होम /न्यूज /धर्म /जानें कैसे भगवान गणेश बने पाताल लोक के राजा, पढ़ें रोचक कहानी

जानें कैसे भगवान गणेश बने पाताल लोक के राजा, पढ़ें रोचक कहानी

भगवान गणेश का जन्म माता पार्वती के उबटन से हुआ

भगवान गणेश का जन्म माता पार्वती के उबटन से हुआ

भगवान गणेश का जन्म माता पार्वती के उबटन से हुआ और भगवान शिव द्वारा उन्हें गज का सिर लगाया गया, जिससे उन्हें यह रूप मिला ...अधिक पढ़ें

माता पार्वती और भगवान शिव के छोटे पुत्र हैं भगवान गणेश, जिन्हें माता-पिता और देवताओं के द्वारा प्रथम पूज्य होने का आशीर्वाद प्रदान किया गया. कथाओं में ऐसा उल्लेख है कि भगवान गणेश का जन्म माता पार्वती के उबटन से हुआ, और भगवान शिव द्वारा उन्हें गज का सर लगाया गया. जिससे उन्हें यह रूप मिला. इसलिए भगवान गणेश को गजानन भी कहा जाता है. भगवान गणेश की कथाओं का वर्णन अनेक ग्रंथों में मिलता है. गणेश से जुड़ी कई ऐसी कथाएं हैं जो कृष्ण लीलाओं से भी मिलती जुलती हैं. इन सभी लीलाओं का वर्णन मुद्गल पुराण, गणेश पुराण और शिव पुराण में मिलता है. तो आज हम आपको भगवान गणेश से जुड़ी कुछ ऐसी ही रोचक कथाओं के बारे में बताने जा रहे हैं.

– पाताल लोक के राजा गणेश
आपने भी भगवान गणेश से जुड़ी कई कथाओं के बारे में सुना होगा, लेकिन शायद बहुत कम लोग जानते हैं कि भगवान गणेश पाताल लोक के राजा भी हैं. कथा के अनुसार एक बार गणपति ऋषि मुनियों के पुत्रों के साथ पाराशर ऋषि के आश्रम में खेल रहे थे. तभी वहां कुछ नाग कन्याएं आ गई. नाग कन्याएं गणेश को आग्रह पूर्वक अपने लोक लेकर जाने लगीं. भगवान गणेश भी उनका आग्रह ठुकरा नहीं पाए, और उनके साथ चले गए. नाग लोक पहुंचने पर नागकन्याओं ने उनका हर तरह से स्वागत सत्कार किया.

यह भी पढ़ें – जानें भगवान शिव को शक्ति बिना क्यों अधूरा लगता है अपना अस्तित्व

तभी वहां नागराज वासुकी ने भगवान गणेश को देखा और उपहास के भाव से भगवान गणेश से बातें करने लगे और उनके रूप का वर्णन उन्हीं के सामने करने लगे. भगवान गणेश को क्रोध आ गया, उन्होंने वासुकी के फन पर पैर रख दिया और उनके मुकुट को भी स्वयं पहन लिया. वासुकी की दुर्दशा देखकर उनके बड़े भाई शेषनाग भी वहां आ गए. उन्होंने हुंकार भरते हुए कहा किसने मेरे भाई के साथ इस तरह का व्यवहार किया है. जब भगवान गणेश शेषनाग के सामने आए तो वे उन्हें पहचान गए और उनका अभिवादन करने लगे और उन्हें नाग लोक यानी पाताल का राजा घोषित कर दिया.

-एकदंत कैसे हो गए भगवान गणेश?
भगवान गणेश को हम सभी एकदंत के नाम से भी जानते हैं. इसके पीछे पुराणों में एक कथा मिलती है, जिसके अनुसार भगवान विष्णु के अवतार और भगवान शिव के परम भक्त और शिष्य परशुराम जिन्होंने 17 बार क्षत्रियों को धरती से समाप्त कर दिया था. भगवान शिव और माता पार्वती के दर्शन के लिए कैलाश पर्वत पर आए. उस समय भगवान शिव ध्यान में मग्न थे और पहरे पर स्वयं भगवान गणेश बैठे हुए थे. भगवान गणेश ने परशुराम को दर्शन करने से रोक दिया. इससे परशुराम को बहुत क्रोध आया, और उन्होंने भगवान गणेश को धक्का दे दिया.

यह भी पढ़ें – रविवार के दिन करें ये 5 पौराणिक उपाय, सूर्य देव होंगे प्रसन्न

नीचे गिरते ही भगवान गणेश को भी क्रोध आ गया. परशुराम ब्राह्मण थे तो गणेश ने उन पर प्रहार करना उचित नहीं समझा, उन्होंने परशुराम को अपनी सूंड में जकड़ लिया और चारों दिशाओं में गोल गोल घुमाने लगे. कुछ पलों के बाद उन्होंने परशुराम को छोड़ दिया. कुछ देर तक तो परशुराम शांत मुद्रा में रहे लेकिन जब उन्हें अपने आपमान का एहसास हुआ तो उन्होंने अपने फरसे से भगवान गणेश पर वार कर दिया. वह फरसा भगवान शिव का दिया हुआ था, तो गणेश उनके वार को खली जाने नहीं देना चाहते थे, यह सोचकर उन्होंने फरसे के उस वार को अपने एक दांत पर झेल लिया. फरसा लगते ही भगवान गणेश का दांत टूट कर गिर गया. इस कोलाहल को सुनकर भगवान शिव ध्यान मुद्रा से जाग गए और उन्होंने दोनों को शांत करवाया. तब से भगवान गणेश का एक ही दांत रह गया और वह एकदंत कहलाने लगे. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news 18 इनकी पुष्टि नहींकरता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Tags: Dharma Aastha, Lord ganapati, Religion

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें