Home /News /dharm /

Ganga Aarti: काशी की गंगा आरती पूरे विश्व में है प्रसिद्ध, विदेशी पर्यटक भी होते हैं शामिल

Ganga Aarti: काशी की गंगा आरती पूरे विश्व में है प्रसिद्ध, विदेशी पर्यटक भी होते हैं शामिल

हिंदू धर्म में गंगा आरती का विशेष महत्व बताया गया है.

हिंदू धर्म में गंगा आरती का विशेष महत्व बताया गया है.

Ganga Aarti: पवित्र गंगा नदी की एक झलक पाने के लिए लोग बहुत दूर दूर से आते हैं. इसके साथ वो गंगा आरती में भी शामिल होते हैं. आज कल हरिद्वार की तर्ज पर गंगा आरती का आयोजन ऋषिकेश, वाराणसी, प्रयाग और चित्रकूट में भी होने लगा है. साल 1991 में गंगा आरती वाराणसी के दशाश्वमेध घाट पर शुरू की गई. मां गंगा के जयकारे, ढोल नगाड़े की गूंज और आरती की मधुर ध्वनि अपने आप अपलक निहारने पर मजबूर कर देती है.

अधिक पढ़ें ...

    Ganga Aarti: गंगा आरती (Ganga Aarti) जिसके विषय में आपने कई किस्से, कई कहानियां सुनी होगी और हो सकता है आप खुद भी गंगा आरती के साक्षी (Witness) रहे होंगे. गंगा के तट पर शाम होते होते माहौल एक दम भक्तिमय होने लगता है. पुजारियों की भीड़ में दीपक की ज्वाला, जो मानो आसमान को छूने की कोशिश करती है. शंखनाद डमरू की आवाज और मां गंगा के जयकारे आरती में शामिल भक्तों के रौंगटे खड़े कर देते हैं. गंगा घाट (Ganga Ghat) पर गंगा आरती के समय मेला सा लग जाता है. ऐसे ही तो गंगा आरती विश्व प्रसिद्ध (World Wide) नहीं हो गई. यही सब महत्वपूर्ण कारण है जिनसे गंगा आरती की ख्याति पूरी दुनिया में है और तमाम जगह से भक्त इसकी एक झलक पाने के लिए आते हैं.

    गंगा आरती की शुरुआत
    पवित्र गंगा नदी की एक झलक पाने के लिए लोग बहुत दूर दूर से आते हैं. इसके साथ वो गंगा आरती में भी शामिल होते हैं. आज कल हरिद्वार की तर्ज पर गंगा आरती का आयोजन ऋषिकेश, वाराणसी, प्रयाग और चित्रकूट में भी होने लगी है. साल 1991 में गंगा आरती वाराणसी के दशाश्वमेध घाट पर शुरू की गई.

    इसे भी पढ़ें : Kashi Vishwanath Temple: 241 साल बाद होगा मंदिर का कायाकल्प, जानें इससे जुड़ी मान्यताएं और इतिहास

    गंगा आरती का महत्व
    दुनिया भर के सबसे खूबसूरत धार्मिक समारोह में से गंगा आरती भी एक माना जाता है. यह आरती सूर्यास्त के बाद होती है. गंगा आरती की शुरुआत शंखनाद से की जाती है. जिसे लेकर मान्यता है कि इससे नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाती है. पुजारी अपने हाथों में बड़े बड़े दीये लेकर मां गंगा की आरती करते हैं. मां गंगा के जयकारे, ढोल नगाड़े की गूंज और आरती की मधुर ध्वनि अपने आप अपलक निहारने पर मजबूर कर देती है.

    इसे भी पढ़ें : Moun Vrat ke Fayde: धार्मिक ही नहीं दिल की सेहत के लिए भी बेहतर है मौन व्रत, जानिए इसकी विधि

    विदेशी पर्यटक
    गंगा आरती की महिमा और ख्याति से न सिर्फ भारतीय बल्कि विदेशी पर्यटक भी खिंचे चले आते हैं. शाम के समय गंगा घाट पर बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटक भी गंगा आरती का हिस्सा बनते हैं.

    गंगा जी आरती

    ॐ जय गंगे माता, श्री जय गंगे माता ।
    जो नर तुमको ध्याता, मनवांछित फल पाता ॥
    ॐ जय गंगे माता,

    चंद्र सी ज्योति तुम्हारी, जल निर्मल आता।
    शरण पडें जो तेरी, सो नर तर जाता ॥
    ॐ जय गंगे माता॥

    पुत्र सगर के तारे, सब जग को ज्ञाता ।
    कृपा दृष्टि तुम्हारी, त्रिभुवन सुख दाता ॥
    ॐ जय गंगे माता॥

    एक ही बार जो प्राणी, शारण तेरी आता ।
    यम की त्रास मिटाकर, परमगति पाता ॥
    ॐ जय गंगे माता॥

    आरती मातु तुम्हारी, जो नर नित गाता ।
    सेवक वही सहज में, मुक्त्ति को पाता ॥
    ॐ जय गंगे माता॥ (साभार:- एस्ट्रोयोगी)

    Tags: Lifestyle

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर