लाइव टीवी

कार्तिक पूर्णिमा 2019: भरणी नक्षत्र में आज है पवित्र स्नान, लाखों श्रद्धालु पहुंचे हरिद्वार और अयोध्या

News18Hindi
Updated: November 12, 2019, 10:05 AM IST
कार्तिक पूर्णिमा 2019: भरणी नक्षत्र में आज है पवित्र स्नान, लाखों श्रद्धालु पहुंचे हरिद्वार और अयोध्या
भरणी नक्षत्र को पूर्णिमा के लिए पवित्र नक्षत्र माना जाता है. हर की पौड़ी जैसे गंगा घाटों पर महा स्नान तड़के चार बजे से शुरू हो चुका है.

मान्यता है कि इस दिन गंगा जैसी पवित्र नदियों में स्नान करने से चंद्रमा से हो रही अमृतवृष्टि का लाभ मिलता है. भरणी नक्षत्र को पूर्णिमा के लिए पवित्र नक्षत्र माना जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2019, 10:05 AM IST
  • Share this:
कार्तिक शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा का महा स्नान का आयोजन आज के दिन होता है. गंगा में डुबकी लगाने के लिए देश के कई जगहों से श्रद्धालु धर्मनगरी पहुंचे हैं. यह स्नान वर्ष का अंतिम स्नान पर्व माना जाता है. इस बार कार्तिक पूर्णिमा का स्नान मुसल योग और भरणी नक्षत्र में हो रहा है. कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान करने के लिए हरिद्वार में श्रद्धालुओं का जनसैलाब उमड़ पड़ा है. आपको बता दें कि कार्तिक पूर्णिमा पर चंद्रमा वर्ष के सबसे तेज प्रकाश से चमकते हैं. मान्यता है कि इस दिन गंगा जैसी पवित्र नदियों में स्नान करने से चंद्रमा से हो रही अमृतवृष्टि का लाभ मिलता है. भरणी नक्षत्र को पूर्णिमा के लिए पवित्र नक्षत्र माना जाता है. हर की पौड़ी जैसे गंगा घाटों पर महा स्नान तड़के चार बजे से शुरू हो चुका है.

इसे भी पढ़ेंः 550वां प्रकाश पर्व: दोस्तों-रिश्तेदारों को भेजें ये बधाई संदेश

अगला स्नान पर्व नए वर्ष में मकर संक्रांति पर

आज के इस अवसर पर पूरे दिन स्नान किया जाएगा. वैसे तो पूर्णिमा तिथि सोमवार की शाम ही लग चुकी है जो आज पूर्णिमा सूर्यास्त के बाद तक बनी रहेगी. कार्तिक पूर्णिमा का स्नान करने के लिए देश के पर्वतीय भागों, दिल्ली और उत्तर प्रदेश से खासी संख्या में श्रद्धालुओं का आगमन हुआ है. पूरे वर्ष के पवित्र स्नान करने का यह सिलसिला इस महा स्नान के साथ संपन्न हो जाएगा. अब अगला स्नान पर्व नए वर्ष में मकर संक्रांति पर पड़ेगा. वहीं मंगलवार को ही गुरुनानक देव महाराज का प्रकाशोत्सव धूमधाम से मनाया जाएगा.

सरयू नदी में पवित्र स्नान

वहीं कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर धार्मिक नगरी अयोध्या में भी लाखों की संख्या में श्रद्धालु सरयू नदी में पवित्र स्नान के लिए पहुंचे हैं. सरयू के घाटों पर सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ देखी जा रही है. सूचना उपनिदेशक (अयोध्या मंडल) मुरलीधर सिंह ने बताया कि सरयू नदी में पवित्र स्नान सोमवार को शाम चार बजे से शुरू हो चुका है और यह मंगलवार की शाम तक चलेगा क्योंकि हिंदू कैलेंडर के हिसाब से पूर्णिमा सोमवार की शाम से लग चुकी है. कार्तिक पूर्णिमा स्नान के लिए देश के विभिन्न हिस्सों से श्रद्धालु यहां पहुंच रहे हैं.

नया घाट और राम की पौड़ी पर भीड़राम मंदिर मसले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर श्रद्धालुओं का यह सबसे बड़ा जमावड़ा है. नया घाट और राम की पौड़ी सहित अन्य घाटों पर लाखों श्रद्धालु स्नान करने पहुंचे हैं. कार्तिक पूर्णिमा स्नान को देखते हुए अयोध्या के जिला प्रशासन ने गत रविवार की शाम से ही यातायात संबंधी योजना जारी कर दी थी. जिला अधिकारी अनुज कुमार झा ने बताया कि कार्तिक पूर्णिमा के मौके पर अयोध्या में पांच लाख से अधिक श्रद्धालुओं के आने की उम्मीद है. सामान्य दिनों में यह संख्या लगभग 8000 होती है जबकि किसी त्योहार के मौके पर 50 हजार से अधिक श्रद्धालु यहां आते हैं.

30 मोबाइल शौचालय बनाए गए

अनुज कुमार झा ने बताया कि सुरक्षा को लेकर एहतियाती कदम उठाए गए हैं. यह सुनिश्चित करने का प्रयास भी किया जा रहा कि श्रद्धालुओं को किसी तरह की कोई समस्या न हो पाए और वह आराम से पूजा-अर्चना एवं दर्शन कर सकें. उन्होंने बताया कि लगभग 18 जगहों पर पानी के टैंकर रखे गए हैं, 20 मेडिकल कैंप लगाए गए हैं, एंबुलेंस तैयार है और 30 मोबाइल शौचालय भी बनाए गए हैं. सोमवार को बाहर से भी श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला जारी रहा था. हनुमान गढ़ी मंदिर में आम दिनों की तरह पूजा अर्चना की गई.

इसे भी पढ़ेंः जानें कार्तिक पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त और क्या है इसका धार्मिक महत्व

रास्तों पर जगह-जगह बैरियर लगाए गए

कनक भवन में भी श्रद्धालुओं ने पूजा की. हनुमानगढ़ी के पास छोटी-छोटी दुकानें खुली रहीं और लोग पूजन सामग्री, प्रसाद और अन्य सामान खरीदते दिखाई दिए. उन्होंने बताया कि सुरक्षा व्यवस्था हर जगह चाक-चौबंद है. हनुमानगढ़ी की ओर बढ़ने वाले रास्तों पर जगह-जगह बैरियर लगाए गए हैं. वाहनों का प्रवेश बंद कर दिया गया है. अयोध्या के चौक बाजार में दुकानें आम दिनों की तरह ही खुलीं और सड़क पर चहल-पहल नजर आ रही है. स्थानीय लोगों से बात करने पर यही प्रतिक्रिया मिली कि सब कुछ सामान्य है, अयोध्या में हिंदू और मुसलमान के बीच कहीं किसी तरह की कोई समस्या नहीं है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए धर्म से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 12, 2019, 10:03 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर