• Home
  • »
  • News
  • »
  • dharm
  • »
  • GOPASHTAMI 2020 22 NOVEMBER 2020 GOPASHTAMI SHUBH MUHURAT GAU MATA PUJA VIDHI BGYS

Gopashtami 2020: गोपाष्टमी पर इस शुभ मुहूर्त में करें गौ-माता की पूजा, जानें पूजा विधि

गोपाष्टमी 2020 पर गौ माता की पूजा से पुण्य लाभ मिलता है (photo credit: instagram/1155mahadev)

गोपाष्टमी 2020 (Gopashtami 2020): मान्यता है कि गोपाष्टमी के दिन श्रद्धा पूर्वक गौ-माता का पूजा पाठ करने से भक्तों को मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है...

  • Share this:
    गोपाष्टमी 2020 (Gopashtami 2020): आज 22 नवंबर को गोपाष्टमी मनाई जा रही है. हिंदू धर्म में गोपाष्टमी का विशेष महत्व है. हिंदू पंचांग के अनुसार, गोपाष्टमी हर साल कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है. यह धार्मिक पर्व गोकुल, मथुरा, ब्रज और वृंदावन में मुख्य रूप से मनाया जाता है. गोपाष्टमी के दिन गौ माता, बछड़ों और दूध वाले ग्वालों की आराधना की जाती है. मान्यता है कि इस दिन श्रद्धा पूर्वक पूजा पाठ करने से भक्तों को मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है. आइए जानते हैं गोपाष्टमी के दिन किस विधि से पूजा करना फलदायक साबित हो सकता है...

    गोपाष्टमी 2020 शुभ मुहूर्त:

    22 नवंबर 2020 गोपाष्टमी

    गोपाष्टमी तिथि प्रारंभ- 21 नवंबर, शनिवार, रात 9 बजकर 48 मिनट से गोपाष्टमी लग जाएगी. लेकिन उदया तिथि 22 नवंबर होने के कारण
    गोपाष्टमी २२ नवंबर को मनाई जाएगी.

    गोपाष्टमी तिथि का समापन- 22 नवंबर, रविवार रात 22 बजकर 51 मिनट तक होगा.

    गोपाष्टमी पूजा विधि:

    गोपाष्टमी के दिन यानी कि कार्तिक शुक्ल अष्टमी को एकदम सुबह उठकर गौ माता को साफ पानी से स्नान करवाएं. इसके बाद रोली और चंदन से गौ माता का तिलक कर उन्हें प्रणाम करें. इसके बाद उनको पुष्प, अक्षत्, धूप अर्पित करें.

    इसके बाद ग्वालों को दान दक्षिणा देकर उनका आदर सम्मान और पूजन करें. इसके बाद पूजा के लिए प्रसाद को गौ माता को अर्पित करें. गौ माता की परिक्रमा करें और उन्हें कुछ दूर तक साथ लेकर टहलाने जाएं. माना जाता है कि ऐसा करने से जातक की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)
    Published by:Bhagya Shri Singh
    First published: