होम /न्यूज /धर्म /Dussehra 2022 Ravana Story: ...तो रावण से कोई नहीं जीत पाता तब, जानें कैसे एक भूल पड़ी थी भारी

Dussehra 2022 Ravana Story: ...तो रावण से कोई नहीं जीत पाता तब, जानें कैसे एक भूल पड़ी थी भारी

रावण ने भगवान शिव से अमरता के लिए वर मांगा था, लेकिन वह पूर्ण नहीं हुआ.

रावण ने भगवान शिव से अमरता के लिए वर मांगा था, लेकिन वह पूर्ण नहीं हुआ.

Dussehra 2022 Ravana Story: रावण भगवान शिव का बहुत बड़ा भक्त था और उसे शिवजी से कई वर प्राप्त थे. रावण को अपनी शक्तियों ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

रावण भगवान शिव का बहुत बड़ा भक्त था. उसका वध करना आसान नहीं था.
रावण को भगवान शिव से कई वरदान प्राप्त थे.

Dussehra 2022 Ravana Story: रावण बेहद ही शक्तिशाली और विद्वान था. वह भगवान शिव का बहुत बड़ा भक्त था और उसे शिवजी से कई वर प्राप्त थे. रावण को अपनी शक्तियों पर बेहद अभिमान था. किसी भी देवता के पास इतनी क्षमता नहीं थी कि रावण को युद्ध में हराकर उसका वध कर सके. रावण माता सीता को छल करके अपने साथ ले गया और भगवान श्रीराम को युद्ध के लिए ललकारा. उसके विनाश की कहानी यहीं से प्रारंभ हुई थी. पंडित इंद्रमणि घनस्याल बताते हैं कि भगवान श्रीराम और लंकापति रावण के बीच युद्ध विधि का विधान था. रावण की मृत्यु उसके दुर्गुणों की कारण हुई थी. आज दशहरा पर पढ़ें रावण और भगवान शिव की कथा.

तो रावण से कोई नहीं जीत पाता
एक पौराणिक कथा के अनुसार, अपार शक्तियों का वर पाने के लिए रावण ने कठोर तप से भगवान शिव को प्रसन्न किया. तब भगवान शिव ने रावण को शिवलिंग देते हुए कहा कि इसे लंका में ले जाकर स्थापित कर दे. अगर वह ऐसा कर लेता है तो उसे कोई शरीर नष्ट नहीं कर सकेगा.

यह भी पढ़ें: क्यों रावण के पिता ने दिया सबकुछ नष्ट होने का श्राप, दशानन ने भाई से कैसे हड़पी सोने की लंका

यह भी पढ़ें: भगवान श्रीराम से युद्ध के अलावा इन लड़ाइयों में भी हारा था रावण, जानें

इसके साथ ही शिवजी ने एक शर्त भी रखी कि लंका तक पहुंचने से पहले रास्ते में इस शिवलिंग को पृथ्वी पर नहीं रखना है. अगर ऐसा होता है तो वरदान का असर समाप्त हो जाएगा. इसके बाद रावण शिवलिंग लेकर रवाना हो गया. रावण गोकर्ण पहुंचा तो वहां सरोवर में स्नान करने की उसकी इच्छा हुई. लेकिन रावण को मालूम था कि शिवलिंग को नीचे नहीं रखना है. इसी बीच भगवान श्रीगणेश ब्राह्मण लड़के के रूप में वहां पहुंचे और शिवलिंग पकड़ने के लिए राजी हुए.

गणेश जी ने रावण के समक्ष शर्त रखी कि अगर वह निश्चित समय में वापस नहीं आए तो वह शिवलिंग को वहीं रखकर चले जाएंगे. तब श्रीगणेश की लीला से रावण समय पर नहीं पहुंच पाया और गणेशजी शिवलिंग को वहीं पर रखकर चले गए. उस स्थान को ही गोकर्ण कहा जाता है. इस तरह रावण का अजर अमर होने का वरदान असफल हो गया.

Tags: Dharma Aastha, Dharma Culture, Dussehra Festival, Ramayan, Ravana Dahan, Religious

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें