Janmashtami 2020: इस जन्माष्टमी राशि अनुसार करें बाल गोपाल की पूजा, ऐसे प्राप्त करें भगवान श्रीकृष्ण का आशीर्वाद

Janmashtami 2020: इस जन्माष्टमी राशि अनुसार करें बाल गोपाल की पूजा, ऐसे प्राप्त करें भगवान श्रीकृष्ण का आशीर्वाद
कृष्ण जन्माष्टमी हर साल भाद्रपद महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र में मनाया जाता है.

माना गया है कि यदि कोई भी भक्त जन्माष्टमी (Janmashtami) के दिन पूरी श्रद्धा भाव और विधि-विधान से बाल गोपाल (Balgopal) की अपनी राशिनुसार पूजा-अर्चना कर, उन्हें भोग चढ़ाता है तो भगवान सालभर न केवल उनके सभी कष्ट दूर करते हैं, बल्कि उनके जीवन में समृद्धि भी लेकर आते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 7:18 AM IST
  • Share this:
भगवान विष्णु (Lord Vishnu) के अवतार माने जाने वाले श्रीकृष्ण का जन्म उत्सव, देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी हर वर्ष बड़ी धूमधाम से कृष्ण जन्माष्टमी (Krishna Janmashtami) के रूप में मनाया जाता है. वर्ष 2020 में ये पर्व 12 अगस्त, बुधवार को मनाया जएगा. हिंदू पंचांग की मानें तो भगवान कृष्ण को समर्पित ये पावन त्योहार, हर साल भाद्रपद महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र में मनाया जाता है. इस दिन श्रीकृष्ण के भक्त उनकी आराधना में उपवास रखते हैं. घरों में बाल गोपाल की पूजा होती है. उनके लिए झूले सजाएं जाते हैं.

कोरोना काल में जन्माष्टमी पर ऐसे प्राप्त करें भगवान का आशीर्वाद
वर्ष 2020 में कोरोना संक्रमण के बीच इस पर्व को लेकर लोगों में संकोच की स्थिति है कि आखिर कैसे वह इस वर्ष बिना मंदिर में जाएं अपने घर पर ही भगवान कृष्ण की पूजा कर उनकी विशेष कृपा प्राप्त कर सकेंगे? ऐसे में भक्तों की इसी दुविधा को दूर करते हुए, एस्ट्रोसेज के वरिष्ठ ज्योतिश्चाचार्यों ने उन्हें इन दिन प्रेमावतार श्रीकृष्‍ण जी का, अपनी राशिनुसार पूजन और मंत्रोच्‍चारण करने की सलाह दी है.

राशिनुसार करें बालकृष्ण की पूजा
माना गया है कि यदि कोई भी भक्त जन्माष्टमी के दिन पूरी श्रद्धा भाव और विधि-विधान से बालगोपाल की अपनी राशिनुसार पूजा-अर्चना कर, उन्हें भोग चढ़ाता है तो भगवान सालभर न केवल उनके सभी कष्ट दूर करते हैं, बल्कि उनके जीवन में समृद्धि भी लेकर आते हैं. तो फिर चलिए जानते हैं कि आपको अपनी राशि के अनुसार, किस मंत्र का उच्चारण करते हुए, इस जन्माष्टमी भगवान कृष्ण को क्या भोग अर्पित करना चाहिए.



मेष राशि
मेष राशि के जातकों के लिए इस जन्माष्टमी बाल गोपाल को अपने घर लाकर, उनका अभिषेक गंगाजल से करना शुभ रहेगा. इस दौरान आपको भगवान कृष्ण को दूध से बनी मिठाइयों, साथ ही नारियल के लड्डू और माखन-मिश्री का भोग लगाना चाहिए. साथ ही उन्हें भोग लगाते हुए तुलसी की एक माला से "ऊं नमो भगवते वासुदेवाय नम:" मंत्र का उच्चारण करने से भी, आपको भगवान की विशेष कृपा प्राप्त होगी.

वृषभ राशि
यदि आपकी राशि वृषभ है तो, आपको इस जन्माष्टमी विशेष रूप से भगवान श्रीकृष्ण का अभिषेक पंचामृत से करना चाहिए. साथ ही कमल गट्टे की माला से 11 बार "श्रीराधाकृष्ण शरणम् मम" मंत्र का उच्चारण करते हुए, उन्हें भोग में छेने की मिठाई, पंजीरी और मखाने अर्पित करने चाहिए. इससे आपके सभी कष्ट समाप्त हो जाएंगे.

मिथुन राशि
इस जन्माष्टमी के पर्व पर मिथुन राशि के जातकों को, बाल गोपाल का दूध से अभिषेक करना चाहिए. इसके साथ ही उन्हें भोग में पंचमेवा, काजू की मिठाई और केले अर्पित करना आपके लिए शुभ रहेगा. इस दौरान स्फटिक की माला से 11 बार "श्रीराधायै स्वाहा" मंत्र का जप करने से, आपको सबसे अधिक उत्तम फलों की प्राप्ति भी होगी.

कर्क राशि
माना गया है कि यदि इस जन्माष्टमी के दिन कर्क राशि के जातक, भगवान श्रीकृष्ण का शुद्ध गाय के घी से अभिषेक कर, उन्हें भोग में केसर या खोये से बनी मिठाई और कच्चा नारियल अर्पित करते हैं तो, उन्हें भगवान की विशेष कृपा प्राप्त होगी. इसके साथ ही इस दौरान आपके लिए 5 बार "श्रीराधावल्लभाय नम:" मंत्र का जाप करना भी फलदायी सिद्ध होगा.

सिंह राशि
सिंह राशि के जातकों को कृष्ण जन्माष्टमी के दिन, भगवान के बाल स्वरूप का गंगाजल में शहद मिलाकर अभिषेक करना चाहिए. इस दौरान उन्हें भोग में लाल पेड़े, अनार और गुड़ अर्पित करते हुए, "ऊँ वैष्णवे नम:" मंत्र की एक माला का जाप करें.

कन्या राशि
कन्या राशि के जातकों को जन्माष्टमी के पर्व पर दूध में घी मिलाकर, बाल गोपाल का अभिषेक करने की सलाह दी जाती है. इस दौरान आप उन्हें यदि मेवे, दूध की मिठाई, अमरुद और नाशपति का भोग लगाते हुए, 11 बार "श्री राधायै स्वाहा" मंत्र का जाप करते हैं तो, आपको निश्चित ही भगवान का आशीर्वाद प्राप्त होगा.

तुला राशि
कृष्ण जन्मोत्सव के दिन तुला राशि के जातकों को, बाल गोपाल का दूध में शक्कर मिलाकर अभिषेक करना चाहिए. इसके साथ ही उन्हें भोग में खोये की बर्फी, माखन-मिश्री, केले और कलाकंद अर्पित करें. इस दौरान 11 बार "र्ली कृष्ण र्ली" मंत्र का जप करने से आपको भगवान हर कार्य में सफलता प्रदान करेंगे.

वृश्चिक राशि
वृश्चिक राशि के जातकों के लिए श्रीकृष्ण का पंचामृत से अभिषेक करना और इस जन्माष्टमी उन्हें भोग में गुलाब जामुन, गुड़ की मिठाई, नारियल का प्रसाद अर्पित करना शुभ रहेगा. इस दौरान 11 बार "श्रीवृंदावनेश्वरी राधायै नम:" मंत्र का जप करने से भगवान आपके सभी दुखों को दूर कर, आपके जीवन में समृद्धि प्रदान करेंगे.

धनु राशि
इस कृष्ण जन्मोत्सव पर धनु राशि के जातकों को भगवान कृष्ण की विशेष कृपा प्राप्त करने के लिए, उनका अभिषेक कच्चे दूध और शहद से करना चाहिए. इस दौरान 5 बार "ऊं नमो नारायणाय" मंत्र का उच्चारण करते हुए, उन्हें बेसन की मिठाई और कोई पीला फल भोग में अर्पित करना आपके लिए शुभ रहेगा.

मकर राशि
जन्माष्टमी के दिन मकर राशि के जातकों को खासतौर से भगवान कृष्ण का गंगाजल से अभिषेक कर, उन्हें लाल पेड़े, गुलाब जामुन और अंगूर का भोग लगाना चाहिए. माना जाता है कि यदि ऐसा करते समय वो "ऊं र्ली गोपीजनवल्लभाय नम:" मंत्र की एक माला का जप करें तो, उन्हें भगवान की विशेष कृपा प्राप्त होगी.

कुंभ राशि
कुंभ राशि के जातकों को इस पवित्र दिन, नंद गोपाल को विराजमान करते हुए उनका अभिषेक पंचामृत से करना शुभ रहेगा. इस दौरान उन्हें भूरे रंग की मिठाई, पंचमेवे और चीकू का भोग लगाएं. साथ ही यदि आप 11 बार "ऊं नमो भगवते वासुदेवाय नम:" मंत्र का जाप करेंगे तो, आपके सभी अधूरे कार्य पूरे हो सकेंगे.

मीन राशि
जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर मीन राशि के जातकों को, भगवान कृष्ण का पंचामृत से अभिषेक कर, उन्हें मेवे की मिठाई, इलायची व नारियल अर्पित करने चाहिए. इस दौरान बेहतर स्वस्थ्य जीवन के लिए एक माला मंत्र -"ऊं र्ली गोकुलनाथाय नम:" मंत्र का जाप करें. (साभार- Astrosage.com)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज