Halloween 2020: मृत आत्माओं को खुश करने के लिए मनाते हैं हैलोवीन, जानें इतिहास, महत्व और मनाने के तरीका

हैलोवीन क्यों मनाते हैं जानें (फोटो साभार: pexels/cottonbro)
हैलोवीन क्यों मनाते हैं जानें (फोटो साभार: pexels/cottonbro)

Halloween 2020: हैलोवीन शब्द का अर्थ 'पवित्र शाम' है और इसे 'ऑल सेंट्स डे' भी कहा जाता है. हैलोवीन एक प्राचीन सेल्टिक त्योहार है जिसे यूरोपीय देशों और अमेरिका में फसल के अंतिम दिन मनाया जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2020, 10:30 AM IST
  • Share this:
Halloween 2020: हैलोवीन मृतकों को याद करने का दिन, 31 अक्टूबर को मनाया जाने वाला एक वार्षिक त्योहार है. यह त्यौहार यूनाइटेड किंगडम, हांगकांग, टोक्यो, संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा के कुछ हिस्सों में मनाया जाता है. इस दिन लोग अपनी डरावनी वेशभूषा में तैयार होते हैं, जिसे लोक रीति-रिवाजों और मान्यताओं से प्रेरित माना जाता है. हैलोवीन या हल्लोवे को ऑलहेलोवन के रूप में भी जाना जाता है जिसका अर्थ है 'पवित्र शाम'.

इस दिन को कुछ देशों में ऑल सेंट्स ईव के रूप में भी जाना जाता है. हैलोवीन ज्यादातर पश्चिमी ईसाइयों और गैर-ईसाइयों द्वारा मनाया जाता है जहां संत, शहीद लोगों को याद किया जाता है. वे संतों का सम्मान करते हैं और उन आत्माओं के लिए प्रार्थना करते हैं जो अब तक स्वर्ग नहीं पहुंची हैं. हैलोवीन शब्द का अर्थ 'पवित्र शाम' है और इसे 'ऑल सेंट्स डे' भी कहा जाता है. हैलोवीन एक प्राचीन सेल्टिक त्योहार है जिसे यूरोपीय देशों और अमेरिका में फसल के अंतिम दिन मनाया जाता है. इसका इतिहास 2,000 वर्षों से अधिक पुराना है.

हैलोवीन का इतिहास
कुछ देशों में लोग मृतकों की कब्रों पर हल्की मोमबत्तियांलगाते हैं और चर्च जाते हैं. कुछ ईसाई इस दिन मांसाहारी भोजन करने से भी परहेज करते हैं हैलोवीन की शुरुआत कैसे हुई और इस पर कई सिद्धांत हैं. कई विद्वानों का मानना ​​है कि इसकी ईसाई रूट्स हैं. इसका सम्बन्ध फसलों के त्योहार सामहैन से माना जाता है. सामहैन का अर्थ है 'ग्रीष्म का अंत' यह फसल के मौसम के अंत का जश्न होता है. गल्स का मानना ​​था कि इस दौरान जीवित और मृत लोगों के बीच की दीवार छोटी हो जाती है और वे जीवन में वापस आ जाते हैं. मृत व्यक्तियों से फसलों को होने वाले नुकसान के खतरे को देखते हुए गल्स स्टॉक करते हैं. सर्दियों की तैयारी के लिए ऐसा किया जाता है. मृत आत्माओं की ख़ुशी के लिए भी ऐसा किया जाता है.
कद्दू पर नक्काशी


नॉर्थ अमेरिका में आए प्रवासियों ने पारम्परिक शलजम की जगह कद्दू पर नक्काशी का काम करना शुरू कर दिया इसलिए हैलोवीन के दिन कद्दू पर नक्काशी होने लगी. यह मुलायम और बड़ा भी होता है. फसल कटाई और यह दिन एक साथ आते हैं इसलिए कद्दू पर नक्काशी का प्रचलन हुआ और अब यह हैलोवीन का जरूरी हिस्सा बन गया है. बाद में लोगों ने कद्दू को सजाना शुरू कर दिया. घरों को भी बिजुका और मकई की भूसी आदि से सजाया जाता है.

हैलोवीन में कपड़े और जश्न
ट्रिक या ट्रीटिंग और ड्रेसिंग का अभ्यास 16वीं शताब्दी में आयरलैंड और स्कॉटलैंड में हुआ जहाँ लोग घर-घर जाकर अलग-अलग ड्रेसिंग में खाने के लिए कविता या गाना एक्सचेंज करते थे. ऐसा माना जाता है कि लोग आत्माओं से खुद की रक्षा के लिए मृत आत्माओं जैसे कपड़े पहनते हैं. जश्न के रूप में एक गरीब बच्चा मृत आत्माओं के लिए प्रार्थना करता है और हैलोवीन के लिए बने सौल केक के लिए घूमता है. बच्चे पड़ौसियों के घर जाकर कैंडीज मांगते हैं. सौल केक पर क्रॉस बना होता है और इसे खाने पर आत्मा के शुद्धिकरण का प्रतीक माना जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज