लाइव टीवी

550वां प्रकाश पर्व: पढ़ें गुरुनानक के ये उपदेश

News18Hindi
Updated: November 11, 2019, 1:58 PM IST
550वां प्रकाश पर्व: पढ़ें गुरुनानक के ये उपदेश
सुप्रीम कोर्ट के फैसले में गुरु नानक देव की अयोध्या यात्रा का जिक्र भी आया. (प्रतीकात्‍मक फोटो)

गुरुनानक 550वां प्रकाश पर्व: सिख धर्म की मान्यताओं के मुताबिक़, गुरुनानक देव ने अपने समय में समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने के लिए काफी काम किया...

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2019, 1:58 PM IST
  • Share this:
गुरुनानक 550वां प्रकाश पर्व: सिख धर्म के गुरु गुरुनानक देव का 550वां प्रकाश पर्व 12 नवंबर को है. उनके जन्मदिन को सिख धर्म के लोग प्रकाश पर्व के तौर पर मनाते हैं. हालांकि चंद्र और सूर्य कैलेंडर के अनुसार, विद्वानों में इनकी जन्मतिथि को लेकर मतभेद हैं. इस बार गुरुनानक 550वां प्रकाश पर्व 12 नवंबर को पड़ रहा है. सिख धर्म की मान्यताओं के मुताबिक़, गुरुनानक देव ने अपने समय में समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने के लिए काफी काम किया. इसके लिए उन्हें जहां अपने परिवार से दूर रहना पड़ा वहीं गृहस्थ जीवन का भी त्याग करना पड़ा. गुरुनानक देव ने कई उपदेश दिए. आइए जानते हैं क्या हैं उनकी शिक्षाएं...

1. गुरु नानक देव ने 'इक ओंकार' का उपदेश दिया जिसका तात्पर्य है कि ईश्वर एक है. उनका मानना था कि ईश्वर कण-कण में व्याप्त है. केवल वही (ईश्वर) सबका परमपिता है, इसलिए मनुष्य को सबके साथ प्रेम पूर्वक रहना चाहिए.

2. गुरु नानक देव ने कहा कि महिलाओं का आदर-सम्मान करना चाहिए. नानक देव स्त्री और पुरुषों की समानता की बात करते थे. उन्होंने स्त्री और पुरुष में किसी प्रकार के भेद को नहीं माना.

3. गुरु नानक देव ने कर्म और ख़ुशी की महत्ता पर जोर दिया. उनका मानना था कि मनुष्य को शांत चित्त से एकाग्र होकर अपना काम करना चाहिए तभी उसे आतंरिक ख़ुशी की अनुभूति होगी.

जन्म की तारीख में छुपे हैं कई राज, इस तरह मूलांक निकालकर जानें अपनी किस्मत

4. गुरु नानक देव ने अहंकार का परित्याग करने का उपदेश दिया. उन्होंने कहा कि मनुष्य का स्वभाव विनम्र होना चाहिए तभी तो प्रगति के पथ पर आगे बढ़ सकता है और उसके मन में लोगों के प्रति सेवाभावना पैदा हो सकती है.

5. गुरु नानक देव ने वसुधैव कुटुम्बकम के सिद्धांत पर जोर दिया. उनका मानना था कि पूरा विश्व एक घर है और इसमें रहने वाले लोग भाई-बंधु है. वो विश्व बंधुत्व और भाईचारे का उपदेश देते थे.
Loading...

6. गुरु नानक देव ने किसी भी प्रकार के लोभ-मोह को त्यागने का संदेश दिया. उन्होंने कहा कि लोगों को लोभ-मोह से बचना चाहिए और अपनी मेहनत पर भरोसा करना चाहिए. साथ ही हमेशा ईमानदारी से कमाई करनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें: Dev Uthani Ekadashi 2019: देवउठनी एकादशी के दिन से शुरू हो जाएगा शादी का शुभ लगन, जानें महत्व

7. गुरु नानक देव ने कहा कि हमें दूसरों के अधिकारों का सम्मान करना चाहिए और गलती से भी उनके अधिकारों का हनन नहीं करना चाहिए. अपनी कमाई का कुछ हिस्सा गरीब और जरूरतमंदों को दान करना चाहिए.

8. गुरु नानक देव ने कहा कि कभी भी धन को अपने मन पर हावी नहीं होने देना चाहिए. इससे केवल दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए ही इस्तेमाल करना चाहिए. अगर हम धन के लालच में पड़ेंगे तो हमें ही नुकसान उठाना पड़ सकता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 10, 2019, 8:37 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...