Happy Rakshabandhan 2020: रक्षाबंधन के दिन पड़ रहे हैं कई शुभ मुहूर्त, जानें राखी पहनाने का सही समय

Happy Rakshabandhan 2020: रक्षाबंधन के दिन पड़ रहे हैं कई शुभ मुहूर्त, जानें राखी पहनाने का सही समय
रक्षाबंधन का दिन भाई-बहनों के लिए बहुत खास होता है. बहन भाई को राखी (Rakhi) बांधकर उसके लिए अपना प्यार दर्शाती है तो वहीं भाई भी उम्र भर बहन की रक्षा करने का वादा करते हैं.

वर्ष 2020 में रक्षाबंधन (Rakshabandhan) 3 अगस्त, सोमवार के दिन मनाया जाना है. हालांकि भाई-बहन (Brother and Sister) के प्रेम का प्रतीक ये त्योहार इस साल कोरोना (Corona) संक्रमण के खतरे के बावजूद भी, कई मायनों में बेहद खास रहने वाला है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 1, 2020, 9:26 AM IST
  • Share this:
रक्षाबंधन (Rakshabandhan) भाई-बहन के प्यार का त्योहार है. रक्षाबंधन का दिन भाई-बहनों के लिए बहुत खास होता है. बहन भाई को राखी (Rakhi) बांधकर उसके लिए अपना प्यार दर्शाती है तो वहीं भाई भी उम्र भर बहन की रक्षा करने का वादा करते हैं. कोरोना (Corona) आपदा के कारण वर्ष 2020 के सभी त्यौहार-पर्व मानों फीके पड़ गए हैं क्योंकि इस वायरस ने देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर में लॉकडाउन लगा दिया है. भारत में भी इस आपदा से निपटने के लिए करीब 4 महीनों से लोग अपने घरों पर ही रहते हुए, खुद को और अपने परिवार को इस वायरस से बचा रहे हैं. लेकिन बावजूद इसके हमारे देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार, बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है. ऐसे में हमेशा की तरह बेहद हर्षोउल्लास और उत्साह के साथ मनाए जाने वाले रक्षाबंधन के पर्व पर भी, इस आपदा का ग्रहण लग गया है.

रक्षाबंधन का इतिहास काफी पुराना है
वर्ष 2020 में रक्षाबंधन 3 अगस्त, सोमवार के दिन मनाया जाना है. हालांकि भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक ये त्योहार इस साल कोरोना संक्रमण के खतरे के बावजूद भी, कई मायनों में बेहद खास रहने वाला है. इस खास मौके पर भाई-बहन एक दूसरे को गिफ्ट (Gift) देकर स्पेशल फील कराते हैं. एक मामूली सा धागा जब भाई की कलाई पर बंधता है तो भाई भी अपनी बहन की रक्षा के लिए अपनी जान न्योछावर करने को तैयार हो जाता है. क्या आप जानते हैं कि रक्षाबंधन का इतिहास काफी पुराना है, जो सिंधु घाटी की सभ्यता से जुड़ा हुआ है. असल में रक्षाबंधन की परंपरा उन बहनों ने डाली थी जो सगी नहीं थीं, भले ही उन बहनों ने अपने संरक्षण के लिए ही इस पर्व की शुरुआत क्यों न की हो, लेकिन उसकी बदौलत आज भी इस त्योहार की मान्यता बरकरार है. आइए जानते हैं आखिर क्यों खास है, वर्ष 2020 का रक्षाबंधन.

रक्षाबंधन के दिन पड़ रहे हैं कई शुभ मुहूर्त
वैदिक पंचांग के अनुसार इस बार का रक्षाबंधन पर्व बेहद खास मौके पर पड़ रहा है. करीब 29 साल बाद श्रावण पूर्णिमा पर सावन के अंतिम सोमवार के दिन ही, वर्ष 2020 का रक्षाबंधन का पर्व 3 अगस्त को मनाया जाएगा. इस दौरान कई शुभ योग व नक्षत्रों का अनोखा संयोग भी बनेगा. साथ ही दुनिया की नं. 1 ज्योतिष वेबसाइट एस्ट्रोसेज के वरिष्ठ ज्योतिषी डॉ सुनील बारमोला के अनुसार, इस बार रक्षाबंधन पर्व के दिन सर्वार्थ सिद्धि व दीर्घायु आयुष्मान योग का निर्माण भी होगा और ये पर्व भद्रा और ग्रहण से भी पूरी तरह मुक्त होगा.



डॉ सुनील बारमोला जी की मानें तो, 3 अगस्त, सोमवार के दिन सर्वार्थ सिद्धि और दीर्घायु आयुष्मान योग का निर्माण हो रहा है. साथ ही सूर्य शनि मिलकर समसप्तक योग बनाएंगे और इस दिन सोमवती पूर्णिमा भी इस पर्व में चार चांद लगाने का कार्य करेगी. वहीं चंद्रमा भी मकर राशि में होते हुए पूर्णिमा के कारण अस्त नहीं होंगे, साथ ही वो उत्तराषाढा और फिर श्रवण नक्षत्र में आगे बढ़ेंगे. इस दौरान सोमवार के दिन प्रीति योग 06:37:59 तक रहेगा, जो बेहद शुभ संयोग को दर्शा रहा है.

इससे पहले ऐसा सुन्दर संयोग करीब 29 साल पूर्व, 1991 में बना था. डॉ सुनील बारमोला जी के अनुसार ये संयोगों कृषि क्षेत्र खासतौर से ग्रामीण क्षेत्रों के लिए खासा उत्तम रहने वाला है. ऐसे में कोरोना काल में इस वर्ष भाई-बहन अपने-अपने घर रहते हुए भी, यदि सुबह भोर में उठकर स्नान आदि कर रक्षाबंधन का व्रत करते हैं तो, इन सभी शुभ संयोग का फल उन्हें जरूर मिलेगा.

रक्षाबंधन 2020 शुभ मुहूर्त और समय
रक्षाबंधन- 3 अगस्त, 2020 सोमवार
राखी बांधने का मुहूर्त- सुबह 09:27:30 से रात 21:17:03 तक
अवधि-11 घंटे 49 मिनट
रक्षा बंधन अपराह्न मुहूर्त- दोपहर 13:47:39 से शाम 16:28:56 तक
रक्षा बंधन प्रदोष मुहूर्त- शाम 19:10:14 से रात 21:17:03 तक (साभार- Astrosage.com)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading