Home /News /dharm /

Guru Pradosh Vrat 2021: शत्रुओं पर विजय के लिए इस दिन करें भगवान शिव की आराधना, पूरी होगी मनोकामना

Guru Pradosh Vrat 2021: शत्रुओं पर विजय के लिए इस दिन करें भगवान शिव की आराधना, पूरी होगी मनोकामना

प्रत्येक मास में त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है.

प्रत्येक मास में त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है.

Guru Pradosh Vrat 2021: प्रत्येक मास में त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat) रखा जाता है. हिंदू धर्म में प्रदोष व्रत का काफी महत्व माना गया है. प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव की पूजा में गंगाजल, गाय का दूध और बेलपत्र का प्रयोग करना चाहिए. भगवान शिव को बेलपत्र अत्यंत ही प्रिय है. हिन्दी पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष मास का कृष्ण पक्ष चल रहा है. मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि दिन गुरुवार 02 दिसंबर को है. ऐसे में मार्गशीर्ष के कृष्ण पक्ष का प्रदोष गुरु प्रदोष व्रत है.

अधिक पढ़ें ...

    Guru Pradosh Vrat 2021: (कार्तिकेय तिवारी) हिन्दू कैलेंडर के अनुसार प्रत्येक मास में त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है. जिस दिन प्रदोष व्रत होता है, उसके साथ वह दिन जुड़ जाता है. हिन्दी पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष मास का कृष्ण पक्ष चल रहा है. मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि दिन गुरुवार 02 दिसंबर को है. ऐसे में मार्गशीर्ष के कृष्ण पक्ष का प्रदोष गुरु प्रदोष व्रत है. प्रत्येक दिन के प्रदोष व्रत का अलग फल और महत्व होता है. गुरु प्रदोष व्रत करने और उस दिन शिव आराधना करने से व्यक्ति को शत्रु पर विजय प्राप्त हो सकता है. आइए जानते हैं कि दिसंबर 2021 के गुरु प्रदोष व्रत का महत्व क्या है और इसकी पूजा का मुहूर्त क्या है?

    गुरु प्रदोष व्रत 2021 तिथि
    पंचांग के अनुसार, मार्गशीर्ष कृष्ण त्रयोदशी तिथि का प्रारंभ 01 दिसंबर दिन बुधवार को रात 11:35 बजे से हो रहा है. यह तिथि 02 दिसंबर दिन गुरुवार को रात 08:26 बजे तक है. प्रदोष व्रत में हमेशा पूजा के लिए प्रदोष काल मान्य होता है. ऐसे में गुरु प्रदोष व्रत 02 दिसंबर को रखा जाएगा.

    इसे भी पढें: हनुमान जी ने किस वजह से लिया था एकादश मुखी रूप, पढ़ें ये पौराणिक कथा

    गुरु प्रदोष 2021 पूजा मुहूर्त
    जो भी व्यक्ति गुरु प्रदोष व्रत रखना चाहता है, उसे उस दिन प्रदोष काल में भगवान शिव शंकर की विधि विधान से पूजा करनी चाहिए. गुरु प्रदोष के दिन भगवान शिव की पूजा का शुभ मुहूर्त शाम को 05:24 बजे से रात 08:07 बजे तक है. सूर्यास्त से रात्रि के प्रारंभ के बीच के समय काल को प्रदोष काल माना जाता है।

    गुरु प्रदोष व्रत का महत्व
    धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, जो भी व्यक्ति अपने शत्रुओं से परेशान है. उसे विशेषकर गुरु प्रदोष व्रत करना चाहिए. भगवान शिव की कृपा से उस व्यक्ति को अपने शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है, शत्रुओं का नाश होता है.

    इसे भी पढें: पिता सूर्यदेव और इंद्र को हराकर शनिदेव ने जीत लिया था देवलोक, पढ़ें ये पौराणिक कथा

    प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव की पूजा में आपको गंगाजल, गाय का दूध और बेलपत्र का प्रयोग करना चाहिए. भगवान शिव को बेलपत्र अत्यंत ही प्रिय है. कहा जाता है कि भगवान शिव आसानी से प्रसन्न होने वाले हैं, वे तो सच्चे मन से एक लोटा जल अर्पित करने मात्र से ही प्रसन्न हो जाते हैं।

    (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

    Tags: Religion

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर