लाइव टीवी

Sankashti Chaturthi 2020: आज है संकष्टी चतुर्थी, जानिए सटीक शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

News18Hindi
Updated: February 12, 2020, 5:03 AM IST
Sankashti Chaturthi 2020: आज है संकष्टी चतुर्थी, जानिए सटीक शुभ मुहूर्त और पूजा विधि
संकष्टी चतुर्थी पर गणेश भगवान की पूजा विधि

संकष्टी चतुर्थी २०२० (Sankashti Chaturthi 2020): आइए जानते हैं संकष्टी चतुर्थी का शुभ मुहूर्त और पूजा की सटीक विधि...

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2020, 5:03 AM IST
  • Share this:
संकष्टी चतुर्थी २०२० (Sankashti Chaturthi 2020): आज 12 फरवरी बुधवार को संकष्टी चतुर्थी मनाई जा रही है. संकष्टी चतुर्थी के दिन संकट को हरने वाले गणेश भगवान की पूजा-अर्चना की जाती है. यह फाल्गुन के महीने में पड़ने वाली चतुर्थी है. इसे द्विजप्रिय संकष्टी चतुर्थी (Dwijapriya Sankashti Chaturthi) भी कहा जाता है. आज के दिन भक्त गणेश भगवान के छठवें रूप 'द्विजप्रिय' की पूजा अर्चना करेंगे. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, गणेश भगवान के इस रूप की पूजा अर्चना करने से यश, धन, वैभव और अच्छी सेहत की प्राप्ति होती है. साथ ही सभी प्रकार के संकट और कष्टों का निवारण भी होता है. आइए जानते हैं संकष्टी चतुर्थी का शुभ मुहूर्त और पूजा की सटीक विधि...

संकष्टी चतुर्थी पूजा का शुभ मुहूर्त:
संकष्टी चतुर्थी तारीख: संकष्टी चतुर्थी 12 फ़रवरी बुधवार को है.
संकष्टी चतुर्थी के दिन चंद्रमा के उदय होने का समय: रात 9 बजकर 37 मिनट पर चंद्रोदय होगा.

संकष्टी चतुर्थी का शुभारम्भ: संकष्टी चतुर्थी 12 फ़रवरी को 2 बजकर 22 मिनट से लग जाएगी जोकि रात 11 बजकर 39 मिनट तक रहेगी.

संकष्टी चतुर्थी का शुभ मुहूर्त और पूजा की सटीक विधि...
संकष्टी चतुर्थी का शुभ मुहूर्त और पूजा की सटीक विधि...


इसे भी पढ़ें: ओशो: तुम्हें खुशी इसलिए अधिक रास आती है क्योंकि... संकष्टी चतुर्थी की पूजा विधि:
संकष्टी चतुर्थी के दिन सुबह जल्दी उठ जाएं. इसके बाद नित्यकर्म निपटा कर स्नान करें. इसके बाद पूजाघर की साफ-सफाई करके फूलों से सजाएं. इसके बाद धूप, दिया और बाती जलाकर पूरी श्रद्धा के साथ गणेश भगवान की पूजा अर्चना करें. इसके बाद गौरा गणेश को तांबे के लोटे से जल चढ़ाएं. ऐसा माना जाता है कि इस दिन जो जातक सच्चे मन से संकट हरण गणेश भगवान की पूजा अर्चना करता है और यह व्रत रहता है. गणेश भगवान को मोदक बहुत प्रिय हैं. हो सके तो प्रसाद में उन्हें मोदक जरूर अर्पित करें. पूजा में उन्हें दूब घास भी चढ़ाएं.

इसे भी पढ़ें: February Panchang: यहां देखें फरवरी का पंचांग, जानें महीने के शुभ मुहूर्त, व्रत और त्यौहार की पूरी लिस्ट

आज के दिन भक्त गणेश भगवान के छठवें रूप 'द्विजप्रिय' की पूजा अर्चना करेंगे.
आज के दिन भक्त गणेश भगवान के छठवें रूप 'द्विजप्रिय' की पूजा अर्चना करेंगे.


पूजा के बाद गणेश भगवान की आरती गाएं. इसके बाद शाम को भी इसी तरह से पूजा अर्चना करें. शाम की पूजा के बाद तांबे के लोटे में थोड़ा सा काला तिल डालकर इसमें जल और थोड़ा सा गंगाजल मिलाकर अर्घ्य दें. इसके बाद काले तिल से बना लड्डू, शकरकंदी और दूध का सेवन कर ही व्रत का पारण करें.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्म से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 5:03 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर