होम /न्यूज /धर्म /

Janmashtami 2022: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पूजन सामग्री में शामिल करें ये चीजें, पूर्ण होंगी मनोकामनाएं

Janmashtami 2022: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पूजन सामग्री में शामिल करें ये चीजें, पूर्ण होंगी मनोकामनाएं

श्री कृष्ण की पूजा के लिए कुछ सामग्रियां अनिवार्य होती हैं.

श्री कृष्ण की पूजा के लिए कुछ सामग्रियां अनिवार्य होती हैं.

जन्माष्टमी का पर्व 18 अगस्त 2022 को मनाया जाएगा. जन्माष्टमी पर उपवास रखने से हर मनोकामना पूर्ण होती है. पंडित जी के अनुसार, श्रीकृष्ण की पूजा के लिए कुछ सामग्रियां अनिवार्य होती हैं.

हाइलाइट्स

जन्माष्टमी का पर्व 18 अगस्त 2022 को मनाया जाएगा.
जन्माष्टमी पर उपवास रखने से हर मनोकामना पूर्ण होती है.

भगवान कृष्ण का जन्मोत्सव देश भर में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है. भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव को जन्माष्टमी (Janmashtami) या गोकुलाष्टमी कहा जाता है. कृष्ण का जन्मोत्सव भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है. इस बार कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व 18 अगस्त 2022 को मनाया जाएगा. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन भगवान श्री कृष्ण की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है. जन्माष्टमी पर उपवास रखने से हर मनोकामना पूर्ण होती है. हिंदू धर्म के अनुसार, श्री कृष्ण की पूजा के लिए कुछ सामग्रियां अनिवार्य होती हैं. आइये पंडित इंद्रमणि घनस्याल से जानते हैं श्री कृष्ण जन्माष्टमी के पूजन की सामग्री की विस्तृत जानकारी.

जन्माष्टमी पूजा के लिए जरूरी सामग्रियां
श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर शिशु कृष्ण के लिए पालना या झूला, शिशु कृष्ण की एक धातु की मूर्ति, श्रीकृष्ण की मूर्ति के पास रखने के लिए एक छोटी बांसुरी, एक पोशाक, आभूषण, तुलसी के पत्ते, चंदन, अक्षत्, हल्दी, कुमकुम, केसर, मक्खन, कलश, छोटी इलायची, लौंग मौली, इत्र, सिंहासन, गंगाजल, पंचामृत, दीया, दीया जलाने के लिए तेल या घी और रुई की बाती, अगरबत्ती, धूप आदि चाहिए.

यह भी पढ़ेंः अष्टलक्ष्मी कुबेर मंत्र के जाप से होगी ‘धन वर्षा’, कभी खाली नहीं रहेगी तिजोरी

यह भी पढ़ेंः क्या है पंचगव्य? धार्मिक अनुष्ठान में गाय से जुड़ी इन पांच चीजों का होता है विशेष महत्व

इसके अलावा फल जैसे सेब, केला, मीठा, नीबू, नाशपाती, अमरूद, पान, सुपारी, नोट या सिक्के, सफेद कपड़ा, लाल कपड़ा, अखंड नारियल, आरती करने के लिए कपूर चाहिए.

जन्माष्टमी 2022 तिथि और समय
हिंदू पंचांग के अनुसार, श्री कृष्ण जन्माष्टमी का त्योहार 18 अगस्त 2022 को मनाया जाएगा. इसी दिन उपवास भी रखा जाएगा. पंचांग के मुताबिक, भादों कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि 18 अगस्त 2022 को रात 09.20 बजे से शुरू होगी, जो 19 अगस्त 2022 को रात 10.59 बजे समाप्त होगी.

जन्माष्टमी के व्रत से पहले की रात्रि को हल्का भोजन करना चाहिए. इसके बाद जन्माष्टमी के दिन व्रत रखें. विधि विधान से श्री कृष्ण भगवान की पूजा-अर्चना करें. बाल गोपाल को माखन-मिश्री का भोग लगाएं. ऐसा करने से घर में सुख-समृद्धि का वास होता है.

Tags: Dharma Aastha, Janmashtami, Lord krishna, Religion, Sri Krishna Janmashtami

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर