के बीच हल्के और कम ऊंचाई के हरे पौधे रख दें. वास्तु शास्त्र के अनुसार ऐसा करने से घर में कभी धन-धान्य की कमी नहीं होती है.

होती है धन की प्राप्ति
धनतेरस से दीपावली तक अपने घर के ब्रह्मस्थान अर्थात केंद्र को साफ-सुथरा व खुला रखें. कहते हैं कि ऐसा करने से धन की प्राप्ति होती है.

इसे भी पढ़ेंः Diwali 2020: पटाखे या दिया जलाते वक्त जल जाएं तो फ़ौरन इन आयुर्वेदिक नुस्खों को अपनाएं

आय और धन में होती है वृद्धि
दिवाली के दिन घर में थोड़ा परिवर्तन करें. वास्तु के अनुसार इस दिन उत्तर दिशा में दर्पण लगाएं. इस दिशा में दर्पण लगाने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार बढ़ता है, जिससे आय और धन में वृद्धि होती है.

प्रसन्न होते हैं कुबेर देवता
उत्तर दिशा के अधिष्ठित देवता कुबेर हैं जो धन और समृद्धि के द्योतक हैं. ज्योतिष के अनुसार बुद्ध ग्रह उत्तर दिशा के स्वामी हैं. उत्तर दिशा को मातृ स्थान भी कहा गया है. इस दिशा में स्थान खाली रखना या कच्ची भूमि छोड़ना धन और समृद्धि कारक माना जाता है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज