Holika Dahan 2021: होलिका दहन की पूजा सामग्री की पूरी लिस्ट देखें, जानें सारे नियम


Holika Dahan 2021 Do These Remedies For Happy Life: होलिका दहन 28 मार्च यानी कि कल है. होलिका की अग्नि काफी शक्तिशाली मानी जाती है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, होलिका की अग्नि में सारी परेशानियां और नकारात्मकता जल कर भस्म हो जाती है. होलिका की अग्नि बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है. होलिका विष्णु भक्त प्रह्लाद के प्राण लेने के लिए उसे लेकर अग्नि में बैठी थी. अग्नि में ना जलने के वरदान के बावजूद वो जल कर राख हो गई क्योंकि होलिका के विचार गलत थे. होलिका दहन के दिन यदि कुछ विशेष काम किए जाएं तो आपको जीवन की कई परेशानियों का हल मिल सकता है...
 (File)

Holika Dahan 2021 Do These Remedies For Happy Life: होलिका दहन 28 मार्च यानी कि कल है. होलिका की अग्नि काफी शक्तिशाली मानी जाती है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, होलिका की अग्नि में सारी परेशानियां और नकारात्मकता जल कर भस्म हो जाती है. होलिका की अग्नि बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है. होलिका विष्णु भक्त प्रह्लाद के प्राण लेने के लिए उसे लेकर अग्नि में बैठी थी. अग्नि में ना जलने के वरदान के बावजूद वो जल कर राख हो गई क्योंकि होलिका के विचार गलत थे. होलिका दहन के दिन यदि कुछ विशेष काम किए जाएं तो आपको जीवन की कई परेशानियों का हल मिल सकता है... (File)

Holika Dahan 2021 Puja Samagri List- होलिका दहन और पूजा करने का महत्व पुराणों में भी है और ऐसा माना जाता है कि होली की पूजा करने से महालक्ष्मी प्रसन्न हो होती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2021, 6:40 AM IST
  • Share this:
Holika Dahan 2021 Puja Samagri List- होलिका दहन बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है. होलिका दहन फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि को, मनाया जाता है. होलिका दहन 28 मार्च 2021 दिन रविवार को पूरे विधि-विधान अनुसार मनाया जाएगा. होलिका दहन के बाद होलिका माई की पूजा अर्चना की जाती है. होलिका दहन के अगले दिन, होली मनाई जाती है. होलिका दहन से पहले कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है.

अगर आप होलिका दहन के दिन कुछ उपायों को प्रयोग करें तो पूरे साल आपके जीवन में खुशहाली और समृद्धि बनी रहेगी. होलिका दहन और पूजा करने का महत्व पुराणों में भी है और ऐसा माना जाता है कि होली की पूजा करने से महालक्ष्मी प्रसन्न हो होती हैं. देवी लक्ष्मी घरों में विराजमान होती हैं और शांति का विस्तार होता है. आइए आपको बताते हैं कि होलिका दहन की पूजा सामग्री एवं होलिका दहन से जुड़े कुछ जरूरी नियम...

Also Read: Holika Dahan 2021 Date: कब है होलिका दहन? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त एवं संपूर्ण विधि 
होलिका दहन की पूजन सामग्री
होलिका दहन से पूर्व, पूरी श्रद्धा अनुसार होलिका की पूजा की जाती है. पूजा सामग्रियों में एक स्वच्छ लोटे में जल, नारियल, फूल, माला, रोली, गुलाल, गुड़, कच्चा सूत, हल्दी, गेहूं की बालियां आदि होती हैं.



होलिका पूजा के दौरान इन बातों का रखें ध्यान
● जहां होलिका दहन होना है, उस स्थान पर उत्तर अथवा पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठ जाएं.
● सर्वप्रथम आदिदेव गणेश जी एवं माता गौरी की पूजा का विधान होता है.
● तत्पश्चात “ओम होलिकायै नमः”, “ओम प्रहलादाय नमः”, “ओम नृसिंहाय नमः” मंत्र का उच्चारण करें.
● इसके बाद चार पुष्प माला लेकर एक अपने पितरों को, एक हनुमंत लला को, एक माता शीतला को और एक अपने परिवार की ओर से होलिका पर समर्पित करें.
● इसके बाद होलिका की सात बार परिक्रमा कर, पेड़ में कच्चा सूत लपेटें.
● फिर उसे लोटे का जल अर्पित करें और सभी पूजन सामग्रियों का एक-एक कर होलिका में प्रवाह कर दें.
● इसके बाद हाथ जोड़ कर अपनी पूर्व की ग़लतियों के लिए, क्षमा याचना करें एवं अपनी मनोकामनाएं पूर्ण होने की प्रार्थना करें. (Credit: astrosage.com)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज