Ekadashi 2019, Kamika Ekadashi: जानिए कामिका एकादशी की पूजा विधि

Ekadashi 2019, Kamika Ekadashi: भगवान कृष्ण ने धर्मराज युधिष्ठिर को एकादशी का धार्मिक महत्व बताते हुए कहा था कि जिस तरह नागों में शेषनाग, पक्षियों में गरुड़, देवताओं में श्री विष्णु, वृक्षों में पीपल तथा मनुष्यों में ब्राह्मण श्रेष्ठ हैं, उसी प्रकार सम्पूर्ण व्रतों में एकादशी श्रेष्ठ है.

News18Hindi
Updated: July 27, 2019, 5:35 PM IST
Ekadashi 2019, Kamika Ekadashi: जानिए कामिका एकादशी की पूजा विधि
Ekadashi 2019, Kamika Ekadashi: जानिए कामिका एकादशी की पूजा विधि!
News18Hindi
Updated: July 27, 2019, 5:35 PM IST
Ekadashi 2019, Kamika Ekadashi: आज 28 जुलाई रविवार को कामिका एकादशी का व्रत है. हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का काफी महत्व है. कामिका एकादशी का व्रत करने से कई यज्ञों के बराबर पुण्य मिलता है. धर्म शास्त्रों में इस बात का जिक्र है कि सावन माह में एकादशी पड़ने के कारण इसका महत्व ज्यादा बढ़ जाता है. माना जाता है कि जो जातक इस व्रत को पूरे विधि विधान के साथ करते हैं उनकी सभी परेशानियों का अंत हो जाता है और वो जन्म-मरण के बंधन से मुक्त हो जाते हैं. उनके सभी मुश्किल काम से बाधाएं दूर होती हैं और वो सफलता को प्राप्त करते हैं. पद्म पुराण में इस बात का उल्लेख मिलता है कि भगवान कृष्ण ने धर्मराज युधिष्ठिर को एकादशी का धार्मिक महत्व बताते हुए कहा था कि जिस तरह नागों में शेषनाग, पक्षियों में गरुड़, देवताओं में श्री विष्णु, वृक्षों में पीपल तथा मनुष्यों में ब्राह्मण श्रेष्ठ हैं, उसी प्रकार सम्पूर्ण व्रतों में एकादशी श्रेष्ठ है. आइए जानते है व्रत की पूजा विधि.

कामिका एकादशी की पूजा विधि:

1.कामिका एकादशी के दिन भगवान विष्णु के सभी नामों का जाप करना चाहिए. श्रीमद्भागवत गीता में भगवान कृष्ण ने कामिका एकादशी के सिलसिले में कहा है कि इस दिन जो इंसान नारायण की प्रतिमा के सम्मुख घी या तिल के तेल का दिया जलाता है उसे पुण्य लाभ होता है. उसके शुभ कर्म इतने बढ़ जाते हैं कि देवता चित्रगुप्त भी उसके शुभ कर्मों का हिसाब नहीं रख पाते हैं.
2.कामिका एकादशी का व्रत रखने वाले जातकों को दशमी से ही इसकी शुरुआत कर देनी चाहिए. कामिका एकादशी के दिन जातक को सुबह उठकर नहा धोकर विष्णु भगवान की पूजा अर्चना करनी चाहिए. इसके बाद उन्हें धूप, दीप, फल, फूल एवं नैवेद्य अर्पित करना चाहिए. प्रयास करना चाहिए कि पूरे दिन मन ही मन भगवान विष्णु का समरण करते रहें और किसी पर गुस्सा न करें और मन को भी सात्विक विचारों में ही लगाएं.

3.शाम के समय सबके साथ बैठकर किसी ज्ञानी पंडित से कामिका एकादशी की व्रत कथा सुननी चाहिए. साथ ही इस दिन भगवान विष्णु के मन्त्र 'ॐ नमो भगवते वासुदेवाय' का यथासंभव जप करें एवं इस दिन विष्णुसहस्रनाम का पाठ भी करना चाहिए.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए कल्चर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 26, 2019, 4:42 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...