अपना शहर चुनें

States

Kaal Bhairav Jayanti 2020: जानें कब है काल भैरव जयंती, कैसे हुई थी इनकी उत्पत्ति 

काल भैरव जयंती, काल भैरव अष्टमी के नाम से भी जानी जाती है.
काल भैरव जयंती, काल भैरव अष्टमी के नाम से भी जानी जाती है.

Kaal Bhairav Jayanti 2020: काल भैरव जयंती के दिन भगवान शिव (Lord Shiva) की पूजा की जाए तो भी भगवान भैरव की कृपा प्राप्‍त होती है. मान्‍यता है कि भगवान भैरव की उत्पत्ति भगवान शिव के अंश के रूप में हुई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 3, 2020, 6:31 AM IST
  • Share this:
Kaal Bhairav Jayanti 2020: काल भैरव जयंती (Kala Bhairav Jayanti 7 दिसंबर को मनाई जाएगी. हर साल मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को काल भैरव देव जी की जयंती मनाई जाती है. इस दिन भगवान काल भैरव जी की विधि विधान से पूजा की जाती है. काल भैरव जयंती के दिन भगवान शिव की पूजा की जाए तो भी भगवान भैरव की कृपा प्राप्‍त होती है. मान्‍यता है कि भगवान भैरव की उत्पत्ति भगवान शिव के अंश के रूप में हुई.

काल भैरव जंयती का महत्व
काल भैरव जयंती, काल भैरव अष्टमी के नाम से भी जानी जाती है. मान्‍यता है कि जो व्यक्ति काल भैरव जयंती के दिन काल भैरव जी की विधिवत श्रद्धा से पूजा करता है, उससे वे प्रसन्‍न होते हैं. साथ ही भैरव जी की पूजा से भूत-प्रेत और ऊपरी बाधा आदि जैसी समस्याएं भी दूर होती हैं. हिंदू धर्म में काल भैरव जी की पूजा का विशेष महत्व होता है. इन्‍हें भगवान शिव के ही स्वरूप माना जाता है.

काल भैरव जी को प्रसन्न करने के लिए और उनकी कृपा प्राप्‍त करने के लिए कालाष्टमी के दिन से भगवान भैरव की प्रतिमा के आगे सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए. इस दिन सुबह जल्‍दी उठकर स्नान करके स्‍वच्‍छ वस्त्र धारण करने चाहिए. भगवान काल भैरव को काले तिल, उड़द और सरसों का तेल अर्पित करना चाहिए. साथ ही मंत्रों के जाप के साथ ही उनकी विधिवत पूजा करने से वह प्रसन्‍न होते हैं और उनकी कृपा प्राप्‍त होती है.
इसे भी पढ़ें - कमल का पुष्‍प मां लक्ष्‍मी को है प्रिय, जानिए इसका धार्मिक महत्‍व



इस तरह हुई थी उत्पत्ति
पौराणिक कथाओं के अनुसार माना जाता है कि काल भैरव जी भगवान शिव के क्रोध के कारण उत्पन्न हुए थे. मान्‍यता है कि एक बार ब्रह्मा, विष्णु और महेश में इस बात को लेकर स्‍वयं को श्रेष्‍ठ साबित करने को लेकर बहस हुई. तब इस बहस के बीच ब्रह्मा जी ने भगवान शिव की निंदा की, इससे भोले शिव शंकर क्रोधित हो गए. उनके रौद्र रूप के कारण ही काल भैरव जी की उत्पत्ति हुई. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज