Guru purnima 2020: कब है गुरु पूर्णिमा? जानें जीवन में गुरु का महत्व

Guru purnima 2020: कब है गुरु पूर्णिमा? जानें जीवन में गुरु का महत्व
गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है.

गुरु पूर्णिमा (Guru purnima 2020) के दिन ही महाभारत के रचयिता महर्षि वेद व्यास (Maharishi Veda Vyas) जी का जन्म दिवस भी मनाया जाता है.

  • Share this:
अगले माह यानी 5 जुलाई को गुरु पूर्णिमा (Guru purnima 2020) का पर्व है. मान्यता है कि बिना गुरु के कोई ज्ञान प्राप्‍त नहीं कर सकता. जब किसी को सच्‍चा गुरु मिल जाता हैं, तो उसके जीवन (Life) के सारे अंधकार मिट जाते हैं. इसलिए गुरु को स‍मर्पित इस पर्व का काफी महत्‍व है. आइए इस पर्व के महत्‍व के बारे में जानें.

हर वर्ष आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रूप में मनाने की परंपरा रही है. यह दिन इसलिए काफी अहम है कि इस दिन आपने जिससे भी कुछ ज्ञान हासिल किया हो उनके प्रति सम्मान प्रकट किया जाता है. इसी दिन महाभारत के रचयिता महर्षि वेद व्यास (Maharishi Veda Vyas) जी का जन्म दिवस भी मनाया जाता है. माना जाता है कि इन्‍होंने ही सभी 18 पुराणों की रचना की थी. यही कारण है कि कुछ स्‍थानों पर गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है.

ये भी पढ़ें - मोरपंख रखने से दांपत्‍य जीवन में बढ़ेगा प्रेम, बाधाएं होंगी दूर



अध्‍यापन कार्य के लिए बेहतर समय



मान्‍यता है कि वर्षा ऋतु के दौरान न तो अधिक गर्मी होती है और न ही अधिक सर्दी. ऐसे में अध्‍यापन कार्य के लिए यह समय सबसे उपयुक्‍त होता है. इसी वजह से गुरु पूर्णिमा को वर्षा ऋतु में मनाया जाता है. कहा जाता है कि ज्ञान, शांति, भक्ति और योग शक्ति को प्राप्त करने के लिए यह समय काफी महत्वपूर्ण होता है.

गुरु पूर्णिमा का समय और मुहूर्त

05 जुलाई 2020 गुरु पूर्णिमा (नई दिल्ली के लिए)

जुलाई 4, 2020 को 11:35:57 से पूर्णिमा आरम्भ.

जुलाई 5, 2020 को 10:16:08 पर पूर्णिमा समाप्त.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading