Home /News /dharm /

jaya parvati vrat 2022 date tithi puja muhurat and importance kar

Jaya Parvati Vrat 2022: कब है जया पार्वती व्रत? जानें पूजा का मुहूर्त और महत्व

जया पार्वती व्रत आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को रखते हैं.

जया पार्वती व्रत आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को रखते हैं.

आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को जया पार्वती व्रत (Jaya Parvati Vrat) रखते हैं. इस दिन सोम प्रदोष व्रत भी है. आइए जानते हैं जया पार्वती व्रत के महत्व के बारे में.

जया पार्वती व्रत आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को रखते हैं. इस दिन प्रदोष व्रत भी रखा जाता है. इस साल जया पार्वती व्रत 11 जुलाई दिन सोमवार को है. इस दिन सोम प्रदोष व्रत और जया पार्वती व्रत का सुंदर संयोग बन रहा है. जो लोग नि:संतान हैं, उनको जया पार्वती व्रत जरूर करना चाहिए. इस व्रत के पुण्य प्रभाव से पुत्र प्रा​प्त होता है और माता पार्वती की कृपा से अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद मिलता है. यह जया पार्वती व्रत का सबसे बड़ा महात्म है. काशी के ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट से जानते हैं जया पार्वती व्रत (Jaya Parvati Vrat) की सही तिथि, पूजा मुहूर्त आदि के बारे में.

जया पार्वती व्रत 2022 तिथि
पंचांग के अनुसार, आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि का प्रारंभ 11 जुलाई दिन सोमवार को दिन 11 बजकर 13 मिनट पर हो रहा है. यह तिथि अगले दिन 12 जुलाई को सुबह 07 बजकर 46 मिनट पर समाप्त हो जाएगा. ऐसे में प्रदोष पूजा का मुहूर्त देखने पर 11 जुलाई को जया पार्वती व्रत का रखा जाएगा. इस दिन सोम प्रदोष व्रत भी है.

जया पार्वती व्रत 2022 प्रदोष पूजा मुहूर्त
जया पार्वती व्रत वाले दिन प्रदोष पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 07 बजकर 22 मिनट से रात 09 बजकर 24 मिनट तक है. इस मुहूर्त में आपको माता पार्वती और भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए.

इस दिन शुक्ल योग प्रात:काल से लेकर रात 09 बजकर 02 मिनट तक है. उसके बाद से ब्रह्म योग शुरु हो जाएगा. सुबह 07 बजकर 50 मिनट तक अनुराधा नक्षत्र और उसके बाद से ज्येष्ठा नक्षत्र शुरु हो जाएगा. ये दोनों ही योग और नक्षत्र मांगलिक कार्यों के लिए शुभ माने जाते हैं.

सर्वार्थ सिद्धि योग में जया पार्वती व्रत
जया पार्वती व्रत वाले दिन सर्वार्थ सिद्धि योग प्रात: 05 बजकर 31 मिनट से प्रात: 07 बजकर 50 मिनट तक है. वहीं रवि योग 12 जुलाई को प्रात: 05 बजकर 15 मिनट से प्रात: 05 बजकर 32 मिनट तक है. इस​ दिन का शुभ समय या अभिजित मुहूर्त 11 बजकर 59 मिनट से दोपहर 12 बजकर 54 मिनट तक है.

जया पार्वती व्रत का महत्व
यह व्रत मुख्यत: गुजरात में किया जाता है. अविवाहित युवतियां योग्य वर की कामना से यह व्रत रखती हैं, जब​कि सुहागन महिलाएं पति की लंबी आयु के लिए जया पार्वती व्रत रखती हैं. यह व्रत पांच दिनों तक चलता है. यह आषाढ़ शुक्ल त्रयोदशी से प्रारंभ होकर सावन माह के कृष्ण पक्ष की तृतीया तिथि तक चलता है.

Tags: Dharma Aastha, Religion, Spirituality

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर