होम /न्यूज /धर्म /

लहसुनिया धारण करने से दूर होंगे सभी रोग और दोष, कभी नहीं पड़ेंगे बीमार, जानें इसके अन्य लाभ

लहसुनिया धारण करने से दूर होंगे सभी रोग और दोष, कभी नहीं पड़ेंगे बीमार, जानें इसके अन्य लाभ

केतु की दशा हो तो लहसुनिया रत्न धारण करना शुभ होता है.

केतु की दशा हो तो लहसुनिया रत्न धारण करना शुभ होता है.

रत्न धारण करने से विशेष ग्रह के दुष्प्रभाव दूर होते हैं. इससे सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है. अगर जन्म कुंडली में केतु की दशा हो तो लहसुनिया रत्न धारण करना शुभ होता है. लहसुनिया धारण करने से केतु शांत रहते हैं.

हाइलाइट्स

रत्न धारण करने से विशेष ग्रह के दुष्प्रभाव दूर होते हैं.
केतु की दशा हो तो लहसुनिया रत्न धारण करना शुभ होता है.
लहसुनिया धारण करने से केतु शांत रहते हैं.

Lehsunia Ratna: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, रत्नों का ग्रहों से संबंध होने के कारण इनका हमारे जीवन में सकारात्मक प्रभाव पड़ता है. प्रत्येक ग्रह से किसी एक रत्न का संबंध होता है, इसलिए कहा जाता है कि रत्न धारण करने से विशेष ग्रह के दुष्प्रभाव दूर होते हैं. वास्तु शास्त्र के अनुसार, रत्न पहनने से ना सिर्फ सकारात्मकता आती है, बल्कि घर में सुख-समृद्धि का वास भी होता है. साथ ही, विशेष ग्रह के सभी दोष दूर होते हैं. पंडित इंद्रमणि घनस्याल के अनुसार, अगर जन्मकुंडली में केतु की दशा हो तो लहसुनिया रत्न धारण करना शुभ होता है. लहसुनिया धारण करने से केतु शांत रहते हैं. आइए जानते हैं लहसुनिया से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें.

केतु की दशा से परेशानी
वास्तु शास्त्र के अनुसार, किसी व्यक्ति की कुंडली में अगर केतु की दशा लगी है तो उसके जीवन में काफी परेशानियां रहती हैं. व्यक्ति का मन विचलित रहना, कार्य में अस्थिरता, आर्थिक परेशानी समेत कई तरह की बाधाएं आती हैं. केतु की स्थिति खराब होने पर व्यक्ति को बीमारियां जकड़ लेती हैं. लहसुनिया रत्न केतु से संबंधित होता है. लहसुनिया धारण करने से केतु का प्रभाव शांत रहता है. इससे सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है.

यह भी पढ़ेंः सुबह देखे गए इन सपनों को किसी के साथ ना करें साझा, हो सकती है धन हानि

यह भी पढ़ेंः सपने में मछली का दिखाई देना किस बात का है संकेत? जानें क्या कहता है स्वप्नशास्त्र

लहसुनिया धारण करने के लाभ
ज्योतिषियों के अनुसार, लहसुनिया धारण करने से अनेक रोगों का भी इलाज किया जाता है. अगर कोई बच्चा श्वास, निमोनिया रोग से ग्रस्त है तो उसे लहसुनिया धारण करना चाहिए. गर्भवती स्त्री के सिर में लहसुनिया बांधने से प्रसव शीघ्र होता है. पीलिया रोग में भी लहसुनिया लाभदायक होता है. लहसुनिया से ना सिर्फ रोग दूर होते हैं, बल्कि व्यक्ति की बुद्धि का भी विकास होता है. व्यक्ति स्वयं को ऊर्जावान महसूस करता है. उसका मन पॉजिटिव रहता है और कार्याें में किसी तरह की बाधा नहीं आती है. शास्त्रों के अनुसार, शनिवार के दिन लहसुनिया धारण करना शुभ होता है.

Tags: Dharma Aastha, Dharma Culture, Religion, Vastu, Vastu tips

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर