Home /News /dharm /

holika dahan 2022 shubh muhurat right time and know about bhadra

Holika Dahan 2022 Muhurat: कब है होलिका दहन का सही मुहूर्त? काशी के ज्योतिषाचार्य से जानें

होलिका दहन फाल्गुन पूर्णिमा को प्रदोष काल में भद्रा रहित मुहूर्त में किया जाता है.

होलिका दहन फाल्गुन पूर्णिमा को प्रदोष काल में भद्रा रहित मुहूर्त में किया जाता है.

Holika Dahan 2022 Muhurat: इस साल होलिका दहन 17 मार्च दिन गुरुवार को है. इस बार होलिका दहन मुहूर्त को लेकर दुविधा की स्थिति है. ऐसे में आज आपको ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट बता रहे हैं होलिका दहन का शुभ मुहूर्त (Auspicious Time) और भद्रा (Bhadra) में वर्जित कार्यों के बारे में.

अधिक पढ़ें ...

Holika Dahan 2022 Muhurat: इस साल होलिका दहन 17 मार्च दिन गुरुवार को है. इस बार होलिका दहन के मुहूर्त को लेकर दुविधा की स्थिति बन गई है. यह हुआ है भद्रा के कारण. अब इसकी वजह से हर कोई अलग-अलग मुहूर्त बता रहा है. ऐसे में आम लोगों के लिए अनिर्णय की स्थिति है. वे कौन सा मुहूर्त सही माने और कौन सा नहीं, यह तय कर पाना कठिन हो रहा है. ऐसे में आज आपको काशी के ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट बता रहे हैं होलिका दहन का शुभ मुहूर्त (Auspicious Time) और भद्रा (Bhadra) में वर्जित कार्यों के बारे में.

होलिका दहन कब करते हैं?
होलिका दहन फाल्गुन पूर्णिमा को प्रदोष काल में भद्रा रहित मुहूर्त में किया जाता है. यदि प्रदोष काल में भद्रा है, तो भद्रा के समाप्त होने का इंतजार करना चाहिए क्योंकि भद्रा को अशुभ और अमंगलकारी माना जाता है. इसमें किए गए कार्य शुभता प्रदान नहीं करते हैं और इससे कई दोष भी लगते हैं.

यह भी पढ़ें: इस साल होली पर बन रहे हैं शुभ संयोग, बिजनेस में हो सकती है उन्नति

होलिका दहन 2022 का शुभ मुहूर्त
फाल्गुन पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ: 17 मार्च, 13 बजकर 29 मिनट से यानी दोपहर 01:29 बजे
फाल्गुन पूर्णिमा तिथि की समाप्ति: 18 मार्च, दोपहर 12 बजकर 47 मिनट पर
भद्रा का प्रारंभ: 17 मार्च को दोपहर 01 बजकर 02 मिनट से
भद्रा का समापन: 17 मार्च को देर रात 12 बजकर 57 मिनट पर
होलिका दहन का शुभ समय: 17 मार्च को रात 12 बजकर 57 मिनट के बाद से

यह भी पढ़ें: भद्रा में क्यों नहीं करते हैं मांगलिक कार्य? पढ़ें भद्रा की उत्पत्ति की कथा

भद्रा पूंछ और मुख दोनों ही अमंगलकारी
कुछ लोगों का मानना है कि भद्रा की पूंछ में होलिका दहन कर सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं करना चाहिए. भद्रा का पूरा समय (पूंछ या मुख) ही अशुभ और अमंगल करने वाला माना गया है.

भद्रा में वर्जित कार्य
यदि आप भद्रा के समय में गृह प्रवेश, बिजनेस, यात्रा, खेती या कोई भी मांगलिक कार्य करते हैं, तो तुम उसमें विघ्न-बाधा आता है. वह कार्य पूर्ण फल देने वाला नहीं होता है.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news 18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Dharma Aastha, Holi

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर