• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • Durga Puja 2021: कल महासप्तमी के दिन होगी नवपत्रिका पूजा, जानें पूजन विधि

Durga Puja 2021: कल महासप्तमी के दिन होगी नवपत्रिका पूजा, जानें पूजन विधि

नवपत्रिका को लाल रंग की बॉर्डर वाली सफेद साड़ी में सजाया जाता है. Image-shuttesrtock.com

नवपत्रिका को लाल रंग की बॉर्डर वाली सफेद साड़ी में सजाया जाता है. Image-shuttesrtock.com

Durga Puja 2021: महासप्तमी (Mahasaptami) का शुभ अवसर एक साथ नौ पौधों के पवित्र स्नान के साथ शुरू होता है, जिसे नदी या तालाब में देवी दुर्गा के रूप में आमंत्रित किया जाता है. इसे नवपत्रिका पूजा कहते हैं.

  • Share this:

    Durga Puja 2021: अक्टूबर का महीना काफी पवित्र माना जाता है. इस महीने में बहुत से व्रत और त्योहार पड़ते हैं. बंगालियों का खास त्योहार दुर्गा पूजा भी इसी महीने मनाया जाता है. नवरात्रि के सातवें दिन महापूजा की शुरुआत होती है. इसे महासप्तमी (Mahasaptami Puja) कहा जाता है. इस दिन सुबह के समय नवपत्रिका पूजा (Nabapatrika Puja) यानी नौ तरह की पत्तियों से मिलाकर बनाए गए गुच्छे से दुर्गा आह्वान किया जाता है. दुर्गा पूजा का पर्व 10 दिनों तक मनाया जाता है और हर दिन का अपना अलग महत्व होता है. आखिरी के चार दिन बेहद पवित्र होते हैं. जहां हिंदू नवरात्रि के रूप में मां दुर्गा के स्वरूप की पूजा करते हैं, वहीं बंगाली लोग 10 दिन तक मां दुर्गा की ही पूजा करते हैं. इस बार नवपत्रिका की पूजा 12 अक्टूबर यानी कल की जाएगी.

    महासप्तमी का शुभ अवसर एक साथ नौ पौधों के पवित्र स्नान के साथ शुरू होता है, जिसे नदी या तालाब में देवी दुर्गा के रूप में आमंत्रित किया जाता है. नौ पौधों की पूजा को नवपत्रिका (Nabapatrika) के नाम से जाना जाता है. 9 तरह की पत्तियों या पौधों को पीले रंग के धागे के साथ सफेद अपराजिता पौधों की टहनियों से बांधा जाता है. इन नौ पौधों को एक साथ जोड़कर देवी दुर्गा की नौ अभिव्यक्तियों का प्रतिनिधित्व किया जाता है. हालांकि पौधे व्यक्तिगत रूप से विभिन्न भगवानों का प्रतिनिधित्व करते हैं. ये नौ पौधे निम्नलिखित देवताओं का प्रतिनिधित्व करते हैं.

    इसे भी पढ़ेंः Shardiya Navratri 2021: मां सती की जीभ से बना शक्तिपीठों में से एक ‘ज्वाला देवी मंदिर’, जानें इसका रहस्य

    बेल के पत्ते- भगवान शिव
    अशोक के पत्ते- देवी शोकारहिता
    चावल धान- देवी लक्ष्मी
    केले का पौधा- देवी ब्राह्मणी
    अरुम का पौधा- देवी चामुंडा
    हल्दी का पौधा- देवी दुर्गा
    अनार के पत्ते- देवी रक्तदंतिक
    जयंती का पौधा- देवी कार्तिकी
    कोलोकैसिया पौधा- देवी कालिका

    पवित्र स्नान के बाद, नवपत्रिका को लाल रंग की बॉर्डर वाली सफेद साड़ी में सजाया जाता है और पत्तियों पर सिंदूर का लेप किया जाता है. फिर उसे एक सजे हुए आसन पर स्थापित किया जाता है और फूलों, चंदन के लेप और अगरबत्ती से पूजा की जाती है. फिर नवपत्रिका को भगवान गणेश की मूर्ति के दाहिनी ओर रख दिया जाता है, जिसका मुख्य कारण है कि उन्हें भगवान गणेश की पत्नी के रूप में जाना जाता है. नवपत्रिका की पूजा मां प्रकृति का प्रतिनिधित्व करती है.

    इसे भी पढ़ेंः Shardiya Navratri 2021: नवरात्रि पर मां दुर्गा के इन मंदिरों में करें दर्शन, मिलेगा आशीर्वाद

    ‘नव’ शब्द नौ का प्रतीक है और ‘पत्रिका’ का अर्थ है पौधा. नवपत्रिका कल्याण, शांति और खुशी के लिए समर्पण के साथ मानव जीवन का भी प्रतिनिधित्व करता है. पौधों की पूजा लोगों को प्रकृति और वनस्पतियों से प्यार और उसकी रक्षा करने के लिए प्रोत्साहित करती है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज