होम /न्यूज /धर्म /Vastu Tips: बेहद अशुभ होते हैं घर और आसपास उगने वाले ये पेड़-पौधे, जानें क्या कहते हैं शास्त्र

Vastu Tips: बेहद अशुभ होते हैं घर और आसपास उगने वाले ये पेड़-पौधे, जानें क्या कहते हैं शास्त्र

घर के लिए शुभ-अशुभ पेड़- पौधे. Image-canva

घर के लिए शुभ-अशुभ पेड़- पौधे. Image-canva

Vastu Tips: पर्यावरण व प्राकृतिक सौंदर्य के लिए हर कोई पेड़-पौधे लगाता है पर कुछ पेड़-पौधे ऐसे भी हैं, जो घर के लिए विन ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पर्यावरण व प्राकृतिक सौंदर्य के लिए हर कोई पेड़-पौधे लगाता है.
कुछ पेड़-पौधे ऐसे भी हैं, जो घर के लिए विनाशकारी माने गए हैं.

पर्यावरण के लिए पेड़-पौधे बहुत जरूरी होते हैं. ये किसी भी स्थान की सुंदरता भी बढ़ा देते हैं, इसलिए घरों में भी उन्हें चाव से लगाकर प्यार से देखभाल की जाती है. पर क्या आप जानते हैं कि कुछ पेड़े- पौधे ऐसे भी हैं, जो आपके घर का विनाश भी कर सकते हैं? नहीं ना! तो आज हम आपको ऐसे ही पेड़-पौधों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो घर या आसपास में होना भी अशुभ होते हैं. 

यह भी पढ़ें – बहुत शक्तिशाली हैं सूर्य देव के ये 12 मंत्र, जपते ही पूरी होती है हर इच्छा

घर के लिए अशुभ पेड़

पंडित रामचंद्र जोशी के अनुसार, घर के लिए शुभ व अशुभ पेड़- पौधों का जिक्र ज्योतिष व वास्तु शास्त्र के अलावा ब्रह्मावैवर्त व भविष्य पुराण सहित कई शास्त्रों में मिलता है. इनके अनुसार घर में कांटे व दूध वाले पौधों के अलावा नीम, पीपल, आम, केला, वट, जटामासी, कटहल, भिलावा, कदम्ब, खदिरका, तगर व गूलर का पेड़ नहीं होना चाहिए. ये पेड़ घर में दरिद्रता व दुख लाने वाले माने गए हैं. इसी तरह वट वृक्ष से चोर का डर रहता है, जबकि इमली, खजूर व कांटेदार पेड़-पौधे विद्या व बुद्धि का नाश कर दुख बढ़ाने वाले कहे गए हैं. 

घर के आसपास भी ना हों ये पेड़

पंडित जोशी के अनुसार, मकान के पास पीपल का पेड़ शुभ नहीं होता. मान्यता है कि जहां तक उसकी छाया होती है, वहां तक वह विनाश करता है. मकान के पूर्व दिशा में पीपल से आग का भय रहता है. पीपल का दोष को दूर करने के लिए पेड़ के चारों तरफ दीवार बना देना चाहिए. उसे रोजाना जल से सींचकर उसमें दीपक जलाना चाहिए. इसी तरह दक्षिण में पाकड़ के पेड़ से आयु की हानि, पश्चिम में बड़ से हथियार से हमले और उत्तर दिशा में गूलर के पेड़ से नेत्र रोग की आशंका होती है. पीपल के देवता सूर्य, पाकड़ के यम, बड़ के वरुण व गूलर के देवता प्रजापति ब्रह्मजी हैं. ऐसे में उन्हें उखाड़कर मंदिर या अन्य उचित स्थान पर लगाकर इनकी पूजा करनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: भगवान श्रीकृष्ण को किस देवता से उपहार में मिली बांसुरी? जानें इसका महत्व

Tags: Dharma Aastha, Dharma Culture, Religious, Vastu tips

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें